Connect with us

राष्ट्रीय

जानिये, अगली पंक्ति के कांग्रेसी नेता एनडी तिवारी भीड़ में कैसे हुए गुम

Published

on

nd tiwari
ऐसा भी वक्‍त आया, जब एनडी तिवारी सियासी मंच पर अलग-थलग पड़ गए। (फाइल फोटो)

कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता नारायण दत्‍त (एनडी) तिवारी अगली कतार के नेताओं में शुमार रहे। गुरुवार (18 अक्‍टूबर) को उनका दिल्ली के साकेत स्थित मैक्स हॉस्पिटल में निधन हो गया। कांग्रेस में एक लम्‍बी पारी खेलने के बाद एक ऐसा भी वक्‍त आया, जब वे अचानक अलग-थलग पड़ गए।

जब देश को अंग्रेजों से मुक्‍त कराने का आंदोलन चरम था, तब एनडी तिवारी भी उसमें शामिल थे। 1942 में वे जेल भी गये। आजादी के वक्त तिवारी इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्र संघ के अध्यक्ष थे।

एनडी तिवारी ने कांग्रेस के साथ लम्‍बी राजनीतिक पारी खेली। कांग्रेस में वे संगठन से लेकर सरकारों में महत्वपूर्ण भूमिकाओं में रहे। इलाहाबाद छात्र संघ के पहले अध्यक्ष से लेकर केंद्र में योजना आयोग के उपाध्यक्ष, उद्योग, वाणिज्य पेट्रोलियम, विदेश और वित्त मंत्री के रूप में तिवारी के कामों की सराहना की गई।

जब देश को आजादी मिली तो पहले विधानसभा चुनावों में तिवारी ने नैनीताल से सोशलिस्ट पार्टी के बैनर तले चुनाव लड़ा था और कांग्रेस के खिलाफ जीत हासिल की थी। तिवारी ने 1963 में कांग्रेस ज्वाइन की थी। साल 1965 में तिवारी पहली बार मंत्री बने थे। तिवारी तीन बार यूपी और एक बार उत्तराखंड की सत्ता संभाल चुके हैं।

नारायण दत्‍त तिवारी की कांग्रेस में एक बड़ी शख्सियत के तौर पर पहचान थी। उन्‍हें एक जनवरी 1976 को पहली बार यूपी के मुख्यमंत्री बने। साल 1977 में हुए जेपी आंदोलन की वजह से 30 अप्रैल को उनकी सरकार को इस्तीफा देना पड़ा था। एनडी तिवारी तीन बार यूपी के मुख्यमंत्री रहे। उत्तर प्रदेश के विभाजन के बाद वे उत्तराखंड के भी मुख्यमंत्री बने।

बता दें कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 1991 में हत्या के बाद कांग्रेस में प्रधानमंत्री पद के लिए तिवारी का नाम भी चर्चा में आया था। हालांकि नैनीताल सीट से लोकसभा का चुनाव वो जीत नहीं सके, जिसके चलते वो प्रधानमंत्री नहीं बन पाये। ऐसे में वीपी नरसिम्हा राव ने बाजी मार ली थी।

कांग्रेस पार्टी की कमान जब गांधी परिवार के हाथों से निकली तो वह पार्टी में अलग थलग पड़ गए थे। इसी का नतीजा था कि तिवारी ने 1995 में कांग्रेस से अलग होकर अपनी पार्टी बनाई लेकिन सफल नहीं रहे। कांग्रेस की कमान जब सोनिया के हाथों में आई तो पार्टी बनाने के दो साल बाद ही उन्होंने घर वापसी की।

कांग्रेस की तत्कालीन अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अलग ढंग से उनका पुनर्वास किया। पहले उत्तराखंड में मुख्यमंत्री बनाकर भेजा फिर 2007 में पार्टी चुनाव हारी तो तिवारी का पुनर्वास आंध्रप्रदेश के राज्यपाल के रूप में कर दिया गया लेकिन सेक्स सीडी सामने आने के बाद कांग्रेस ने उन्हें राज्यपाल के पद से हटा दिया था। इस तरह से एक बड़े राजनेता के जीवन में ऐसा भी वक्‍त आया जब वे सियासी गलियारों रुखसत हो गये।

WeForNews

राष्ट्रीय

अमेरिकी हैकर का दावा- 2014 के आम चुनाव में हैक हुई थीं ईवीएम!

Published

on

evm-hacking-london
लंदन में बैठे हैकर ने ईवीएम को लेकर खुलासा किया। (फोटो: एनडीटीवी)

2014 के आम चुनाव में इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) की हैकिंग को लेकर खुलासा हुआ है। लंदन में एक क्लोज इवेंट में एक अमेरिकी हैकर ने यह दावा किया। यूरोप में इंडियन जर्नलिस्ट एसोसिएशन (आईजेए) ने इवेंट का आयोजन किया। भारतीय मूल के इस अमेरिकी हैकर का नाम सैयद सूजा बताया जा रहा है।

हैकर ने दावा किया कि 2014 के चुनावों में हैकिंग हुई थी। हैकर ने बताया कि 2015 के दिल्ली चुनावों में उसकी टीम ने ईवीएम की हैकिंग को रोका था, वरना आम आदमी पार्टी की जगह बीजेपी की जीत होती।

हैकर ने दावा किया है कि सीनियर जर्नलिस्ट गौरी लंकेश उनकी स्टोरी चलाने के लिए तैयार हुई थीं लेकिन उनकी हत्या कर दी गई। हैकर ने खुलासा किया कि बीजेपी सिनीयर लीडर गोपीनाथ मुंडे की ‘हत्या’ की गई, क्योंकि उन्हें इस बारे में सब कुछ पता था।

हैकर सैयद सूजा कौन है और उनके दावों में कितनी सच्चाई है इसके बारे में फिलहाल कुछ साफ नहीं कहा जा सकता। हैकर दावा कर रहा है वो इलेक्ट्रॉनिक्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड का पूर्व कर्मचारी भी रह चुका है। बता दें कि इलेक्ट्रॉनिक्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड का ईवीएम डिजाइन में सहयोग रहता है।

हैकर का दावा है कि इस गड़बड़ी में बीजेपी सहित कई राजनीतिक दल शामिल हैं।

WeForNews

Continue Reading

राष्ट्रीय

जांच में खुलासा- ‘भय्यूजी को खुदकुशी के लिए अपनों ने किया मजबूर’

Published

on

Bhaiyyu Ji Maharaj
आध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज (फाइल फोटो)

इंदौर। मध्य प्रदेश ही नहीं महाराष्ट्र, राजस्थान और गुजरात में ‘राष्ट्रसंत’ कहलाने वाले उदय सिंह देशमुख उर्फ भय्यूजी महाराज आत्महत्या मामले में कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आने लगे हैं। उन्हें आत्महत्या के लिए गैरों ने नहीं, बल्कि अपनों ने मजबूर किया, जिनकी नजर उनकी संपत्ति पर थी। पुलिस जांच में यह खुलासा हुआ है। भय्यूजी महाराज ने 12 जून 2018 को गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। घटना के बाद बेटी कुहू और दूसरी पत्नी आयुषी के बीच विवाद को प्रचारित किया गया था, ताकि इस दुखद घटना के लिए उन्हें ही जिम्मेदार मान लिया जाए। मगर वक्त गुजरने के साथ जो तथ्य सामने आए हैं, वे चौंकाने वाले हैं। उनके सबसे करीबी ही उनकी जान के दुश्मन निकले।

केयर टेकर बनी पलक पुराणिक जहां भय्यूजी को अपना जीवन साथी बनाना चाहती थी, वहीं सेवादार उनकी संपत्ति पर कब्जे की साजिश रचे हुए थे। पुलिस के अनुसार, “भय्यूजी महाराज आत्महत्या मामले में सेवादार शरद देशमुख व विनायक दुधाले और केयर टेकर से प्रेमिका बनी पलक पुराणिक को गिरफ्तार किया जा चुका है। इन तीनों पर भय्यूजी को आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगा है।” इंदौर के पुलिस उप महानिरीक्षक (डीआईजी) हरि नारायणचारी मिश्रा ने माना कि भय्यूजी महाराज को अपनों द्वारा ब्लैकमेल किए जाने के चलते आत्महत्या करनी पड़ी। विनायक, शरद व पलक इस साजिश के अहम किरदार थे।

पलक भय्यू महाराज से शादी करना चाहती थी और विनायक व शरद उनका साथ दे रहे थे। डीआईजी ने कहा, “तीनों ने उन्हें ब्लैकमेल किया, जिसके चलते भय्यूजी महाराज ने आत्महत्या जैसा कदम उठाया। पुलिस को मोबाइल चैट से भी इसके सबूत मिले हैं।” पुलिस के अनुसार, “भय्यूजी महाराज की पहली पत्नी माधवी की मौत के बाद पलक को केयर टेकर के तौर पर रखा गया था, वक्त गुजरने के साथ पलक की उनसे नजदीकी बढ़ी।

इसी दौरान भय्यू महाराज ने डॉ. आयुषी से विवाह किया, तो पलक व अन्य ने उन्हें ब्लैकमेल करने की चेतावनी दी। पलक ने जून, 2018 के अंत तक शादी करने का अल्टीमेटम दिया था। इसी के चलते उन्होंने 12 जून, 2018 को खुद को गोली मार ली।” पुलिस को जांच में सबूत मिले हैं कि तीनों मिलकर उन्हें ब्लैकमेल करते थे। कई अश्लील वीडियो चेट भी मिले है। जांच में पता चला कि पलक व विनायक उन्हें दवाएं देते थे, जिनमें शारीरिक तौर पर कमजोर करने की भी दवाएं होती थीं।

–आईएएनएस

Continue Reading

राष्ट्रीय

मथुरा के जवाहर बाग हिंसा मामले में 45 दोषियों को 3 साल की कैद

Published

on

Mathura
फाइल फोटो

साल 2016 में उत्तर प्रदेश के मथुरा के जवाहर बाग हिंसा के मामले में एक अदालत ने 45 आरोपियों को दोषी करार दिया गया है, वही सभी को अधिकतम 3 साल की कैद की सजा सुनाई है। वहीं मुख्य आरोपी चंदन बोस, उसकी पत्नी पूनम बोस और अन्य महिला श्यामवती को बरी कर दिया गया है।

गौरतलब है कि 2 जून 2016 को रामवृक्ष यादव द्वारा कब्जा किये गए जवाहर बाग को खाली कराने के दौरान हिंसा भड़क गई थी। रामवृक्ष यादव के समर्थकों ने जवाहर बाग खाली करा रहे पुलिस पर हमला कर दिया था। इसी दौरान एसपी (सिटी) मुकुल द्विवेदी और एसओ संतोष कुमार यादव समेत 29 लोगों की मौत हो गई थी।

WeForNews

Continue Reading
Advertisement
evm-hacking-london
राष्ट्रीय9 hours ago

अमेरिकी हैकर का दावा- 2014 के आम चुनाव में हैक हुई थीं ईवीएम!

Total Dhamaal-
मनोरंजन11 hours ago

फिल्म ‘टोटल धमाल’ का ट्रेलर रिलीज

मनोरंजन12 hours ago

भोपाल से करीना को कांग्रेस का उम्मीदवार बनाने की उठी मांग

Bhaiyyu Ji Maharaj
राष्ट्रीय12 hours ago

जांच में खुलासा- ‘भय्यूजी को खुदकुशी के लिए अपनों ने किया मजबूर’

arun jaitley
व्यापार12 hours ago

अंतरिम बजट पेश करने अमेरिका से वापस लौटेंगे जेटली

bihar police-min
शहर12 hours ago

बिहार में शराब के साथ 5 पुलिसकर्मी गिरफ्तार

abhishek manu singhvi
राजनीति12 hours ago

इस बार लड़ाई मोदी बनाम भारत है: कांग्रेस

Kirron Kher
राजनीति12 hours ago

चंडीगढ़ की सड़कों पर किरण खेर का पोस्टर लगाकर लिखा ‘द एक्सीडेंटल एमपी’

Mathura
राष्ट्रीय13 hours ago

मथुरा के जवाहर बाग हिंसा मामले में 45 दोषियों को 3 साल की कैद

Serena Williams-
खेल13 hours ago

आस्ट्रेलियन ओपन : हालेप को हरा सेरेना अंतिम-8 में

Siddhartha Nath
शहर2 weeks ago

राममंदिर पर शीघ्र निर्णय दे न्यायालय : सिद्धार्थ नाथ

health Issue
Viral सच2 weeks ago

जहां 40 की उम्र में आता है बुढ़ापा

rahul gandhi
राजनीति4 weeks ago

‘फोटो खिंचवाने के बजाय खनिकों को बचायें मोदी’

Abhishek-Manu-Singhvi
राजनीति3 weeks ago

जेटली बने राफेल डिफेंसिव मिनिस्‍टर, 72% बढ़े बैंक फ्रॉड: सिंघवी

kapil sibal
राष्ट्रीय2 weeks ago

CBDT सर्कुलर ने नेशनल हेराल्ड मामले में सरकार को किया बेनकाब : कपिल सिब्बल

टेक3 weeks ago

गूगल डुओ में ग्रुप चैट, लो लाइट मोड जल्द : रिपोर्ट

heart
लाइफस्टाइल4 weeks ago

सर्दियों में ऐसे रखें अपने दिल का ख्याल

GST
ब्लॉग3 weeks ago

GST ने मोदी राज के तमाम झूठ की पोल खोली

Rafale in Supreme Court
ब्लॉग3 weeks ago

सुप्रीम कोर्ट में ही हादसे का शिकार हुई राफ़ेल की सच्चाई

Kader-Khan-Twitter
मनोरंजन3 weeks ago

काबुल से कनाडा तक ऐसा रहा कादर खान का सफरनामा…

Total Dhamaal-
मनोरंजन11 hours ago

फिल्म ‘टोटल धमाल’ का ट्रेलर रिलीज

sunil-shetty
मनोरंजन2 days ago

प्रियदर्शन की पीरियड थ्रिलर फिल्म में एक योद्धा नजर आएंगे सुनील शेट्टी

Shakeela-
मनोरंजन3 days ago

‘पापी पप्पी’ से लेकर ‘ठरकी स्कूटर’ तक ये हैं शकीला के 12 बोल्ड पोस्टर्स…

Priya Prakash
मनोरंजन7 days ago

प्रिया प्रकाश की फिल्म ‘श्रीदेवी बंग्लो’ का टीजर जारी

Makar Sankranti 2019
राष्ट्रीय7 days ago

कुंभ में पहला शाही स्नान शुरू

Game of Thrones
मनोरंजन1 week ago

Game of Thrones सीजन 8 का टीजर जारी

BIHAR
शहर1 week ago

वीडियो: देखें, बिहार में रंगदारों का आतंक

Ranveer Singh-
मनोरंजन2 weeks ago

रणवीर की फिल्म ‘गली बॉय’ का ट्रेलर’ रिलीज

Nageshwar Rao
राष्ट्रीय2 weeks ago

आंध्र यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर बोले- टेस्ट ट्यूब बेबी थे कौरव

Vikram Saini
राजनीति3 weeks ago

बीजेपी विधायक बोले- ‘असुरक्षित महसूस करने वालों को बम से उड़ा दूंगा’

Most Popular