Connect with us

शहर

SC के आदेश के बावजूद जमकर फूटे पटाखे, दिल्ली की हवा हुई ‘जहरीली’

Published

on

Delhi
फोटो-ANI

पिछले कई दिनों से दिल्ली में प्रदूषण की वजह से हालात बेहद खराब बने हुई हैं। दिवाली की रात से हवा और भी खतरनाक हो गई है।

गुरुवार  को जारी एयर क्वॉलिटी इंडेक्स में दिल्ली की हवा ‘खतरनाक’ स्तर पर पहुंच गई है। इसके एक बड़ी वजह रही पटाखों को लेकर सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन का उल्लंघन। बुधवार शाम से सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ जाकर तय समय से पहले और बाद में भी दिल्ली-एनसीआर में लोगों ने जमकर पटाखे फोड़े। इससे हवा में प्रदूषण का स्तर ओर बढ़ गया है।

एयर क्वॉलिटी इंडेक्स (एक्यूआई) के मुताबिक, आनंद विहार में प्रदूषण का स्तर 999, अमेरिकी राजदूतावास, चाणक्यपुरी में 459 और मेजर ध्यानचंद नेशनल स्टेडियम में एक्यूआर 999 रहा। प्रदूषण का यह स्तर ‘खतरनाक’ श्रेणी में आता है। एक्यूआई के मुताबिक, लोधी रोड इलाके में पीएम2.5 और पीएम10 का स्तर 500 दर्ज किया गया।

एक दिन पहले दिल्ली की हवा ‘बेहद खराब’ श्रेणी में दर्ज की गई। राष्ट्रीय राजधानी के कई इलाके में लोगों ने रात आठ से दस बजे के बीच पटाखा फोड़ने के लिए सुप्रीम कोर्ट की ओर से तय की गई समय-सीमा का उल्लंघन किया। मेजर ध्यानचंद स्टेडियम (इंडिया गेट) के आसपास पीएम 2.5 का स्तर सामान्य से 30 गुना ज्यादा और पीएम 10 का स्तर 20 गुना ज्यादा दर्ज किया गया।

यह वीवीआईपी इलाका है जहां राष्ट्रपति भवन, संसद और कई हाई प्रोफाइल लोगों के आवास हैं। वजीरपुर में 2.5 का स्तर 18 गुना और पीएम 10 12 गुना ज्यादा दर्ज किया गया। इसी तरह जहांगीरपुरी में 2.5 17 गुना और पीएम 10 12 गुना ज्यादा दर्ज किया गया। आरकेपुरम में 2.5 अभी भी 11 गुना ज्यादा और पीएम 10 8 गुना ज्यादा बना हुआ है।दिल्ली में बुधवार रात दस बजे एक्यूआई 296 दर्ज किया गया। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के अनुसार शाम सात बजे एक्यूआई 281 था।

रात आठ बजे यह बढ़कर 291 और रात नौ बजे यह 294 हो गया। हालांकि, केंद्र की ओर से चलाए गए सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (सफर) ने समग्र एक्यूआई 319 दर्ज किया जो ‘बेहद खराब’ की श्रेणी में आता है। सुप्रीम कोर्ट ने दिवाली और अन्य त्योहारों के मौके पर रात आठ से 10 बजे के बीच ही फटाखे फोड़ने की इजाजत दी थी। कोर्ट ने सिर्फ ‘ग्रीन पटाखों’ के निर्माण और बिक्री की इजाजत दी थी।

ग्रीन पटाखों से कम प्रकाश और आवाज निकलती है और इसमें कम हानिकारक केमिकल होते हैं। कोर्ट ने पुलिस से इस बात को तय करने को कहा था कि प्रतिबंधित पटाखों की बिक्री नहीं हो और किसी भी उल्लंघन की दशा में संबंधित थाना के एसएचओ को व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार ठहराया जाएगा और यह कोर्ट की अवमानना होगी।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद राष्ट्रीय राजधानी के कई इलाकों से उल्लंघन किए जाने की खबरें मिली हैं। सफर ने गुरुवार को हवा की क्वॉलिटी ‘खराब’ श्रेणी में रहने का अनुमान जताया जबकि इस साल 2017 के मुकाबले कम हानिकारक पटाखे छोड़े गए। उसने यह भी कहा कि प्रदूषण का स्तर गुरुवार को सुबह 11 बजे और रात तीन बजे के बीच चरम पर रहेगा।

WeForNews

शहर

उत्तराखंड में बर्फबारी, बद्रीनाथ के दर्शन में बढ़ा रोमांच

Published

on

Snowfall

उत्तराखंड की पहाड़ियों में पिछले 24 घंटों में बर्फबारी और राज्य के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश हुई है। मौसम विभाग के अधिकारियों ने  यह जानकारी दी।

