कोरोना वायरस के डर से चिकन की जगह कटहल की मांग बढ़ी | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

Viral सच

कोरोना वायरस के डर से चिकन की जगह कटहल की मांग बढ़ी

हालांकि, इस मेले ने वायरस के प्रकोप के बीच लोगों के मन से चिकन, मटन और मछली के सेवन को लेकर आशंकाएं दूर करने में कुछ खास काम नहीं किया।

Published

on

लखनऊ, 11 मार्च | कोरोना वायरस के डर से जहां चिकन, मटन की बिक्री में कमी आ रही है, वहीं इसके विकल्प के तौर पर कटहल की बिक्री बढ़ रही है। कटहल अब 120 रुपए किलो बिक रहा है, जो कि इसकी सामान्य कीमत 50 रुपए किलो से 120 फीसदी ज्यादा है। इस समय कटहल की कीमत चिकन की कीमत से ज्यादा है। अभी चिकन, मांग में कमी के कारण महज 80 रुपए किलो बिक रहा है, जो कि आमतौर पर 130 से 150 रुपए किलो बिकता है।

नियमित रूप से नॉन-वेज खाने वाली पूर्णिमा श्रीवास्तव ने कहा, “मटन बिरयानी खाने से बेहतर है कटहल बिरयानी खाना। यह स्वाद में अच्छी है। बस, एक समस्या है कि कटहल सब्जी मार्केट में गायब है और इसे ढूंढना थोड़ा मुश्किल हो रहा है।”

कोरोना वायरस के डर ने मुर्गी पालन व्यवसाय को खासा नुकसान पहुंचाया है। पोल्ट्री फार्म एसोसिएशन ने गोरखपुर में चिकन मेले का आयोजन किया, ताकि लोगों के मन से इस भ्रांति को निकाला जा सके कि यह पक्षी कोरोना वायरस का वाहक है।

एसोसिएशन के प्रमुख विनीत सिंह ने कहा, “हमने लोगों को चिकन से बने व्यंजन खाने के लिए प्रेरित करने के लिए केवल 30 रुपए प्लेट में चिकन डिश दीं। हमने 1000 किलो चिकन इस मेले के लिए पकाया था, जो कि पूरा बिक गया।”

हालांकि, इस मेले ने वायरस के प्रकोप के बीच लोगों के मन से चिकन, मटन और मछली के सेवन को लेकर आशंकाएं दूर करने में कुछ खास काम नहीं किया।

Viral सच

कोरोना से जुड़ा सबसे बड़ा झूठ

Published

on

coronavirus Fact Covid

ये सबसे बड़ा झूठ है कि कोरोना वायरस को चीन या अमेरिका ने अपने किसी जैविक हथियार के रूप में विकसित किया था, लेकिन दुर्भाग्यवश वो प्रयोगशालाओं के तालों और दीवारों को चकमा देकर निकल भागा और अब सारी दुनिया में नरसंहार कर रहा है। जबकि वैज्ञानिक सच्चाई ये है कि आज तक मनुष्य अपनी प्रयोगशालाओं में किसी भी नये जन्तु का निर्माण नहीं कर पाया है। लिहाज़ा, कोरोना वायरस को किसी जैविक हथियार के रूप में पेश करना पूरी तरह से झूठ और भ्रामक है। अलबत्ता, इसमें कोई शक़ नहीं कि कोरोना वायरस के परिवार में COVID-19 एक नया सदस्य है। लेकिन इसकी जननी प्रकृति या क़ुदरत ही है।

वैज्ञानिकों ने बैक्टीरिया और वायरस जैसे घातक सूक्ष्म जीवों को मारने की दवाएँ तो तैयार की हैं, जेनेटिक बदलाव करके कई जीवों की प्रकृति में बदलाव करने में भी सफलता पायी है, लेकिन किसी नये जीव की रचना करने में उसे अभी तक कामयाबी नहीं मिली है। फिर चाहे ऐसे सूक्ष्म जीव इंसानों के लिए फ़ायदेमन्द हो या नुकसानदायक। इंसान अभी तक सिर्फ़ क्लोन पैदा कर सका है, टेस्ट ट्यूब में निषेचन (fertilization) करवा सका है, लेकिन वो शुक्राणु या अंडाणु को प्रयोगशाला में बना नहीं सका है। क्लोन को नया जीव नहीं माना गया है। बल्कि ये महज डुप्लीकेट है। ओरिजनल जैसे गुणों वाला डुप्लीकेट। लेकिन इस डुप्लीकेट को कभी भी ओरिजनल और स्वतंत्र नहीं माना गया।

क्या हैं जैविक और रासायनिक हथियार?

जैविक और रासायनिक अलग ही चीज़ होते हैं। सारी दुनिया में इसके निर्माण पर इस्तेमाल पर बेहद सख़्त पाबन्दी है। परमाणु हथियारों से भी कहीं ज़्यादा सख़्त। जैविक हथियार वो हैं जो ज्ञात घातक जन्तुओं या बीमारियों के संक्रमण के रूप में दुश्मनों पर फेंके जा सकते हैं। जैसे, चेचक के विषाणु। लेकिन इसकी भी कई प्रजाति हैं। जैसे small pox, chicken pox, measles आदि। इसमें से small pox का टीका विकसित करके इसे सारी दुनिया से मिटाया जा चुका है। ऐसे ही हैज़ा, प्लेग, टीबी जैसी बीमारियाँ काबू में हैं। लेकिन यदि कोई देश प्रयोगशालों में इनके कीटाणुओं की संख्या को बढ़ाकर उससे दुश्मन देश को संक्रमित करना चाहे तो ये प्रक्रिया जैविक हथियार का इस्तेमाल या हमला कहलाएगी।

दूसरी ओर रासायनिक हथियार का मतलब है युद्ध में ऐसे ज़हरीले कैमिकल्स को दुश्मन पर फेंकना जिससे उसे जान-माल का भारी नुक़सान हो, जिसमें रसायनों के प्रभाव से सेना या नागरिकों की मौत का ख़तरा हो। ऐसे घातक रसायनों या यौगिकों (compounds) को भी प्रयोगशालाओं में ही बनाया जाता है। ये ठोस, द्रव या गैस – किसी भी रूप में हो सकते हैं। लेकिन इनका निर्माण हमेशा उन प्राकृतिक पदार्थों से होता है जिन्हें क़ुदरत ने बनाया है। मनुष्य तो सिर्फ़ घातक यौगिक बना सकता है। किसी नये जीव की तरह, नया तत्व बनना भी हमेशा इसके बूते से बाहर ही रहा है।

बैक्टीरिया बनाम वायरस

जीव विज्ञान की परिभाषाओं के मुताबिक़, वायरस (विषाणु) और बैक्टीरिया दोनों ही सूक्ष्म जीव हैं। प्रकृति या कुदरत ही दोनों की जननी है। दोनों संक्रामक हैं। दोनों परजीवी हैं। यानी इन्हें पनपने के लिए अन्य प्राणियों के सम्पर्क में आना पड़ता है। दोनों में सबसे बड़ा फ़र्क़ ये है कि बैक्टीरिया जन्मजात तौर पर सजीव होते हैं। इनका प्रसार भी सजीव के रूप में ही होता है। जबकि वायरस बुनियादी तौर पर स्वतंत्र और निर्जीव होता है। लेकिन किसी सजीव प्राणी के सम्पर्क में आने पर थोड़े समय में ही इसमें सजीवों वाले गुण पनप जाते हैं।

एक बार सजीव बनने के बाद वायरस का भी जैविक विभाजन और विस्तार होने लगता है। लेकिन नवजात वायरस भी अपने पैतृक स्वभाव की वजह से तब तक निर्जीव ही बना रहता है जब तक कि वो किसी सजीव प्राणी में प्रवेश करके वहाँ फलने-फूलने ना लगे। सजीव के सम्पर्क के आने के बाद जल्द ही ये भी सजीव बन जाता है। मानव शरीर में एक ही तरह के लक्षण दिखाने वाले फ़्लू और इन्फ़्लूएंजा के वायरसों की दो सौ से भी अधिक ज्ञात किस्में हैं। इनके गुण-धर्म एक जैसे नहीं होते इसीलिए वैज्ञानिक मनुष्यों में फ़्लू पैदा करने वाले वायरसों का आज तक कोई ऐसा टीका नहीं विकसित कर पाये सके जो हरेक तरह के वायरस पर प्रभावी हो।

रोचक बात ये भी है कि चाहे जिस तरह का वायरस हो उसकी ज़िन्दगी यानी उम्र चार-छह दिन से ज़्यादा की नहीं होती है। इसीलिए इससे पैदा होने वाली तकलीफ़ें भी हफ़्ते-दस दिन बाद दूर होने लगती हैं। इस दौरान शरीर की प्रतिरोधक क्षमता वायरसों के लक्षणों से ख़ुद को उबार ही लेती है। इसीलिए वायरसों को तब तक जानलेवा नहीं माना जाता जब तक कि वो अन्य बीमारियों से पीड़ित मरीज़ों की दशा में और बेकाबू ना बना दे। इसीलिए, डॉक्टरों को बस वायरस के पीड़ित मरीज़ों को कष्टकारी लक्षणों को क़ाबू में रखना होता है और वो इसके लिए ही दवाइयाँ देते हैं।

दूसरी चुनौती होती है, वायरस को फ़ैलने से रोकना। इसके लिए ही अत्यधिक साफ़-सफ़ाई और सम्पर्क-विहीनता पर ज़ोर दिया जाता है। यदि वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलेगा नहीं तो अपनी अल्प-आयु की वजह से भी ख़ुद ही बेअसर बन जाएगा। दूसरी ओर, बैक्टीरिया अपनी वृद्धि स्वतंत्र रूप से करता है। इसीलिए इसके संक्रमण और दुष्प्रभाव की रोकथाम के लिए डॉक्टर को एंटी बायोटिक दवाओं का इस्तेमाल करना पड़ता है। कमज़ोर शरीर पर बैक्टीरिया से पीड़ित होने की आशंका ज़्यादा रहती है। कोई मरीज़ बैक्टीरिया और वायरस दोनों से पीड़ित हो सकता है। इसीलिए डॉक्टरों को एंटी बायोटिक दवाओं की निर्धारित ख़ुराक यानी कोर्स के ज़रिये बैक्टीरिया का सफ़ाया करना पड़ता है। ये दवाएँ शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती हैं। बैक्टीरिया के गुण-धर्मों की वजह से उनके टीके बना पाना सम्भव हुआ है जबकि यही काम वायरस के लिए कर पाना हमेशा से बेहद कठिन साबित हुआ है।

Continue Reading

Viral सच

उमर अब्दुल्ला की सफेद दाढ़ी वाली तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल

Published

on

Omar Abdullah

श्रीनगर, 25 जनवरी | जम्मू एवं कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला की नवीनतम तस्वीर शनिवार को सोशल मीडिया के माध्यम से सामने आई है। तस्वीर में वह ऊनी टोपी पहने और लंबी सफेद दाढ़ी के साथ नजर आए। यह तस्वीर अब वायरल हो गई है। बैकड्रॉप में बर्फ के साथ मुस्कुराते हुए नजर आ रहे उमर की यह फोटो रेट्रो टच है। सूत्रों के मुताबिक तस्वीर असली है।

पांच अगस्त, 2019 को संसद द्वारा अनुच्छेद 370 को रद्द करने और जम्मू एवं कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लिए जाने के बाद से ही नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर हिरासत में हैं। ऐसा प्रतीत हो रहा है कि तब से उन्होंने अपनी दाढ़ी नहीं कटाई है। पिछले साल अक्टूबर में भी उनकी एक तस्वीर वायरल हुई थी, जिसमें वह छोटी दाढ़ी में दिखाई दिए थे।

घाटी में पांच अगस्त से तीन पूर्व मुख्यमंत्री नजरबंद हैं। उमर के पिता फारूक अब्दुल्ला को श्रीनगर में उनके गुप्ता रोड स्थित आवास पर रखा गया है। पहले ऐसी खबरें थीं कि प्रशासन द्वारा हरि निवास में नजरबंद किए गए उमर को गुप्ता रोड पर एक घर में ले जाया जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ है। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को भी एम. ए. रोड पर एक सरकारी भवन में रखा गया है।

Continue Reading

Viral सच

भाजपा विधायक का वीडियो वायरल, जांच की मांग

नारायण पहली बार वर्ष 2014 में विधायक बने थे। उन्हें उस वक्त विधानसभा चुनाव में राज्य में सबसे अधिक वोट मिले थे।

Published

on

By

BJP MLA Bokaro Biranchi Narayan

रांची, 10 नवंबर | सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (BJP) के एक विधायक बिरांची नारायण का एक वीडियो वायरल हुआ है, जिससे पार्टी को शर्मनाक स्थिति का सामना करना पड़ रहा है। विधायक नारायण ने उनके कथित अंतरंग निजी पलों को दिखाने वाले इस वीडियो को फर्जी करार दिया और मामले में जांच की मांग की।

नारायण के समर्थकों ने रविवार को बोकारो पुलिस के अधिकारियों से मुलाकात की और पूरे मामले की जांच की मांग के लिए सिटी पुलिस स्टेशन में एक प्राथमिकी दर्ज की।

नारायण के प्रतिनिधि संजय त्यागी ने कहा, “झारखंड में विधानसभा चुनाव होने है, इससे पहले जानबूझकर पार्टी और विधायक जी को बदनाम करने के इरादे से वीडियो वायरल किया गया है। पुलिस को मामले की जांच करनी चाहिए।”

नारायण पहली बार वर्ष 2014 में विधायक बने थे। उन्हें उस वक्त विधानसभा चुनाव में राज्य में सबसे अधिक वोट मिले थे।

Continue Reading
Advertisement
Coronavirus
राष्ट्रीय2 hours ago

लॉकडाउन: आर्टिस्ट ने बना डाली कोरोना से लड़ती दुनिया की तस्वीर

Unemployment
राष्ट्रीय2 hours ago

निजी हवाईअड्डों पर लगभग 2 लाख नौकरियों पर संकट

niti aayog
राष्ट्रीय2 hours ago

कोविद-19: नीति आयोग ने संयुक्त राष्ट्र की एजेंसियों और निजी क्षेत्र से मांगी मदद

Coronavirus
अंतरराष्ट्रीय2 hours ago

न्यूयॉर्क में स्थिति गंभीर, चीन ने 1000 वेंटिलेटर दिए दान

aiims
राष्ट्रीय3 hours ago

भोपाल में कोरोना की ‘कम्युनिटी स्प्रेड’ जैसी स्थिति नहीं : एम्स

xi jinping
अंतरराष्ट्रीय3 hours ago

चीन 54 देशों को चिकित्सा सामग्रियों का निर्यात करेगा

Women in Mask COVID
अंतरराष्ट्रीय3 hours ago

फ्रांस ने चीन से करीब 2 अरब मास्क का ऑर्डर किया

Asaduddin Owaisi
राजनीति3 hours ago

कोरोना पर सर्वदलीय बैठक में नहीं बुलाए जाने पर बोले ओवैसी- ‘हैदराबाद और औरंगाबाद का अपमान’

Coronavirus
राष्ट्रीय4 hours ago

कोविड-19: केरल में 8 नए मामले, 314 हुआ कुल आंकड़ा

राष्ट्रीय4 hours ago

कोरोना: 9 मिनट तक देश ने मनाई ‘दिवाली’

मनोरंजन1 week ago

शिवानी कश्यप का नया गाना : ‘कोरोना को है हराना’

Honey Singh-
मनोरंजन1 month ago

हनी सिंह का नया सॉन्ग ‘लोका’ हुआ रिलीज

Akshay Kumar
मनोरंजन1 month ago

धमाकेदार एक्शन के साथ रिलीज हुआ ‘सूर्यवंशी’ का ट्रेलर

Kapil Mishra in Jaffrabad
राजनीति1 month ago

3 दिन में सड़कें खाली हों, वरना हम किसी की नहीं सुनेंगे: कपिल मिश्रा का अल्टीमेटम

मनोरंजन1 month ago

शान का नया गाना ‘मैं तुझको याद करता हूं’ लॉन्च

मनोरंजन2 months ago

सलमान का ‘स्वैग से सोलो’ एंथम लॉन्च

Shaheen Bagh Jashn e Ekta
राजनीति2 months ago

Jashn e Ekta: शाहीनबाग में सभी धर्मो के लोगों ने की प्रार्थना

Tiger Shroff-
मनोरंजन2 months ago

टाइगर की फिल्म ‘बागी 3’ का ट्रेलर रिलीज

Human chain Bihar against CAA NRC
शहर2 months ago

बिहार : सीएए, एनआरसी के खिलाफ वामदलों ने बनाई मानव श्रंखला

Sara Ali Khan
मनोरंजन3 months ago

“लव आज कल “में Deepika संग अपनी तुलना पर बोली सारा

Most Popular