Connect with us

व्यापार

कपास की बुवाई सुस्त, 49 फीसदी घटा रकबा

Published

on

kapas--
File Photo

मानसून समय से पहले आने और उपज का बेहतर दाम मिलने के बावजूद चालू सत्र में कपास की बुवाई सुस्त पड़ गई है।

देशभर में अब तक महज 63 लाख हेक्टेयर में कपास की बुवाई हो पाई है जबकि पिछले साल 123 लाख हेक्टेयर से ज्यादा कपास का रकबा हो चुका था। जानकार बताते हैं कि पिछले साल महाराष्ट्र और तेलंगाना में पिंक बॉलवर्म के प्रकोप में कपास की फसल खराब हो गई थी।

जिसकी वजह से शायद कपास की खेती में किसानों की दिलचस्पी कम हो गई हो। वहीं पंजाब में बासमती की खेती में किसानों की दिचलस्पी ज्यादा होने से कपास का रकबा लक्ष्य से कम है। लेकिन हरियाणा में लक्ष्य से ज्यादा कपास का रकबा हो चुका है।

हालांकि कई लोग बताते हैं कि कपास का न्यूनतम समर्थन मूल्य सरकार ने 1130 रुपये प्रति क्विंटल बढ़ा दिया है। इससे किसानों की दिलचस्पी बढ़ जाएगी और आने वाले दिनों में कपास के रकबे में सुधार आएगा। इसके अलावा मानसून समय से पहले आने के बावजूद बीते हफ्ते तक मानसून की रफ्तार सुस्त थी जिसने अब जोड़ पकड़ा है।

गुजरात के सौराष्ट्र में देर से बारिश शुरू हुई है और विदर्भ में भी पिछले दिनों हुई बारिश के बाद कपास की बुवाई में तेजी आएगी। देशभर में 10 जून 2018 तक कपास का रकबा चालू सीजन 2018-19 में महज 63.08 लाख हेक्टेयर था जबकि इसी अवधि में पिछले साल कपास का रकबा 123.50 लाख हेक्टेयर था।

इस प्रकार पिछले साल के मुकाबले कपास का रकबा 48.92 फीसदी पिछड़ा हुआ है। उत्तर भारत में पंजाब में 2.85 लाख हेक्टेयर, हरियाणा में 6.65 लाख हेक्टेयर, गुजरात में 11.44 लाख हेक्टेयर महाराष्ट्र में 19.57 लाख हेक्टेयर, मध्यप्रदेश में 4.87 लाख हेक्टेयर तेलंगाना में 8.8 लाख हेक्टेयर आंध्रप्रदेश में 0.79 लाख हेक्टेयर, तमिलनाडु में 0.032 लाख हेक्टेयर, ओडिशा में 0.076 लाख हेक्टेयर, कर्नाटक में 2.22 लाख हेक्टेयर और अन्य प्रांतों में 0.172 लाख हेक्टेयर में कपास की खेती हुई है।

केंद्र सरकार ने पिछले सप्ताह मध्यम रेशा वाले कपास का एमएसपी 4020 रुपसे से बढ़ाकर 5150 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया और लंबे रेशा वाले कपास का एमएसपी 4,320 से बढ़ाकर 5,450 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया।

–आईएएनएस

व्यापार

हरे निशान में खुले शेयर बाजार

Published

on

sensex-min (1)

देश के शेयर बाजारों में मजबूती का रुख है।

प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स सुबह 10 बजे 15.35 अंकों की बढ़त के साथ 35,159.84 पर और निफ्टी भी लगभग इसी समय 5.65 अंकों की मजबूती के साथ 10,588.15 पर कारोबार करते देखे गए।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 185.65 अंकों की मजबूती के साथ 35330.14 पर जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 52.4 अंकों की बढ़त के साथ 10,634.90 पर खुला।

–आईएएनएस

Continue Reading

व्यापार

Flipkart के सीईओ का इस्तीफा

Published

on

Smiley-Flipkart-

फ्लिपकार्ट के को-फाउंडर और सीईओ बिन्नी बंसल ने कंपनी से इस्तीफा दे दिया है। वॉलमार्ट के मुताबिक जांच के चलते बिन्नी बंसल ने इस्तीफा दिया। वहीं बिन्नी बंसल ने जांच के कारण इस्तीफे की बात को नकारा है।

कृष्णमूर्ति फ्लिपकार्ट के CEO पद पर बने रहेंगे। दरअसल बिन्नी बंसल पर निजी तौर पर गड़बड़ी करने का आरोप लगा है। फ्लिपकार्ट ने कहा है उनका इस्तीफा तुरंत स्वीकार कर लिया गया है। वॉलमार्ट ने एक बयान में कहा है कि जांच में बिन्नी के खिलाफ सबूत नहीं मिले।

