Connect with us

स्वास्थ्य

रात में बच्चा गीला कर देता है बिस्तर? करें ये उपाय

फाइल फोटो

Published

on

छोटे बच्चे अक्सर बिस्तर पर टॉयलेट कर देते हैं लेकिन बड़े होने के साथ ही उनकी यह आदत खुद-ब-खुद चली जाती है। लेकिन कुछ बच्चे बड़े होने के बाद भी सोते वक्त बिस्तर गीला करते हैं। हालांकि कम लोग इस बारे में जानते हैं कि बच्चे का बेड पर टॉयलेट करना वास्तव में एक तरह की समस्या है।

Image result for BABY

कई बार यह समस्या खानपान की वजह से होती है तो कई बार गलत आदत के फलस्वरूप भी। ऐसे में कुछ आदतों को सुधारकर आप इस समस्या से राहत पा सकते हैं।

रात में बच्चा गीला कर देता है बिस्तर? करें ये आसान उपाय

1. हर रात को सोने से पहले बच्चे को अजवायन का चूर्ण खिलाएं। कुछ दिनों तक लगातार इस उपाय को करने से फायदा होगा।

रात में बच्चा गीला कर देता है बिस्तर? करें ये आसान उपाय

2. मुनक्के को काली मिर्च के साथ खिलाने पर भी फायदा होता है।

रात में बच्चा गीला कर देता है बिस्तर? करें ये आसान उपाय

3. इस समस्या में रोज रात को सोने से पहले किशमिश और अखरोट का सेवन करने से भी फायदा मिलता है।

रात में बच्चा गीला कर देता है बिस्तर? करें ये आसान उपाय

4. जामुन के बीज को सुखाकर पीस लें। रोज रात को सोने से पहले बच्चे को कुछ मात्रा में इसका चूर्ण दें। ऐसा करना फायदेमंद रहता है। इन सभी घरेलू उपायों के साइडइफेक्ट तो नहीं हैं लेकिन फिर भी चिकित्सक की सलाह जरूर ले लें।

स्वास्थ्य

‘मां बनने में बाधक हो सकती है डायबिटीज’

Published

on

चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि अगर महिला डायबिटीज से पीड़ित है और अगर उसकी डायबिटीज कंट्रोल में नहीं है तो मां और गर्भस्थ शिशु दोनों के लिए कई समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। इसके कारण गर्भपात हो सकता है।

विशेषज्ञों का कहना है कि ऐसी स्थिति में अगर जन्म लेने वाले बच्चे का आकार सामान्य से बड़ा है तो सी-सेक्शन आवश्यक हो जाता है। इसके अलावा बच्चे के लिए जन्मजात विकृतियों की आशंका बढ़ जाती है। मां और बच्चे दोनों के लिए संक्रमण का खतरा भी बढ़ जाता है।

विश्व मधुमेह दिवस (14 नवम्बर) के अवसर पर इंदिरा आईवीएफ हॉस्पिटल की गॉयनोकोलॉजिस्ट एवं आईवीएफ स्पेशलिस्ट डॉ. सागरिका अग्रवाल ने कहा, “अपने देश में यह बीमारी खानपान, जेनेटिक और हमारे इंटरनल आर्गन्स में फैट की वजह से होती है। गर्भवती महिलाओं को ग्लूकोज पिलाने के दो घंटे बाद ओजीटीटी (ओरल ग्लूकोज टॉलरेंस टेस्ट) किया जाता है, ताकि जेस्टेशनल डायबिटीज का पता चल सके।”

उन्होंने कहा, “यह जांच प्राय: गर्भावस्था के 24 से 28 हफ्तों के बीच होती है, दो हफ्ते बाद पुन: शुगर की जांच की जाती है। पाया गया कि इस दौरान 10 फीसदी अन्य महिलाओं में जेस्टेशनल डायबिटीज ठीक नहीं हुई थी। इन महिलाओं को इंसुलिन देकर बीमारी कंट्रोल कर ली जाती है। ऐसा कर मां के साथ ही उनके शिशु को भी इस बीमारी के खतरे से बचाया जा सकता है।”

डॉ. सागरिका ने कहा, “डायबिटीज के टाइप वन में इंसुलिन का स्तर कम हो जाता है और टाइप टू में इंसुलिन रेजिस्टेंस हो जाता है और दोनों में ही इंसुलिन का इंजेक्शन लेना जरूरी होता है। इससे शरीर में ग्लूकोज का स्तर सामान्य बना रहता है। गर्भधारण के लिए इंसुलिन के एक न्यूनतम स्तर की आवश्यकता होती है और टाइप वन डायबिटीज की स्थिति में इंसुलिन का उत्पादन करने वाली कोशिकाएं नष्ट हो जाती हैं। इस स्थिति में गर्भधारण से मां और बच्चे दोनों के लिए खतरा हो सकता है। दोनों की सेहत पर इसका विपरीत प्रभाव पड़ता है।”

उन्होंने कहा कि दूसरी ओर टाइप 2 डायबिटीज में शरीर रक्तधाराओं में ग्लूकोज के स्तर को सामान्य बनाए नहीं रख पाता, क्योंकि शरीर में पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन का निर्माण नहीं हो पाता। इस स्थिति से निपटने के लिए आहार में परिवर्तन किया जा सकता है और नियमित रूप से व्यायाम का अभ्यास करने से भी इंसुलिन के स्तर को सामान्य बनाया जा सकता है।

डॉ. सागरिका ने कहा कि गर्भावस्था के 12वें हफ्ते में अधिकांश महिलाओं को अतिरिक्त 300 कैलोरी की आवश्यकता हर दिन होती है। साथ ही साथ प्रोटीन की मात्रा में भी पर्याप्त वृद्धि करनी होती है। खुद को सक्रिय बनाए रखना इस दौरान काफी अहम होता है। स्वीमिंग, वॉकिंग या साइकलिंग जैसे कार्डियोवेस्कुलर एक्सरसाइज इस दौरान फिट रहने में मदद करते हैं, लेकिन किसी भी एक्टिविटी को शुरू करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लें। साथ ही कुछ छोटी-छोटी आदतों में बदलाव करके भी इस दौरान स्वस्थ रहा जा सकता है, जैसे हर जगह गाड़ी चलाकर जाने की बजाय थोड़ा पैदल चलने की आदत डालें, लंबे समय तक बैठकर या लेटकर टीवी देखने या कंप्यूटर पर काम करने से बचें।

–आईएएनएस

Continue Reading

स्वास्थ्य

कोलेस्ट्राल नियंत्रण से अल्जाइमर का खतरा कम!

Published

on

bhulne
File Photo

कोलेस्ट्राल की मात्रा शरीर में नियंत्रित रहने से अल्जाइमर रोग होने का खतरा कम रहता है। शोधकर्ताओं ने स्मरण शक्ति में ह्रास और हृदय रोग के बीच आनुवंशिक संबंधों का पता लगाया है।

शोध में 15 लाख लोगों के डीएनए की जांच के बाद पता लगाया गया है कि हृदय रोग होने यानी ट्राइग्लिसराइड एवं कोलेस्ट्राल स्तर (एचडीएल, एलडीएल और कुल कोलेस्ट्राल) बढ़ने से अल्जाइमर का खतरा रहता है। हालांकि ऐसे जीन जो बॉडी मास इंडेक्स और टाइप-2 डायबिटीज का खतरा बढ़ाते हैं, उनका संबंध अल्जाइमर का खतरा बढ़ाने में नहीं पाया गया।

वाशिंगटन यूनिवसिर्टी के स्कूल ऑफ मेडिसिन के सहायक प्रोफेसर सेलेस्टे एम. कार्च ने कहा, “जो जीन लिपिड मेटाबालिज्म को प्रभावित करता है, उसका संबंध अल्जाइमर रोग बढ़ाने के कारक के रूप में पाया गया है।”

स्कूल ऑफ मेडिसिन के सहायक प्रोफेसर राहुल एस. देसिकन ने कहा कि इस तरह सही जीन और प्रोटीन को अगर लक्षित किया जाए और कोलेस्ट्राल एवं ट्राइग्लिसराइड को नियंत्रित रखा जाए तो कुछ लोगों में अल्जाइमर के खतरे को कम किया जा सकता है।

शोध में यह पाया गया कि डीएनए का जो अंश हृदय रोग का खतरा बढ़ाता है, वह अल्जाइमर रोग का खतरा बढ़ाने के लिए जिम्मेदार है। यह शोध एक्टा न्यूरोपैथोलोजिका में प्रकाशित हुआ है।

–आईएएनएस

Continue Reading

स्वास्थ्य

पर्यावरण प्रदूषण से अस्थमा मरीजों की संख्या 3 गुना बढ़ी : विशेषज्ञ

वायु प्रदूषण बेहद घातक होने के कारण कई तरह की बीमारियां और यहां तक कि अपंगता भी हो सकती है। यह ब्रोंकोस्पाज्म, साइनुसाइटिस, सांस की बीमारियों का कारण बन सकता है। सांस के साथ अधिक मात्रा में कार्बन के शरीर में जाने से व्यक्ति थकान महसूस करने लगता है।

Published

on

HEALTH CARE

नोएडा, 10 नवंबर | दिल्ली-एनसीआर में हवा की गुणवत्ता बेहद खराब हो गई है। हवा गुणवत्ता सूचकांक के अनुसार नोएडा में हवा की गुणवत्ता गिर कर 444 एक्यूआई के गंभीर स्तर पर आ गई है। इसका बुरा असर लोगों के स्वास्थ्य पर पड़ रहा है। सांस की बीमारियों, आंखों और त्वचा के संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, और अस्थमा के मरीजों की संख्या तीन गुना बढ़ गई है। नोएडा के जेपी अस्पताल में पल्मोनरी एण्ड क्रिटिकल केयर मेडिसिन विभाग के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. ज्ञानेन्द्र अग्रवाल ने कहा इस मौसम में प्रदूषण के इस स्तर के कारण अस्थमा के मरीजों की संख्या तीनगुना बढ़ गई है और यह संख्या और यदि प्रदूषण में सुधार नहीं हुआ तो यह संख्या और भी बढ़ सकती है।

उन्होंने कहा, “ऐसे समय में यथासंभव घर के अंदर ही रहें। आउटडोर गतिविधियां जैसे रनिंग, जॉगिंग, साइक्लिंग, जिम आदि न करें। नवम्बर से जनवरी के बीच सुबह के समय घर से बाहर न जाएं। धूल की एलर्जी से बचने के लिए अपने मुंह को रूमाल से ढक कर रखें।”

उन्होंने कहा, “अस्थमा के मरीज अपने साथ हमेशा इन्हेलर रखें। अच्छी गुणवत्ता का मास्क पहनें, जो पीएम 2.5 को फिल्टर कर सके, ताकि आपके फेफड़ों पर स्मॉग का असर न हो। सांस लेने में परेशानी हो तो भाप लें। विटामिन सी, ई और बीटा-कैरोटीन का सेवन करें, इससे बीमारियों से लड़ने की क्षमता बढ़ती है। अगर आपको कोई भी परेशानी हो तुरंत डॉक्टर की सलाह लें।”

डॉ. अग्रवाल ने कहा, “वायु प्रदूषण बेहद घातक होने के कारण कई तरह की बीमारियां और यहां तक कि अपंगता भी हो सकती है। यह ब्रोंकोस्पाज्म, साइनुसाइटिस, सांस की बीमारियों का कारण बन सकता है। सांस के साथ अधिक मात्रा में कार्बन के शरीर में जाने से व्यक्ति थकान महसूस करने लगता है।”

डॉ. अग्रवाल ने कहा कि घर के भीतर की हवा को साफ करने के लिए प्राकृतिक एयर-प्यूरीफाइंग पौधे लगा सकते हैं, जैसे मनी प्लांट, एलो वेरा और स्पाइडर प्लांट। ये सभी पौधे अपने आस-पास की हवा को साफ करते हैं। घर में केमिकल फ्रेशनर या क्लीनर का इस्तेमाल न करें, इसके अलावा बंद कमरे में मोमबत्ती या धुंए वाली चीजें न जलाएं।

उन्होंने कहा कि घर की खिड़कियों को खोल कर रखें, ताकि हवा का सुगम संचार होता रहे और एसी के फिल्टर को नियमित रूप से साफ करें, ताकि कमरे में आने वाली हवा में धूल न हो।

डॉ. अग्रवाल ने कहा कि घरों में अच्छे एयर प्यूरीफायर का इस्तेमाल कर सकते हैं, और कार में बैठने से पहले कुछ देर के लिए खिड़कियां खोल दें, ताकि ताजा हवा भीतर आ जाए। कार के एसी को इन्डोर मोड में रखें।

उन्होंने कहा कि इन दिनों विटामिन सी, मैग्नीशियम और ओमेगा फैटी एसिड से युक्त फलों का सेवन करें, तथा पर्याप्त मात्रा में पानी पीएं।

–आईएएनएस

Continue Reading
Advertisement
कच्चे तेल का मूल्य
व्यापार2 mins ago

एमसीएक्स पर साढ़े सात फीसदी लुढ़का कच्चा तेल

Chhath Puja
राष्ट्रीय7 mins ago

उगते सूर्य को अर्घ्य देने के साथ छठ का समापन

shashi tharoor
राजनीति10 mins ago

नेहरू की वजह से ‘चायवाला’ बन पाया प्रधानमंत्री: शशि थरूर

sensex-min (1)
व्यापार25 mins ago

हरे निशान में खुले शेयर बाजार

fbi..
अंतरराष्ट्रीय51 mins ago

अमेरिका में नफरत भरे अपराधों में 17 फीसदी की वृद्धि: एफबीआई

election-commission-min
राष्ट्रीय56 mins ago

कैराना उपचुनाव: मतगणना में धांधली पर हटाए गए शामली के डीएम

vir-das
मनोरंजन1 hour ago

नेटफ्लिक्स के कॉमेडी शो में नजर आएंगे वीर दास

kailash new
मनोरंजन1 hour ago

कैलाश सत्यार्थी पर बनी डॉक्यूमेंट्री का ट्रेलर जारी

suicide
शहर1 hour ago

जवाहर लाल नेहरू स्‍टेडियम के होस्‍टल में एथलीट ने की आत्‍महत्‍या

Jawaharlal Nehru
राष्ट्रीय1 hour ago

पं. नेहरू की जयंती पर सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह ने दी श्रद्धांजलि

jeans
लाइफस्टाइल4 weeks ago

जानिए जीन्स का इतिहास, इसमें छुपे एक-एक राज…

Modi Shah
ब्लॉग4 weeks ago

गोवा में एक बार फिर राजनीति का सबसे घिनौना चेहरा सामने है!

mahesh bhatt
ब्लॉग4 weeks ago

‘मी टू मूवमेंट’ का एकजुट होकर समर्थन करना चाहिए : महेश भट्ट

unemployment in India
ब्लॉग4 weeks ago

नई नौकरियां नहीं पैदा हुई, देश में बढ़ी बेरोजगारी दर

jan-dhan-bank-
ब्लॉग4 weeks ago

‘आयुष्मान योजना काफी नहीं, लोगों को मिले स्वास्थ्य का अधिकार’

Sleep
लाइफस्टाइल3 weeks ago

सुबह बिस्तर से उठने का मन नहीं करता, तो हो सकती है ये बीमारी

Whatsapp-
टेक1 week ago

वॉट्सऐप में जुड़ा नया फीचर, कर सकेंगे प्राइवेट रिप्लाई

yoga1
अंतरराष्ट्रीय3 weeks ago

‘चीन में किशोरावस्था से लोग करते हैं योग’

Manoj Nath Myar Madhuli Wana
मनोरंजन4 days ago

लेटेस्ट कुमाऊनी गीत ‘म्यर मधुली वाना’ रिलीज

oily-skin--
लाइफस्टाइल4 weeks ago

वायु प्रदूषण पहुंचा रहा त्वचा को नुकसान

kailash new
मनोरंजन1 hour ago

कैलाश सत्यार्थी पर बनी डॉक्यूमेंट्री का ट्रेलर जारी

SHIVRAJ
राजनीति23 hours ago

वोट मांगने गई शिवराज की पत्नी को महिला ने सुनाई खरी खोटी…देखें वीडियो

kedatnath-
मनोरंजन2 days ago

सुशांत की फिल्म ‘केदारनाथ’ का ट्रेलर रिलीज

Manoj Nath Myar Madhuli Wana
मनोरंजन4 days ago

लेटेस्ट कुमाऊनी गीत ‘म्यर मधुली वाना’ रिलीज

शहर1 week ago

गुजरात के गांधीनगर सचिवालय में तेंदुआ घुसने से मचा हड़कंप

राजनीति1 week ago

दो से ज्यादा बच्चे पैदा करे उसे न हो मतदान का अधिकार: रामदेव

Rajniknat-
मनोरंजन2 weeks ago

अक्षय और रजनीकांत की फिल्म ‘2.0’ का ट्रेलर रिलीज

Patna
शहर2 weeks ago

पटना में महिला पुलिसकर्मी की मौत पर फूटा गुस्सा

kapil sibal
राजनीति2 weeks ago

कोर्ट फैसला करेगा कि अयोध्‍या केस की सुनवाई कब हो: सिब्‍बल

शहर2 weeks ago

लंदन में दिवाली से पहले यूं जश्न मनाती दिखीं महिलाएं

Most Popular