Connect with us

लाइफस्टाइल

‘स्मार्टफोन का लगातार उपयोग करने वाले को घेर लेती हैं चिंताएं’

Published

on

use of smart phones 1
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

नई दिल्ली। स्मार्टफोन का अत्यधिक उपयोग चीजों के दुरुपयोग और व्यसन के समान है। जो लोग फोन का अधिक उपयोग करते हैं, वे बहुत अलग-थलग महसूस करते हैं। ऐसे लोग अकेलापन, उदासी और चिंता महसूस करते हैं। एक अध्ययन में इस बात का खुलासा हुआ है। अध्ययन के मुताबिक, जो लोग स्मार्टफोन का अधिक उपयोग करते हैं, वे लगातार गतिविधियों के बीच फोन में खो जाते हैं और अपना ध्यान केंद्रित नहीं रख पाते। फोन के सही उपयोग के बारे में जागरूकता पैदा करने की आवश्यकता है कि इस तरह की लत हमें मानसिक रूप से थका देती है और आराम नहीं करने देती।

हार्ट केयर फाउंडेशन (एचसीएफआई) के अध्यक्ष डॉ. के. के. अग्रवाल ने कहा,”हमारे फोन और कंप्यूटर पर आने वाले नोटिफिकेशन, कंपन और अन्य अलर्ट हमें लगातार स्क्रीन की ओर देखने के लिए मजबूर करते हैं। शोध के मुताबिक, यह अलर्टनेस कुछ वैसी ही प्रतिक्रिया का परिणाम है जैसा कि किसी खतरे के समय या हमले के समय प्रतीत होता है।”

उन्होंने कहा, “इसका मतलब यह है कि हमारा मस्तिष्क लगातार सक्रिय और सतर्क रहता है, जोकि इसकी स्वस्थ कार्य प्रणाली के अनुरूप नहीं है। हम लगातार उस गतिविधि की तलाश करते हैं और उसकी अनुपस्थिति में बेचैन, उत्तेजित और अकेलापन महसूस होता है।”

डॉ. अग्रवाल ने कहा, “यदि हमें 30 मिनट तक कोई कॉल प्राप्त न हो तो चिंता होने लगती है। करीब 30 प्रतिशत मोबाइल उपयोगकर्ताओं में यह समस्या होती है। फैंटम रिंगिंग 20 से 30 प्रतिशत मोबाइल उपयोगकर्ताओं में मौजूद होती है। आपको ऐसा महसूस होता है कि आपका फोन बज रहा है और आप बार बार उसे चैक करते हैं, जबकि ऐसा सच में होता नहीं है।”

अध्ययन के मुताबिक, सोशल मीडिया प्रौद्योगिकी की लत सामाजिक जीवन पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकती है। इसके जरिए होने वाला संचार आधा-अधूरा होता है और इसे आमने सामने के संचार का विकल्प नहीं माना जा सकता। इसमें शरीर की भाषा और अन्य रिश्तों की गरमाहट का अभाव होता है।

अध्ययन में कहा गया, “30 प्रतिशत मामलों में स्मार्टफोन माता-पिता के बीच झगड़े का कारण भी बनता है। मोबाइल अधिक यूज करने वाले बच्चे अक्सर देर से उठते हैं और स्कूल जाने के लिए तैयार नहीं होते हैं। औसतन, लोग सोने से पहले स्मार्ट फोन के साथ बिस्तर में 30 से 60 मिनट बिताते हैं।”

डॉ. अग्रवाल ने बताया, “गैजेट्स के माध्यम से जानकारी प्राप्त करने के कारण मस्तिष्क के ग्रे मैटर में कमी आती है, जोकि संज्ञान और भावनात्मक नियंत्रण के लिए जिम्मेदार होता है। इस डिजिटल युग में, अच्छे स्वास्थ्य की कुंजी है संयम। हममें से अधिकांश लोग ऐसे उपकरणों के दास बन गए हैं, जो वास्तव में हमें फ्रीडम प्रदान करने के लिए थे और हमें जीवन का अनुभव प्रदान करने और लोगों के साथ रहने हेतु अधिक समय देने के लिए बनाए गए थे। हम अपने बच्चों को भी उसी गलत रास्ते पर ले जा रहे हैं।”

डॉ अग्रवाल ने इससे बचाव का सुझाव देते हुए कहा, ” इलेक्ट्रॉनिक कर्फ्यू का मतलब है सोने से 30 मिनट पहले किसी भी इलेक्ट्रॉनिक गैजेट का उपयोग न करना। हर तीन महीने में सात दिनों के लिए फेसबुक से अवकाश लें। सप्ताह में एक बार पूरे दिन सोशल मीडिया के इस्तेमाल से बचें। मोबाइल का उपयोग केवल जरूरी बात करने के लिए करें। दिन में तीन घंटे से अधिक समय तक कंप्यूटर का उपयोग न करें।”

उन्होंने कहा, “अपने मोबाइल टॉकटाइम को दिन में दो घंटे से अधिक समय तक सीमित करें। दिन में एक से अधिक बार अपनी मोबाइल बैटरी रिचार्ज न करें। अस्पताल के सेटअप में मोबाइल भी संक्रमण का स्रोत हो सकता है, इसलिए, इसे हर रोज कीटाणुरहित करना आवश्यक है।”

–आईएएनएस

लाइफस्टाइल

किशमिश को पानी में भिगोकर खाने से होते हैं ये फायदे…

Published

on

Raisin-
File Photo

किशमिश एक तरह का ड्राई फ्रूट है। किशमिश एक तरह का ड्राई फ्रूट है, किशमिश का इस्‍तेमाल खीर, हलवा और मीठा कुछ भी हो उसमें इस्तेमाल किया जाता है। ये आपको पता ही होगा कि इसको सूूखे हुए अंगूर से बनाया जाता है। इसमें वो सभी गुण पाए जाते हैं जो आपकी सेहत के लिए बहुत लाभकारी होता है।

खासतौर पर सर्दियों में इसके सेवन से कई तरह की बीमारियों से बचाव होता है। किशमिश में भरपूर मात्रा में आयरन, पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम और फाइबर होता है। क्या आपको पता है की किशमिश को पानी में भिगोकर खाने से क्या फायदा होता है। हालांकि, ज्यादातर लोग किशमिश को ऐसे ही खाते हैं।

क्या किशमिश को पानी में भिगोकर खाना ज्यादा फायदेमंद होता है?

लेकिन किशमिश को रातभर पानी में भिगोकर सुबह खाली पेट खाने से सेहत को कई गुना ज्यादा फायदा होता है।हेल्थ एक्सपर्ट का कहना है कि किशमिश को पानी में भिगोकर ही खाना चाहिए। ऐसा करने से किशमिश में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स और न्यूट्रिएंट्स की मात्रा बढ़ जाती है।

आज हम आपको इसके कुछ ऐसे फायदे बताएंंगे जिन्हें जानकर अपको हैरानी होगी…

ब्लड प्रेशर नार्मल करे-

किशमिश को रातभर पानी में भिगोकर खाने से ब्लड प्रेशर नॉर्मल रहता है। दरअसल, किशमिश में मौजूद पोटेशियम शरीर में नमक की मात्रा को बैलेंस कर के ब्लड प्रेशर को नॉरमल रखने में मदद करता है।

Image result for किशमिश ब्लड प्रेशर

डाइजेशन की ठीक करे

किशमिश में भरपूर मात्रा में फाइबर पाया जाता है। डाइजेशन की समस्या को बेहतर करने के लिए 2 से 4 किशमिश को रातभर पानी में भिगा रहने दें। सुबह उठकर खाली पेट भिगोए हुए किशमिश खाएं और बचा हुआ पानी भी पी लें। ऐसा करने से बहुत कम समय में डाइजेशन की समस्या दूर हो जाएगी।

Image result for किशमिश डाइजेशन

इम्युनिटी मजबूत करे

किशमिश में सभी न्यूट्रिएंट्स पाए जाते हैं, जो इम्युनिटी को मजबूत बनाने में मददगार साबित होते हैं। सर्दियों के मौसम में रोजाना किशमिश का सेवन करने से शरीर बैक्टीरिया के कारण होने वाले इंफेक्शन से सुरक्षित रहता है।

Image result for इम्युनिटी मजबूत करे-

वजन कम करे-

किशमिश में नेचुरल शुगर यानी मिठास होती है। मीठा खाने की क्रेविंग होने पर किशमिश से राहत तो मिलती ही है साथ ही कैलोरी भी नहीं बढ़ती हैं। ये ब्लड शुगर लेवल को नियत्रंण में रखती है और वजन कम करने में भी फायदेमंद होती है।

Image result for वजन कम

हड्डियों को मजबूत बनाए

बोरॉन जो हड्डियों को मजबूत बनाए रखने में बहत अहम होता है, ये किशमिश में भरपूर मात्रा में पाया जाता है। साथ ही किशमिश में कैल्शियम भी मौजूद होता है। ये भी हड्डियों की सेहत के लिए बहुत जरूरी होता है। पानी में भिगोकर खाने से किशमिश में पाए जाने वाले न्यूट्रिएंट्स से शरीर को ज्यादा फायदा पहुंचता है।

Image result for हड्डियों को मजबूत

खून की कमी को दूर करे-

शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने में आयरन की सबसे महत्वपूर्ण भूमिका होती है। किशमिश में आयरन भरपूर मात्रा में पाया जाता है। रोजाना पानी में भिगोकर किशमिश खाने से शरीर में खून की कमी दूर होती है।

Image result for खून की कमी

लिवर के फंक्शन को ठीक करे

सभी प्रकार के ड्राई फ्रूट में किशमिश एक ऐसा ड्राई फ्रूट है, जो शरीर से टॉक्सिंस को बाहर निकालता है और लिवर को इंफेक्शन से सुरक्षित रखने में मददगार है।

Image result for लिवर के

दिल के लिए फायदेमंद-

फाइबर और जरूरी न्यूट्रिएंट्स से भरपूर किशमिश शरीर में कोलोस्ट्रोल के स्तर को कम करने के साथ दिल की बीमारी के खतरे को भी दूर करती है।

Image result for दिल की बीमारी

आखों की रोशनी करे तेज

एंटीऑक्सिडेंट्स, विटामिन-ए और बीटा कैरोटीन से युक्त किशमिश में सभी प्रकार के न्यूट्रिएंट्स पाए जाते हैं, जिनसे आंखों की रोशनी तेज होती है।

Image result for आंखों की रोशनी

मुंह की बदबू दूर करे

 

किशमिश में एंटी-बैक्टीरियल प्रोप्रटीज मौजूद होती हैं। ये मुंह से आने वाली बदबू को दूर करती है।

Image result for मुंह की बदबू दूर करे

 

WeForNews

Continue Reading

लाइफस्टाइल

वृंदावन में विधवाओं ने मनाई पटाखा रहित हरित दिवाली

दीये जलाकर अंधेरा मिटाने की परंपरा का पालन करते हुए गोपनीनाथ मंदिर में सुलभ इंटरनेशनल की ओर से आयोजित हरित दिवाली कार्यक्रम में आसपास के आश्रमों से करीब 700 विधवाओं ने हिस्सा लिया।

Published

on

Diwali Gopinath temple
Bindeshwar Pathak celebrates Diwali with widows at Gopinath temple (Pic IANS)

वृंदावन, 5 नवंबर | धार्मिक नगरी वृंदावन में रविवार को लोकप्रिय गीत-संगीत, भजन-कीर्तन और पुष्प-वर्षा के बीच दिवाली त्योहार मनाया गया। कहीं कोई पटाखा नहीं चलाया गया।

प्रदूषण रहित दिवाली मनाने के सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशों का अनुपालन करते हुए शाम में वृंदावन वासियों ने सिर्फ मिट्टी के दीये और मोमबत्तियों से अपने घरों को रोशन किया।

दीपावली पर पटाखे जलाने से पर्यावरण पर बुरा प्रभाव पड़ता है और सर्वोच्च न्यायालय ने भी इको-फ्रेंडली दिवाली मनाने का निर्देश दिया है। इस लिहाज से वृंदावन वासियों द्वारा हरित दिवाली मनाने का फैसला काफी महत्वपूर्ण है।

वृंदावन में निवास कर रही बंगाल की विधवा मनु घोष ने कहा, “हमने इस बार पटाखे और फुलझड़ी को छुए बिना दिवाली मनाने का फैसला लिया।”

उन्होंने बताया कि यहां गोपीनाथ मंदिर में अनेक दूसरी विधवाओं ने भी इस बार मिट्टी के दीये जलाए और वे फूलों और दीयों से दीपावली मना रही हैं।

पास के आश्रम में 30 साल से रह रहीं ललिता अधिकारी और कनक लता ने भी बताया कि वे पटाखे रहित दिवाली मना रही हैं क्योंकि पटाखे जलाने से शोर-गुल और धुआं फैलते हैं जो उनके लिए समस्या पैदा करते हैं।

उन्होंने कहा, “हम भविष्य में भी पटाखे रहित दिवाली मनाना चाहते हैं।”

दिल्ली-एनसीआर में पिछले साल दिवाली और उसके बाद वायु प्रदूषण के स्तर के संदर्भ में सर्वोच्च न्यायालया द्वारा दिए गए आदेश के आलोक में यहां पहली बार विधवाओं ने प्रदूषण रहित दिवाली मनाई।

अदालत ने इस बात का अवलोकन किया कि पटाखों के बुरे परिणामों के कारण वायु की गुणवत्ता बहुत की खराब और चिंताजनक बन गई थी।

दीये जलाकर अंधेरा मिटाने की परंपरा का पालन करते हुए गोपनीनाथ मंदिर में सुलभ इंटरनेशनल की ओर से आयोजित हरित दिवाली कार्यक्रम में आसपास के आश्रमों से करीब 700 विधवाओं ने हिस्सा लिया।

करीब 400 साल पुराने गोपीनाथ मंदिर के अहाते को रंगोली और मिट्टी के दीयों से सजाया गया था। भक्तिन विधवाओं ने बाद में भजन-कीर्तन किया।

सुलभ इंटरनेशनल के संस्थापक बिंदेश्वर पाठक ने कहा, “इनके जीवन की सांझ वेला में खुशियों की किरणें लाने के लिए हमने अनोखे तरीके से दीपोत्सव का त्योहार मनाया।”

सुलभ की ओर से यहां विधवाओं की रोजमर्रा की जरूरतों की पूर्ति करने के अलावा उनको स्वास्थ्य सुविधा और व्यावसायिक प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है।

–आईएएनएस

Continue Reading

लाइफस्टाइल

यूं मनाएं पर्यावरण अनुकूल दिवाली

Published

on

खरीदारी के शौकीन लोग दिवाली में खरीदारी के दौरान अक्सर ये भूल जाते हैं कि कैसे जो उत्पाद वे खरीद रहे हैं, वे पर्यावरण पर असर डाल सकते हैं। इस बारे में थोड़ी समझदारी दिखाना पर्यावरण के लिए लाभकारी साबित हो सकता है।

‘जेडपैक’ के संस्थापक राजेश अग्रवाल और ‘श्रेया जैन कूट्यो’ की संस्थापक श्रेया जैन ने इस संबंध में कुछ सुझाव दिए हैं जो इस दिवाली लोगों के लिए पर्यावरण के अनुकूल और प्राकृतिक संरक्षण को ध्यान में रखकर खरीदारी करने में मददगार साबित होंगे :

* दुकानदार और खरीदार अभी भी प्लास्टिक के बैग का इस्तेमाल कर रहे हैं। प्लास्टिक मिट्टी के उपजाऊपन को नुकसान पहुंचाता है और ये आसानी से नष्ट नहीं होता है। पर्यावरण संरक्षण में छोटा सा योगदान देते हुए खरीदार कपड़े के या जूट के बने बैग का इस्तेमाल कर सकते हैं।

* गिफ्ट रैप करने के लिए भी बड़े पैमाने पर प्लास्टिक रैपर का इस्तेमाल होता है। न्यूजपेपर से बने या ग्रीन फैब्रिक से बने रैपर का इस्तेमाल करें या ब्राउन बैग का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। लोग घर पर अपनी सहजता के हिसाब से गिफ्ट रैपर डिजाइन भी कर सकते हैं। इसके लिए आपको चार्ट पेपर और डिजाइन व पैटर्न बनाने के लिए परिवार के किसी सदस्य के कलात्मक हुनर की जरूरत होगी, जो अच्छे से रैपर डिजाइन कर सके।

* एलईडी लाइट ऊर्जा की बचत करने वाले उत्पादों में एक उपयोगी अविष्कार है। लोग अनावश्यक विद्युत खर्चे से बचने के लिए खरीदते हैं। इस दिवाली आप एलईडी स्ट्रिप खरीद सकते हैं, जो उचित और पर्यावरण के अनुकूल भी होगा। इसे बनाने में गैलियम फोस्फाइड का इस्तेमाल होता है जिसकी वजह से कम ऊर्जा में भी अच्छा प्रकाश देता है और विश्वसनीय व टिकाऊ होता है।

* वायु प्रदूषण को ध्यान में रखते हुए पटाखों से दूरी बनाना ही बेहतर होगा। आप दूसरों को भी पटाखें नहीं खरीदने को लेकर जागरूक कर सकते हैं। पटाखों का जहरीला धुंआ स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है और आसमान में भी धुंध सा छा जाता है, इसलिए इस दिवाली को सुरक्षित रूप से अपनों के साथ खुशी से मनाएं।

* दिवाली खुशियों और उल्लास का त्योहार है। जो लोग नए कपड़ों और मिठाईयों का खर्च वहन कर सकते हैं, वह फूड वेस्टेज को कम करने में मदद कर पर्यावरण संरक्षण में योगदान दे सकते हैं और गरीब बच्चों व परिवारों को मिठाईयां व कपड़े बांट सकते हैं। यह न सिर्फ आपकी दिवाली को खास बना देगा बल्कि आसपास के माहौल को भी खुशनुमा बना देगा।

–आईएएनएस

Continue Reading
Advertisement
Faf du Plessis
खेल2 hours ago

टी-20 विश्व कप-2020 के बाद डु प्लेसिस लेंगे संन्यास

CBI
राष्ट्रीय2 hours ago

आंध्र में बिना इजाजत सीबीआई के प्रवेश पर पाबंदी

sabrimala
राष्ट्रीय3 hours ago

खुले सबरीमाला के पट, बिना दर्शन वापस लौटीं तृप्‍ती देसाई

bjp
चुनाव4 hours ago

राजस्थान में बीजेपी के 162 घोषित उम्मीदवारों में मुस्लिम चेहरा नदारद

rahul gandhi
राजनीति5 hours ago

डीयू पर आरएसएस का ‘फर्जिकल स्ट्राइक’ जारी है: राहुल

Dancer Snatcher
शहर5 hours ago

तीन प्रेमिकाओं का शौक पूरा करने के लिए डांसर से बना झपटमार

राजनीति5 hours ago

ममता का ऐलान- हर राज्‍य के विस चुनाव में TMC उतारेगी अपने प्रत्‍याशी

sensex-min
व्यापार5 hours ago

सेंसेक्स में 197 अंकों की तेजी

accident
शहर6 hours ago

जम्मू-कश्मीर: सड़क दुर्घटना में 7 पुलिसकर्मी घायल

akhilesh yadav
राजनीति6 hours ago

अखिलेश का बीजेपी पर वार- ‘धार्मिक नक्सलियों से देश को ज्यादा खतरा’

jeans
लाइफस्टाइल4 weeks ago

जानिए जीन्स का इतिहास, इसमें छुपे एक-एक राज…

Sleep
लाइफस्टाइल3 weeks ago

सुबह बिस्तर से उठने का मन नहीं करता, तो हो सकती है ये बीमारी

Whatsapp-
टेक1 week ago

वॉट्सऐप में जुड़ा नया फीचर, कर सकेंगे प्राइवेट रिप्लाई

Manoj Nath Myar Madhuli Wana
मनोरंजन6 days ago

लेटेस्ट कुमाऊनी गीत ‘म्यर मधुली वाना’ रिलीज

yoga1
अंतरराष्ट्रीय3 weeks ago

‘चीन में किशोरावस्था से लोग करते हैं योग’

लाइफस्टाइल4 weeks ago

करवा चौथ के दिन ऐसे निखारें अपनी त्वचा…

zeera-
लाइफस्टाइल4 weeks ago

जीरे का पानी पीने से तेजी से कम होता है वजन…

oily-skin--
लाइफस्टाइल4 weeks ago

वायु प्रदूषण पहुंचा रहा त्वचा को नुकसान

JIO
टेक3 weeks ago

Jio नेटवर्क पर बैन हुई पोर्न वेबसाइट्स

RAKESH ASTHANA Alok Verma
ब्लॉग3 weeks ago

सीबीआई के अच्छे दिनों के लिए तो अभी दिल्ली बहुत दूर है!

kailash new
मनोरंजन3 days ago

कैलाश सत्यार्थी पर बनी डॉक्यूमेंट्री का ट्रेलर जारी

SHIVRAJ
राजनीति3 days ago

वोट मांगने गई शिवराज की पत्नी को महिला ने सुनाई खरी खोटी…देखें वीडियो

kedatnath-
मनोरंजन4 days ago

सुशांत की फिल्म ‘केदारनाथ’ का ट्रेलर रिलीज

Manoj Nath Myar Madhuli Wana
मनोरंजन6 days ago

लेटेस्ट कुमाऊनी गीत ‘म्यर मधुली वाना’ रिलीज

शहर2 weeks ago

गुजरात के गांधीनगर सचिवालय में तेंदुआ घुसने से मचा हड़कंप

राजनीति2 weeks ago

दो से ज्यादा बच्चे पैदा करे उसे न हो मतदान का अधिकार: रामदेव

Rajniknat-
मनोरंजन2 weeks ago

अक्षय और रजनीकांत की फिल्म ‘2.0’ का ट्रेलर रिलीज

Patna
शहर2 weeks ago

पटना में महिला पुलिसकर्मी की मौत पर फूटा गुस्सा

kapil sibal
राजनीति2 weeks ago

कोर्ट फैसला करेगा कि अयोध्‍या केस की सुनवाई कब हो: सिब्‍बल

शहर2 weeks ago

लंदन में दिवाली से पहले यूं जश्न मनाती दिखीं महिलाएं

Most Popular