कोविड-19 : चुनाव आयोग ने सुझाव भेजने की अंतिम तिथि बढ़ाई | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

चुनाव

कोविड-19 : चुनाव आयोग ने सुझाव भेजने की अंतिम तिथि बढ़ाई

Published

on

Election Commission

नई दिल्ली: चुनाव आयोग ने कोरोना महामारी को देखते हुए चुनाव प्रबंधन को लेकर कार्यदलों (कार्य समूहों) की सिफारिशों पर सुझाव और टिप्पणियां भेजने की अंतिम तारीख बढ़ा दी है।

आयोग ने कोविड-19 के प्रसार को कम करने के लिए लॉकडाउन उपायों की पृष्ठभूमि में नागरिकों से टिप्पणियां और सुझाव प्राप्त करने की अवधि एक महीने तक बढ़ा दी।

आयोग ने आज यहां जारी विज्ञप्ति में कहा है कि कोई भी नागरिक इन सिफारिशों पर अपनी राय या सुझाव 30 अप्रैल तक भेज सकता है। पहले 31 मार्च तक राय और सुझाव भेजे जा सकते थे।

दरअसल, देश में कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन के मद्देनजर आयोग से समय सीमा का विस्तार करने के लिए मांग की जा रही थी, जिसके बाद निर्धारित तारीख को आगे बढ़ा दिया गया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा घातक कोरोनावायरस संक्रमण के प्रसार की श्रृंखला को तोड़ने के लिए 24 मार्च की आधी रात को 21 दिन का राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन लगा दिया गया था।

आयोग ने कहा, देश में कोविड-19 को रोकने के लिए लॉकडाउन के उपायों की वर्तमान स्थिति को देखते हुए समय-सीमा का विस्तार करने के लिए कुछ अभिवेदन मिले हैं। आयोग ने इस पर विचार किया है और टिप्पणी प्राप्त करने की समय सीमा को बढ़ाकर 30 अप्रैल, 2020 कर दिया है।

चुनाव आयोग ने सात मार्च को निर्वाचन प्रबंधन के विभिन्न पहलुओं पर कार्य समूहों की मुख्य सिफारिश पर नागरिकों और हितधारकों से 31 मार्च तक टिप्पणी और सुझाव आमंत्रित किए थे।

चुनाव आयोग ने लोकसभा चुनाव के बाद कुल नौ कामकाजी समूहों की स्थापना की थी। इसकी स्थापना मतदाता सूची के मुद्दों, मतदान केंद्र प्रबंधन, चुनाव खर्च, आदर्श आचार संहिता और मतदान प्रक्रियाओं जैसे विभिन्न विषयों पर सुझाव देने के लिए की गई थी।

इन समूहों में आयोग के वरिष्ठ अधिकारी और विभिन्न राज्यों के मुख्य निर्वाचन अधिकारी सदस्य हैं।

–आईएएनएस

चुनाव

पंजाब में निकाय चुनाव की घोषणा, 14 फरवरी को होगा मतदान, 17 फरवरी को आएंगे नतीजे

Published

on

election

पंजाब में आठ नगर  निगमों और 109 नगर परिषदों और नगर पंचायतों की आम/उपचुनाव की समय-सारणी का एलान हो गया है।

इसके साथ ही राज्य के सभी चुनावी हलकों में आदर्श चुनाव आचार संहिता तुरंत प्रभाव से लागू हो गई है। यह जानकारी के राज्य चुनाव आयुक्त, जगपाल सिंह संधू ने दी।

नगर निगम फगवाड़ा के ई.आर.ओ. द्वारा तैयार की गई वोटर सूचियों में कमियां सामने आई हैं, जिस कारण वोटर सूचियां दोबारा तैयार करने के उपरांत ही नगर निगम फगवाड़ा के चुनाव करवाए जाएंगे। संधू ने कहा कि नामांकन भरने की प्रक्रिया 30 जनवरी 2021 से शुरू होगी और 3 फरवरी 2021 नामांकन  भरने की अंतिम तारीख होगी।

नामांकन की पड़ताल 4 फरवरी 2021 को की जाएगी, जबकि नामांकन वापस लेने की तारीख 5 फरवरी 2021 है और इसी तारीख को  उम्मीदवारों को चुनावी निशान अलॉट किए जाएंगे।

चुनाव प्रचार तारीख 12 फरवरी 2021 को शाम पांच बजे तक किया जा सकेगा। वोट डालने का कार्य तारीख  14 फरवरी 2021 को सुबह आठ बजे से शाम 4 बजे तक होगा। वोटों की गिनती 17 फरवरी 2021 को की जाएगी। चुनाव करवाने के लिए रिटर्निंग अफसर और 145 सहायक रिटर्निंग अफसर नियुक्त किए गए हैं। इन चुनावों को निष्पक्ष और पारदर्शी ढंग से पूरा करने के लिए 30 आई.ए.एस./पी.सी.एस. को चुनाव पर्यवेक्षक और 6 आई.पी.एस. अधिकारियों को पुलिस पर्यवेक्षक नियुक्त किया गया है। 

राज्य में 20,49,777 पुरुष, 18,65,354 महिला और 149 ट्रांसजैंडर वोटरों के साथ कुल 39,15,280 रजिस्टर्ड वोटर हैं। चुनाव आयोग द्वारा 4102 पोलिंग बूथ स्थापित किए गए हैं और 18000 कर्मचारियों की चुनावी ड्यूटी लगाई जाएगी। यह चुनाव ईवीएम के द्वारा होंगे। इसके लिए 7000 ईवीएम का प्रबंध किया गया है।

राज्य चुनाव आयुक्त ने बताया कि नगर निगम के उम्मीदवार के लिए व्यय की सीमा 3 लाख रुपये, नगर परिषद क्लास-1 के उम्मीदवार के लिए 2.70 लाख रुपये, क्लास-2 के लिए 1.70 लाख रुपये्, क्लास-3 के लिए 1.45 लाख रुपये और नगर पंचायतों के उम्मीदवारों के लिए व्यय सीमा 1.05 लाख रुपये निर्धारित की गई है।

Continue Reading

चुनाव

बंगाल में सीटों की मात्रा के बजाय गुणवत्ता पर ध्यान केंद्रित करेगी कांग्रेस : सूत्र

कांग्रेस और वाम दलों को इस बार कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि पिछले पांच वर्षों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने राज्य में खुद को मजबूत किया है। भगवा पार्टी ने राज्य में 18 लोकसभा सीटें जीती हैं, जबकि राज्य में वाम दल अपना खाता भी नहीं खोल सके थे।

Published

on

Congress protest Flag

नई दिल्ली, 16 जनवरी । पश्चिम बंगाल में कांग्रेस आगामी चुनावों के लिए वाम दलों के साथ सीट साझा करने को लेकर बातचीत में लगी हुई है, जबकि तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने वाम दलों और कांग्रेस से हाथ मिलाने को लेकर दिलचस्पी दिखाई है।

हालांकि कांग्रेस और वाम दल टीएमसी की अनदेखी कर रहे हैं। कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने ममता बनर्जी को सोनिया गांधी से बात करने की सलाह दी है।

सीटों के बंटवारे के समझौते पर सूत्रों ने कहा कि कांग्रेस का मुख्य ध्यान सीटों की गुणवत्ता पर होगा न कि बिहार में इसके विपरीत सीटों की मात्रा पर, जहां पार्टी ने कई सीटों पर चुनाव लड़ा, लेकिन उसे महज 19 सीटों पर ही जीत हासिल हो पाई थी।

कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों के लिए वाम दलों के साथ सीटों पर समझौते के लिए एक समिति का गठन किया है। समिति में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी, सीएलपी नेता अब्दुल मनन, पूर्व राज्य प्रमुख प्रदीप भट्टाचार्य और नेपाल महतो शामिल हैं।

समिति ने ऐसी सीटों की पहचान की है, जहां उसका आधार मजबूत हो सकता है। इसके बाद पार्टी सभी संभावनाओं के साथ वाम दलों से बातचीत कर रही है। समिति के सदस्यों में से एक ने कहा, हम केवल मजबूत सीटों पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं।

बिहार चुनाव के नतीजों ने पार्टी को अधिक सीटें मिलने की संभावनाएं कम कर दी हैं। बिहार में कांग्रेस स्ट्राइक रेट को बरकरार नहीं रख सकी थी। कांग्रेस को उम्मीद के मुताबिक जीत नहीं मिला, जिसकी कीमत राजद गठबंधन को चुकानी पड़ी।

लेकिन कांग्रेस के सूत्रों का कहना है कि बिहार के नतीजों का पश्चिम बंगाल पर कोई असर नहीं पड़ेगा, क्योंकि हर राज्य अलग है और 2016 के विधानसभा चुनाव में वाम दलों ने अधिक सीटों पर चुनाव लड़ा था, लेकिन वह कांग्रेस ही थी जो 44 सीटों के साथ दूसरे स्थान पर रही थी।

कांग्रेस और वाम दलों को इस बार कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि पिछले पांच वर्षों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने राज्य में खुद को मजबूत किया है। भगवा पार्टी ने राज्य में 18 लोकसभा सीटें जीती हैं, जबकि राज्य में वाम दल अपना खाता भी नहीं खोल सके थे।

294 सदस्यीय पश्चिम बंगाल विधानसभा के मई के आसपास चुनाव होने वाले हैं।

Continue Reading

चुनाव

कोरोना टीकाकरण: चुनाव आयोग ने अपने डाटा का इस्तेमाल करने की अनुमति दी, रखी ये शर्त

Published

on

Election Commission

चुनाव आयोग कोरोना टीकाकरण अभियान के लिए बूथ स्तर पर लाभार्थियों की पहचान करने में सरकार की पूरी सहायता करेगा, लेकिन आयोग चाहता है कि टीकाकरण अभियान समाप्त होने के बाद स्वास्थ्य अधिकारी ये डाटा मिटा दें। सूत्रों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।

सूत्रों ने कहा कि पिछले वर्ष 31 दिसंबर को केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा को पत्र लिखकर आग्रह किया था कि आयोग बूथ स्तर पर 50 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों की पहचान करने में मदद करे।

डाटा सुरक्षा के मुद्दे पर गृह सचिव ने लिखा था कि साइबर सुरक्षा के लिए सरकार वर्तमान में जारी बेहतर व्यवस्था का अनुपालन कर रही है। सूत्रों ने कहा कि उन्होंने चुनाव आयोग को आश्वस्त किया है कि केवल टीकाकरण के लिए डाटा का इस्तेमाल किया जाएगा।

सूत्रों ने कहा कि चुनाव आयोग ने विस्तृत विचार-विमर्श के बाद चार जनवरी को गृह सचिव को लिखा कि उसने टीकाकरण अभियान में पूरी सहायता करने का निर्णय किया है। साथ ही सरकार से कहा कि यह सुनिश्चित किया जाये कि डाटा का इस्तेमाल पूरी तरह से केवल टीकाकरण उद्देश्य के लिए किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि आयोग ने कहा है कि टीकाकरण अभियान समाप्त होते ही स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा डाटा को मिटा दिया जाना चाहिए। सूत्रों ने बताया कि चुनाव आयोग के कुछ वरिष्ठ अधिकारी केंद्रीय गृह मंत्रालय और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के नोडल अधिकारियों के संपर्क में रहेंगे ताकि रोजाना के मुद्दों का समाधान किया जा सके।
चुनाव आयोग के बूथ स्तर तक ठोस नेटवर्क को देखते हुए पिछले महीने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और नीति आयोग के अधिकारियों ने चुनाव आयोग के शीर्ष अधिकारियों से मुलाकात की थी और कोविड-19 टीका के वितरण में उनका सहयोग मांगा था। सूत्रों ने कहा कि बैठक के बाद गृह सचिव ने पत्र लिखा था।

कोविड-19 टीकाकरण अभियान के दिशानिर्देशों के मुताबिक लोकसभा और विधानसभा चुनावों की नवीनतम मतदाता सूची का इस्तेमाल 50 वर्ष से अधिक उम्र के प्राथमिकता वाली आबादी का पता लगाने में किया जाएगा। लाभार्थियों की पहचान के लिए मतदाता पहचान पत्र, आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट और पेंशन दस्तावेज सहित 12 पहचान पत्रों की आवश्यकता होगी।

सरकार के मुताबिक, सबसे पहले करीब एक करोड़ स्वास्थ्यकर्मियों और अग्रिम मोर्चे के दो करोड़ कर्मियों को टीका दिया जाएगा। इसके बाद 50 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों और फिर अन्य बीमारियों से ग्रस्त 50 वर्ष से कम उम्र के लोगों को टीका दिया जाएगा।

स्वास्थ्यकर्मियों और अग्रिम मोर्चे के कार्यकर्ताओं के टीकाकरण का खर्च केंद्र सरकार उठाएगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 16 जनवरी को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से भारत के कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम की शुरुआत करेंगे।

Continue Reading
Advertisement
राष्ट्रीय8 hours ago

प्रियंका गांधी ने कांग्रेस सांसदों के लिए प्रदर्शन स्थल पर भेजा घर का खाना

Supreme Court
राष्ट्रीय8 hours ago

किसान संगठन की सुप्रीम कोर्ट से गुहार, गठित समिति से बाकी सदस्‍यों को हटाकर नए लोगों का हो चयन

P Chidambaram
राजनीति8 hours ago

कृषि कानूनों पर अपनी गलती मान ले मोदी सरकार : चिदंबरम

राजनीति9 hours ago

अगर वैक्सीन है विश्वसनीय तो किसी प्रमुख नेता ने क्यों नहीं लगवाई : मनीष तिवारी

Azam Khan
राष्ट्रीय9 hours ago

आजम खान को झटका, यूपी सरकार के नाम होगी जौहर यूनिवर्सिटी की 70 हेक्टेयर जमीन

budget
व्यापार9 hours ago

बजट 2021 में लग सकता है कोरोना का झटका, अमीरों पर ‘कोविड सेस’ लगाने की तैयारी

election
चुनाव9 hours ago

पंजाब में निकाय चुनाव की घोषणा, 14 फरवरी को होगा मतदान, 17 फरवरी को आएंगे नतीजे

Somnath Bharti
राजनीति10 hours ago

यूपी: AAP विधायक सोमनाथ भारती को मिली जमानत, लेकिन अभी जेल में ही रहना होगा

राजनीति10 hours ago

केरल के कांग्रेसी नेता दिल्ली में सोनिया से मुलाकात करेंगे

WHO Tedros Adhanom Ghebreyesus
अंतरराष्ट्रीय10 hours ago

डब्ल्यूएचओ को उम्मीद, अगले 100 दिनों में हर देश में होगा कोविड टीकाकरण

Astrology Horoscope
ब्लॉग4 weeks ago

Rashifal 22 December: इस राशि के लोगों के बन सकते हैं रुके काम, देखें अपना राशिफल

sensex
ब्लॉग4 weeks ago

Market Watch: विदेशी संकेतों से तय होगी घरेलू शेयर बाजार की चाल

Vaccine
ब्लॉग4 weeks ago

हैदराबाद : भारत की वैक्सीन राजधानी

rahul-sonia
ब्लॉग4 weeks ago

कांग्रेस बैठक में वेणुगोपाल, सुरजेवाला की गैरमौजूदगी क्या कोई संदेश है?

Rahul gandhi
ब्लॉग3 weeks ago

Covid-19 lockdown के दौरान सबसे अधिक मददगार लोकसभा सांसदों में राहुल गांधी

rape case
ब्लॉग4 weeks ago

बिहार : जनवरी से सितंबर के बीच रोजाना 4 दुष्कर्म/सामूहिक दुष्कर्म के मामले

GOOGLE
टेक4 weeks ago

अमेरिका: 30 राज्यों में सर्च परिणामों में गड़बड़ी, गूगल पर मुकदमा दर्ज

Shamsur Rahman Faruqi
ब्लॉग3 weeks ago

उर्दू जगत के मशहूर कवि Shamsur Rahman Faruqi का निधन, अपने घर पर ली आखिरी सांस

Mirza Ghalib
ब्लॉग3 weeks ago

Mirza Ghalib: मिर्जा गालिब के वो जबरदस्त शेर जो अमर हैं

Migrant workers
लाइफस्टाइल4 weeks ago

कोविड के दौर में छात्रों को चिड़चिड़ापन, बेचैनी व घबराहट से बचाने की पहल

taj mahal
अन्य2 weeks ago

ताजमहल में लहराया भगवा झंडा, लगे जय श्री राम के जयकारे

Farmers-Protest
राजनीति1 month ago

मध्य प्रदेश के कृषि मंत्री पटेल का विवादित बयान: कुकुर मुत्ते की तरह उगे किसान संगठन, विदेशों से हो रही फंडिंग

lucky ali
ज़रा हटके1 month ago

लकी अली ने भीड़ में बैठकर गुनगुनाया, वीडियो वायरल

robbery at gunpoint
शहर1 month ago

बिहार: दरभंगा में 5 करोड़ के गहनों की लूट

Rahul Gandhi with Opp Leaders
राष्ट्रीय1 month ago

राष्ट्रपति से मिलने के बाद राहुल गांधी बोले – सरकार कृषि कानून को वापस ले

Viral Video Tere Ishq Me
Viral सच2 months ago

प्यार में युवती को मिला धोखा तो प्रेमी के घर के सामने डीजे लगाकर ‘तेरे इश्क में नाचेंगे’ पर जमकर किया डांस, देखें Viral Video

Faisal Patel
राजनीति2 months ago

फैसल पटेल ने पिता Ahmed Patel की याद में भावनात्मक वीडियो शेयर कर जताया शोक

8 suspended Rajya Sabha MPs
राजनीति4 months ago

रात में भी संसद परिसर में डटे सस्पेंड किए गए विपक्षी सांसद, गाते रहे गाना

Ahmed Patel Rajya Sabha Online Education
राष्ट्रीय4 months ago

ऑनलाइन कक्षाओं के लिए गरीब छात्रों को सरकार दे वित्तीय मदद : अहमद पटेल

Sukhwinder-Singh-
मनोरंजन5 months ago

सुखविंदर की नई गीत, स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर देश को समर्पित

Most Popular