हालांकि इस दौरान बिन्नी ने जिस तरह से व्यवहार किया इसमें खामियां मिली हैं। इसमें पारदर्शिता की कमी थी। इसी कारण उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया गया। अब इसमें मिंत्रा और जबॉन्ग को भी शामिल कर दिया गया है। अनंत नारायण मिंत्रा और जबॉन्ग सीईओ बने रहेंगे पर वो कृष्णमूर्ति को रिपोर्ट करेंगे।

वहीं समीर निगम फोन पे के सीईओ बने रहेंगे। कल्याण और समीर दोनों बोर्ड को रिपोर्ट करेंगे। इससे पहले मई में वॉलमार्ट ने फ्लिपकार्ट को 1.05 लाख करोड़ रुपए (16 अरब डॉलर) में खरीदा था। वॉलमार्ट का फ्लिपकार्ट में 77 फीसदी हिस्सा है। इस डील में दूसरे को-फाउंडर सचिन बंसल को अपना 5.5 फीसदी हिस्सा बेचना पड़ा था।

इसके बाद वो कंपनी से बाहर हो गए थे। अब दोनों की को-फाउंडर की फ्लिपकार्ट से विदाई हो चुकी है। सचिन बंसल और बिन्नी बंसल ने 2007 में बेंगलुरू में फ्लिपकार्ट की स्थापना की। दोनों 2005 में आईआईटी दिल्ली में मिले थे और अमेजन में साथ काम किया था। उन्होंने ऑनलाइन किताबें बेचने से कारोबार शुरू किया था। इनकी कंपनी ने जॉन वुड्स की ‘लीविंग माइक्रोसॉफ्ट टू चेंज दी वर्ल्ड’ पहली किताब के तौर पर बेची थी।

WeForNews

Continue Reading

व्यापार

शेयर बाजारों में तेजी, सेंसेक्स 332 अंक ऊपर

Published

on

sensex-min

देश के शेयर बाजारों में तेजी रही। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 331.50 अंकों की तेजी के साथ 35,144.49 पर और निफ्टी 100.30 अंकों की तेजी के साथ 10,582.50 पर बंद हुआ।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 33.2 अंकों की तेजी के साथ 34846.19 पर खुला और 331.50 अंकों या 0.95 फीसदी तेजी के साथ 35,144.49 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में सेंसेक्स ने 35,187.75 के ऊपरी स्तर और 34,672.20 के निचले स्तर को छुआ।

सेंसेक्स के 30 में से 26 शेयरों में तेजी रही। आईसीआईसीआई बैंक (2.44 फीसदी), एनटीपीसी (2.36 फीसदी), एक्सिस बैंक (2.05 फीसदी), रिलायंस (1.93 फीसदी) और लार्सन एंड टूब्रो (1.77 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही।

सेंसेक्स के गिरावट वाले शेयरों में शामिल रहे -सन फार्मा (4.72 फीसदी), टाटा मोटर्स (3.31 फीसदी), पॉवरग्रिड (0.94 फीसदी) और इंडसइंड बैंक (0.49 फीसदी)। बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में भी तेजी रही। बीएसई का मिडकैप सूचकांक 45.99 अंकों की तेजी के साथ 14,853.54 पर और स्मॉलकैप सूचकांक 28.83 अंकों की तेजी के साथ 14,578.29 पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 30.3 अंकों की गिरावट के साथ 10,451.90 पर खुला और 100.30 अंकों या 0.96 फीसदी तेजी के साथ 10,582.50 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में निफ्टी ने 10,596.25 के ऊपरी और 10,440.55 के निचले स्तर को छुआ।

बीएसई के 19 में से 16 सेक्टरों में तेजी रही। ऊर्जा (1.91 फीसदी), तेल और गैस (1.80 फीसदी), पूंजीगत वस्तुएं (1.25 फीसदी), बैंकिंग (1.01 फीसदी) और वाहन (0.93 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही।

बीएसई के गिरावट सेक्टरों में -स्वास्थ्य सेवाएं (0.81 फीसदी), रियल्टी (0.59 फीसदी) और उपभोक्ता टिकाऊ वस्तु (0.04 फीसदी) शामिल रहे।बीएसई में कारोबार का रुझान सकारात्मक रहा। कुल 1,323 शेयरों में तेजी और 1,293 में गिरावट रही, जबकि 144 शेयरों के भाव में कोई बदलाव नहीं हुआ।

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular