दांतों की वजह से भी हो सकता है जीभ का कैंसर | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

लाइफस्टाइल

दांतों की वजह से भी हो सकता है जीभ का कैंसर

Published

on

cancer
File Photo

देश में दांतों की सफाई के मामले में लापरवाही बरतने वालों की संख्या लगभग 4 से 5 प्रतिशत तक पाई गई है। जो लोग तंबाकू का किसी भी रूप में सेवन नहीं करते हैं, उनमें टूटे दांतों के बीच ठीक से सफाई न होने के कारण मुंह के कैंसर का जोखिम रहता है।

मुंह के अंदर त्वचा में लगातार जलन रहने या ऐसे दांतों की वजह से जीभ का कैंसर भी हो सकता है। आकड़े बताते हैं कि पिछले छह वर्षो में भारत में होंठ और मुंह के कैंसर के मामले दोगुने से अधिक हो गए हैं। हालत को रोकने के लिए खराब दांतों की स्वच्छता, टूटे हुए, तीखे या अनियमित दांतों की ओर ध्यान देना अनिवार्य है।

हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया (एचसीएफआई) के अध्यक्ष पद्मश्री डॉ. के.के. अग्रवाल कहते हैं कि तंबाकू के उपयोग से ओरल सबम्यूकस फाइब्रोसिस जैसे घाव हो सकते हैं, जो उपयोगकर्ता को मुंह के कैंसर के जोखिम में डाल सकते हैं। इसके अलावा यह उपयोगकर्ता के मुंह में अन्य संक्रमणों का भी कारण बन सकती है।

भारत में, धूम्र-रहित तंबाकू (एसएलटी) का उपयोग तंबाकू से होने वाली बीमारियों का प्रमुख कारण बना हुआ है, जिसमें ओरल कैविटी (मुंह), ईसोफेगस (भोजन नली) और अग्न्याशय का कैंसर शामिल है। एसएलटी न केवल स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है, बल्कि भारी आर्थिक बोझ का कारण भी बनता है।

उन्होंने कहा कि ओरल कैंसर के कुछ अन्य जोखिम कारकों में कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली, ओरल या अन्य किसी प्रकार के कैंसर का पारिवारिक इतिहास, पुरुष होना, ह्यूमन पैपिलोमा वायरस (एचपीवी) संक्रमण, लंबे समय तक धूप में रहने का जोखिम, आयु, मुंह की स्वच्छता में कमी, खराब आहार या पोषण, आदि शामिल हैं।

डॉ. अग्रवाल ने आगे कहा, “अरेका नट यानी छाली के साथ एसएलटी का उपयोग करना भारत में एक आम बात है और जैसा कि शुरुआत में कहा गया है, सुपारी क्विड और गुटखा, ये दो चीजें एसएलटी के आमतौर पर उपयोग किए जाने वाले रूपों में प्रमुख हैं। एरेका नट को क्लास वन कार्सिनोजेनिक या कैंसरकारी के रूप में वर्गीकृत किया गया है। साथ ही स्वास्थ्य पर इसके अन्य कई प्रतिकूल प्रभाव भी होते हैं।”

उनके कुछ सुझाव :

-तंबाकू का उपयोग न करें। यदि करते हैं, तो इस आदत को छोड़ने के लिए तत्काल कदम उठाएं।

-शराब का सेवन सीमित मात्रा में ही करें।

-धूप में लंबे समय तक न रहें, धूप में जाने से पहले 30 या उससे अधिक एसपीएफ वाले लिप बाम का उपयोग करें।

-जंक और प्रोसेस्ड फूड के सेवन से बचें या इसे सीमित करते हुए, बहुत सारे ताजे फल और सब्जियों सहित स्वस्थ आहार का सेवन करें।

-शॉर्ट-एक्टिंग निकोटीन रिप्लेसमेंट थेरेपी जैसे कि लोजेंज, निकोटीन गम आदि लेने की कोशिश करें।

-उन ट्रिगर्स को पहचानें, जो आपको धूम्रपान करने के लिए उकसाते हंै। इनसे बचने या इनके विकल्प अपनाने की योजना बनाएं।

-तंबाकू के बजाय शुगरलैस गम, हार्ड कैंडी, कच्ची गाजर, अजवाइन, नट्स या सूरजमुखी के बीज चबाएं।

-सक्रिय रहें। शारीरिक गतिविधि को तेज रखने के लिए बार-बार सीढ़ियों से ऊपर-नीचे जाएं, ताकि तंबाकू की तलब से बच सकें।

–आईएएनएस

लाइफस्टाइल

ठंडा पानी पीने से आपके शरीर को होते हैं ये नुकसान…

Published

on

File Photo

गर्मी के इस मौसम में पारा 45 के पार हो रहा है। बढ़ती गर्मी कई शहरों में लोगों के लिए जानलेवा बन रही है।

ऐसे में पीने के लिए ठंडा पानी अमृत से कम नहीं। इससे न सिर्फ कुछ वक्त के लिए गर्मी छूमंतर हो जाती है बल्कि गर्मी और लू से भी राहत मिल जाती है। लेकिन क्या आपको पता है कि ठंडा पानी आपकी सेहत को नुकसान भी पहुंचा सकता है? जी हां, पानी आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक है।

Image result for ठंडा पानी

आइए हम आपको बताते है की ठंडा पानी कैसे आपकी सेहत को नुकासन पहुंचता है…

1. पेट खराब

ठंडा पानी आपके पेट को नुकसान पहुंचाता है। इसे पीने से खाना पचाने में दिक्कत होती है। जिसकी वजह से पेट में दर्द, जी मचलना और पेट से अजीब आवाज़े आने की समस्या हो सकती है।

Image result for ठंडा पानी से  पेट में दर्द

इसकी वजह है ठंडे पानी का बाहर के टेम्परेचर के अलग होना, जिससे यह शरीर में पहुंच कर पेट में मौजूद खाने को पचाने में दिक्कत देता है। इसकी वजह से पेट में दर्द की शिकायत हो सकती है।

2. सिर दर्द

आपने ‘ब्रेन फ्रीज़’ के बारे में सुना होगा। यह बर्फ वाले पानी या फिर आइस क्रीम के ज्यादा सेवन से होता है। इसमें ठंडा पानी स्पाइन की सेंसेटिव नसों को ठंडा कर कर देता है, जिससे यह दिमाग पर असर डालती हैं। इसी वजह से सिर में दर्द होता है।

Image result for सिर दर्द

3. दिल की धड़कनें धीमा पड़ना

हमारे शरीर में वेगस (vagus nerve) नाम की नर्व होती है। इसे बॉडी की सबसे लंबी कार्निवल नर्व भी कहा जाता है, जो कि गर्दन से होते हुए हार्ट, लंग्स और डाइजेस्टिव सिस्टम को कंट्रोल करती है। जब भी आप ज्यादा ठंडा पानी पीते हैं तो ये नर्व ठंडी होकर हार्ट रेट को धीमा करती है, जब तक यह पानी आपके शरीर के अनुकूल ना हो जाए।

Image result for दिल की धड़कनें धीमा पड़ना

4. कब्ज़

रूम टेम्परेचर के हिसाब से पानी पीने पर कब्ज़ की परेशानी बहुत कम होती हैं, वहीं, ज्यादा ठंडा पानी खाना पचाने में दिक्कत लाता है। इसी वजह से सॉलिड फूड डाइजेस्ट होने में वक्त लेता है और कब्ज़ की परेशानी होती है।

Image result for कब्ज़

5. मोटापा बढ़ाए

ठंडा पानी आपके शरीर में जमे फैट को और सख्त बनाता है। इस वजह से फैट बर्न होने में दिक्कत होती है। अगर आप वज़न कम करने की सोच रहे हैं तो ठंडा पानी अवॉइड करें। क्योंकि यह वज़न घटाने की प्रक्रिया को आसान बल्कि और मुश्किल बनाएगा।

WeForNews

Continue Reading

लाइफस्टाइल

रसोईघर की कुछ चीजें करेंगी वजन घटाने में मदद

Published

on

File Photo

नई दिल्ली, क्या आप अपना वजन कुछ किलोग्राम घटाना चाहते हैं? तो आपको यहां-वहां देखने की जरूरत नहीं है, क्योंकि आपकी रसोईघर में ही कुछ ऐसे तत्व आपको मिल जाएंगे जो वजन कम करने में आपकी मदद करेंगे।

प्रतिष्ठित आयुर्वेदाचार्य और जीवा आयुर्वेद के निदेशक डॉ. परताप चौहान ने कहा, “आहार और व्यायाम वजन कम करने का स्वास्थ्यवर्धक जरिया है, लेकिन किसी को यह नहीं पता है कि उनकी रसोईघर में ही कुछ ऐसी चीजें हैं जो उनका वजन कुछ किलोग्राम तक कम करने में मदद कर सकता है। प्रतिदिन के आहार में रसोईघर के उन कुछ तत्वों को शामिल करना आपके वजन कम करने में काफी प्रभावी हो सकता है।”

उन्होंने रसोईघर में आसानी से मिलने वाले पांच तत्वों के बारे में बताया, जो आपके मेटाबॉलिज्म और पाचन को दुरुस्त करता है।

दालचीनी : आयुर्वेद में दालचीनी का प्रयोग इसके कीटाणुनाशक, जलन कम करने, एंटी-बैक्टिरियल गुणों के कारण किया जाता है। जब बात वजन कम करने की आती है, तो मीठी सुगंध वाला यह तत्व मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है, ब्लड शुगर और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है।

सुबह उठने के बाद सबसे पहले दालचीनी मिला पानी का सेवन करने से यह भूख कम करने में मदद करने के साथ बुरे कोलेस्ट्रॉल को भी कम करता है।

काली मिर्च : आयुर्वेद के अनुसार, काली मिर्च वजन कम करने में काफी प्रभावी है। यह शरीर के ब्लॉकेज को घटाता है, सर्कुलेशन को सुचारु करता है और मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है। यह शरीर को डिटॉक्स करने के साथ चर्बी को भी कम करता है।

अदरख : आयुर्वेद का यह जादुई तत्व मेटाबॉलिज्म को 20 प्रतिशत तक बढ़ा देता है, यह पेट को स्वस्थ रखता है, चर्बी को घटाता है और शरीर से टॉक्सिन को बाहर निकालता है। इसमें ज्वलन कम करने वाले और एंटी-बैक्टीरियल तत्व हैं। इसके निरंतर सेवन से न सिर्फ आपका वजन कम होता है, बल्कि यह आपके पूरे स्वास्थ्य को दुरुस्त रखता है।

नींबू : खाने में इस्तेमाल से या सलाद पर डालकर नींबू के सेवन से वजन काफी जल्द कम होता है। नींबू में विटामिन सी और घुलने वाली फाइबर की प्रचुर मात्रा होती है, जिससे कई स्वास्थयवर्धक फायदे होते हैं। नींबू से हृदय संबंधी बीमारी, एनीमिया, किडनी में पथरी, सुचारु पाचन और कैंसर में फायदा मिलता है।

शहद : बिस्तर पर जाने के ठीक पहले शहद के सेवन से नींद के शुरुआती घंटों में कैलोरी कम होती है। शहद में शामिल फायदेमंद हार्मोन से भूख कम लगती है और तेजी से वजन कम होता है। इसके इस्तेमाल से पेट की चर्बी आसानी से कम होती है।

–आईएएनएस

Continue Reading

लाइफस्टाइल

बदलते मौसम के साथ हुई मौसमी एलर्जी का करें तुरंत इलाज

Published

on

file photo

चाहे गर्मी से सर्दी में बदलता मौसम हो या सर्दी से गर्मी, बदलते मौसम के साथ नाक बहना और आंखों में जलन और छाती जमना ये आम बात होती है।

यह एलर्जी बहुत परेशान करने वाली होती है और अगर तुरंत इसका इलाज न किया जाए तो यह गंभीर रूप ले सकती है। ऐसे में बचाव के लिए सतर्कता जरूरी है। एलर्जी शरीर की रोग प्रतिरोधक प्रणाली के धूलकणों, परागकणों और जानवरों के रेशों के प्रति प्रतिक्रिया की वजह से होती है। इन कणों के प्रतिरोध की वजह से शरीर में हेस्टामाइन निकलता है जो तेजी से फैल कर एलर्जी के जलन वाले लक्षण पैदा करता है।

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के मनोनीत अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा कि एलर्जी के लक्षणों में जुकाम, आंखों में जलन, गला खराब होना, बहती या बंद नाक, कमजोरी और बुखार प्रमुख है। अगर समय पर इलाज न किया जाए तो यह हल्की एलर्जी साइनस संक्रमण, लिम्फ नोड संक्रमण और अस्थमा जैसी गंभीर समस्याएं पैदा कर सकती है।

इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि आपको किस चीज से एलर्जी है. तभी आप एलर्जी से बच सकते हैं और होने पर इलाज भी हो सकता है।

उन्होंने कहा कि एलर्जी की पहचान करने के लिए कई किस्म के टेस्ट किए जाते हैं। एलर्जी स्किन टेस्टिंग जांच का सबसे ज्यादा संवेदनशील तरीका है, जिसके परिणाम भी तुरंत आते हैं। जब स्किन टेस्ट से सही परिणाम न मिलें, तब सेरम स्पैस्फिक एलजीई एंटी बॉडी टेस्टिंग जैसे ब्लड टेस्ट भी तब किए जा सकते हैं।

डॉ. अग्रवाल ने कहा कि एलर्जी का सबसे बेहतर इलाज यही है कि जितना हो सके एलर्जी वाली चीजों से बचें। मौसमी एलर्जी बच्चों से लेकर किसी भी उम्र के लोगों को हो सकती है, लेकिन 6 से 18 साल के बच्चों को इससे प्रभावित होने की ज्यादा संभावना होती है।

ऐसे करें बचाव :

1. एलर्जी से बचने के लिए फ्लैक्स के बीज से प्राप्त होने वाले प्राकृतिक फैटी एसिड काफी मददगार साबित होते हैं। रेशा बनाने वाले पदार्थ जैसे कि दूध, दही, प्रोसेस्ड गेहूं और चीनी से परहेज करें। अदरक, लहसुन, शहद और तुलसी एलर्जी से बचाव करते हैं।

2. अगर आपको धूलकणों या धागे के रेशों से एलर्जी है तो हाईपो एलर्जिक बिस्तर खरीदें।

3. आसपास का माहौल धूल और प्रदूषण मुक्त रखें।

4. सीलन भरे कोनों में फफूंद और परागकणों को साफ करें।

5. बंद नाक और साइनस से आराम के लिए स्टीम इनहेलर का प्रयोग करें।

WeForNews 

Continue Reading
Advertisement
Congress
चुनाव7 hours ago

कांग्रेस की आयोग से शिकायत- ‘दिल्ली चुनाव का सांप्रदायीकरण कर रही भाजपा’

Imran Khan
अंतरराष्ट्रीय8 hours ago

जब इमरान ने कहा- ‘डॉक्टर ने ऐसा इंजेक्शन लगाया कि नर्से लगने लगीं हूर’

Oxford Hindi Word Of The Year
राष्ट्रीय8 hours ago

‘संविधान’ साल 2019 का ऑक्सफोर्ड हिंदी शब्द घोषित

Water-Tableau
राष्ट्रीय9 hours ago

जल शक्ति और एनडीआरएफ की झांकी को सर्वश्रेष्ठ पुरस्कार

Anurag Thakur and Pravesh Verma
राजनीति9 hours ago

अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा के खिलाफ सौंपी गई चुनाव आयोग को रिपोर्ट

sensex-min (1)
व्यापार9 hours ago

सेंसेक्स 188 अंक नीचे

nitish kumar
राजनीति9 hours ago

देशहित के बाहर नहीं जाना चाहिए: नीतीश

Ayushmann
मनोरंजन9 hours ago

मुझे गे रोल निभाने पर दोबारा सोचने को कहा गया था : आयुष्मान

टेक9 hours ago

सैमसंग गैलक्सी नोट को टक्कर देने तैयार ‘मोटोरोला स्टाइल्स’

PM Modi addresses at UNGA
राजनीति9 hours ago

खेती को लाभकारी बनाने पर सरकार का फोकस : मोदी

chili-
स्वास्थ्य4 weeks ago

हरी मिर्च खाने के 7 फायदे

punjabi suit
लाइफस्टाइल2 weeks ago

लोहड़ी के दिन पंजाबी सूट में दिखें आकर्षक

motapa-
स्वास्थ्य3 weeks ago

किशोरावस्था में वजन घटाने की सर्जरी हृदय रोग में मददगार

लाइफस्टाइल4 weeks ago

नियमित साइकिल चलाना तनाव घटाने में मददगार

Imli Rice-
लाइफस्टाइल3 weeks ago

घर में ऐसे बनाएं स्वादिष्ट इमली चावल…

Kindler-m
लाइफस्टाइल4 weeks ago

एक्स्ट्रा फैट करता है बच्चों की हड्डियां कमजोर

Vitamin-
स्वास्थ्य3 weeks ago

विटामिन A की कमी को ऐसे करें दूर…

लाइफस्टाइल4 days ago

बदलते मौसम के साथ हुई मौसमी एलर्जी का करें तुरंत इलाज

Ginger
लाइफस्टाइल2 weeks ago

इन सारी बीमारियों को झट से दूर करेगा अदरक

Cold
लाइफस्टाइल1 week ago

सर्दी-जुकाम से बचाव के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय…

Human chain Bihar against CAA NRC
शहर3 days ago

बिहार : सीएए, एनआरसी के खिलाफ वामदलों ने बनाई मानव श्रंखला

Sara Ali Khan
मनोरंजन1 week ago

“लव आज कल “में Deepika संग अपनी तुलना पर बोली सारा

मनोरंजन1 week ago

सैफ अली खान की बेटी होने के नाते मुझे गर्व है : Sara Ali Khan

Ayushmann Khurrana-min
मनोरंजन1 week ago

फिल्म ‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’ का ट्रेलर रिलीज

sidharth--
मनोरंजन2 weeks ago

Sidharth Malhota की बर्थडे पार्टी में शामिल हुए सितारे

मनोरंजन2 weeks ago

‘Jawaani Jaaneman’ उम्र को स्वीकारने के बारे में है : Saif Ali Khan

मनोरंजन2 weeks ago

‘Panga’ को प्रमोट करने खूबसूरत अंदाज में दिखी Kangana

मनोरंजन2 weeks ago

‘Tanaji:The Unsung Warrior’ की स्क्रीनिंग में पहुंचीं Sara और Nysa

shahrukh khan
मनोरंजन2 weeks ago

Kabir Khan की सीरीज ‘ Indian National Army ‘ में सुनाई देगी “King Khan” की आवाज

मनोरंजन2 weeks ago

मनोज नाथ का “बागेश्वर घूमेली” गाना रिलीज

Most Popular