बुधवार से बद्रीनाथ की पहाड़ियों, गंगोत्री और यमुनोत्री में लगातार बर्फबारी हो रही है और तापमान शून्य से नीचे गिर गया है। पौड़ी, रुद्रप्रयाग, चमोली और उत्तरकाशी में भी हल्की बारिश हुई है। क्षेत्रीय मौसम कार्यालय ने भविष्यवाणी की है कि यह सर्दियों की शुरुआत है।

देहरादून में गुरुवार को न्यूनतम तापमान 11 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जबकि अधिकतम तापमान 26 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है। राज्य के कुछ स्थानों में बादल छाए रह सकते हैं। मसूरी में न्यूनतम तापमान 7.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जबकि अधिकतम तापमान 16.7 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है।

जाहिर है ऐसी बर्फबारी में बाबा के दर्शन हो जाएं तो खुद को कौन भाग्यशाली नहीं मानेगा। 20 नवंबर को भगवान बद्रीनाथ के कपाट बंद होने हैं। ऐसे में बचे हुए पांच दिनों भी ज्यादा से ज्यादा दर्शन दर्शनों का लाभ ले लेना चाहते हैं। बदले मौसम ने श्रद्धालुओं के इस अनुभव को और दिव्य बना दिया है।

क्या मंदिर, क्या मकान, क्या गाड़ी , क्या रास्ते सब कुछ बर्फ की मोटी चादर में छिप गए हैं। समूची घाटी में बर्फीली हवाओं के सितम ने लोगों को अलाव की शरण लेने को मजबूर कर दिया है। पूरी बद्रीपुरी बर्फीली ठंड को झेल रही है. तापमान की बात करें तो यहां पर पारा सवेरे के वक्त माइनस 2 डिग्री से लेकर 5 डिग्री सेल्सियस तक लुढ़का रहता है। बर्फबारी भले ही यहां आने वालों के लिए नजारे को खूबसूरत बनाती हो पर स्थानीय निवासियों के लिए परेशानियां लेकर आई है।

WeForNews

Continue Reading

शहर

दिल्ली में धुंध भरी रही सुबह, वायु गुणवत्ता ‘खराब’

Published

on

Air quality
फोटो--आईएएनएस

राष्ट्रीय राजधानी में धुंध छाई रही। यहां का न्यूनतम तापमान मौसम के औसत तापमान से तीन डिग्री ऊपर 16.2 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया।

मौसम विभाग ने कहा कि दिन में आसमान साफ रहेगा। वायु गुणवत्ता व मौसम पूर्वानुमान व अनुसंधान प्रणाली (सफर) के अनुसार, बीती रात हुई बूंदा-बादी से प्रदूषण स्तर में गिरावट आई है और वायु गुणवत्ता की श्रेणी ‘खराब’ दर्ज की गई।

भारत मौसम विभाग (आईएमडी) अधिकारी ने कहा, दिन में आसमान के साफ रहने की उम्मीद है। राजधानी में बीते 24 घंटे में 1.4 मीमी बारिश दर्ज की गई। अधिकतम तापमान 28 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की संभावना है।

राजधानी में गुरुवार की सुबह 8.30 बजे आद्र्रता 88 फीसदी रही। राष्ट्रीय राजधानी का बुधवार को अधिकतम तापमान 28.5 डिग्री सेल्सियस जबकि न्यूनतम तापमान, मौसम के औसत से चार डिग्री ऊपर 17.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।

–आईएएनएस

Continue Reading

शहर

मनाली में मौसम की पहली बर्फबारी, देखें तस्वीरे

Published

on

हिमाचल प्रदेश के मनाली और नारकंडा में बीती रात बर्फबारी हुई। दोनों जगहों पर यह मौसम की पहली बर्फबारी है।

मौसम विभाग के निदेशक मनमोहन सिंह ने कहा कि पर्यटन रिसॉर्ट मनाली में न्यूनतम तापमान शून्य से 1.2 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया है। इसके आसपास के पहाड़ी इलाकों में मध्यम बर्फबारी हुई।

उन्होंने कहा कि दर्शनीय स्थल कल्पा में सात सेमी बर्फबारी हुई। उन्होंने कहा, “लाहौल स्पीति के ऊंचाई वाले इलाकों, चंबा, कुल्लू व किन्नौर जिलों में गुरुवार सुबह से बर्फबारी हो रही है।”


लाहौल व स्पीति जिले का केलोंग सबसे ठंडा रहा यहां तापमान शून्य से 3.3 डिग्री सेल्सियस नीचे रहा जबकि कल्पा में तापमान शून्य से 0.8 डिग्री नीचे धर्मशाला में 8.8 डिग्री व शिमला में 3.3 डिग्री सेल्सियस रहा।

बर्फबारी की खबर आने के बाद से पर्यटक मनाली व आसपास के पहाड़ी इलाकों में पहुंचना शुरू हो गए हैं। धर्मशाला व पालमपुर में भी बर्फबारी हुई है। अन्य पहाड़ी गंतव्यों शिमला, कुफरी, धर्मशाला, नाहन, चंबा व मंडी में बारिश हुई है।

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular