Connect with us

लाइफस्टाइल

‘स्मार्टफोन का लगातार उपयोग करने वाले को घेर लेती हैं चिंताएं’

Published

on

use of smart phones 1
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

नई दिल्ली। स्मार्टफोन का अत्यधिक उपयोग चीजों के दुरुपयोग और व्यसन के समान है। जो लोग फोन का अधिक उपयोग करते हैं, वे बहुत अलग-थलग महसूस करते हैं। ऐसे लोग अकेलापन, उदासी और चिंता महसूस करते हैं। एक अध्ययन में इस बात का खुलासा हुआ है। अध्ययन के मुताबिक, जो लोग स्मार्टफोन का अधिक उपयोग करते हैं, वे लगातार गतिविधियों के बीच फोन में खो जाते हैं और अपना ध्यान केंद्रित नहीं रख पाते। फोन के सही उपयोग के बारे में जागरूकता पैदा करने की आवश्यकता है कि इस तरह की लत हमें मानसिक रूप से थका देती है और आराम नहीं करने देती।

हार्ट केयर फाउंडेशन (एचसीएफआई) के अध्यक्ष डॉ. के. के. अग्रवाल ने कहा,”हमारे फोन और कंप्यूटर पर आने वाले नोटिफिकेशन, कंपन और अन्य अलर्ट हमें लगातार स्क्रीन की ओर देखने के लिए मजबूर करते हैं। शोध के मुताबिक, यह अलर्टनेस कुछ वैसी ही प्रतिक्रिया का परिणाम है जैसा कि किसी खतरे के समय या हमले के समय प्रतीत होता है।”

उन्होंने कहा, “इसका मतलब यह है कि हमारा मस्तिष्क लगातार सक्रिय और सतर्क रहता है, जोकि इसकी स्वस्थ कार्य प्रणाली के अनुरूप नहीं है। हम लगातार उस गतिविधि की तलाश करते हैं और उसकी अनुपस्थिति में बेचैन, उत्तेजित और अकेलापन महसूस होता है।”

डॉ. अग्रवाल ने कहा, “यदि हमें 30 मिनट तक कोई कॉल प्राप्त न हो तो चिंता होने लगती है। करीब 30 प्रतिशत मोबाइल उपयोगकर्ताओं में यह समस्या होती है। फैंटम रिंगिंग 20 से 30 प्रतिशत मोबाइल उपयोगकर्ताओं में मौजूद होती है। आपको ऐसा महसूस होता है कि आपका फोन बज रहा है और आप बार बार उसे चैक करते हैं, जबकि ऐसा सच में होता नहीं है।”

अध्ययन के मुताबिक, सोशल मीडिया प्रौद्योगिकी की लत सामाजिक जीवन पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकती है। इसके जरिए होने वाला संचार आधा-अधूरा होता है और इसे आमने सामने के संचार का विकल्प नहीं माना जा सकता। इसमें शरीर की भाषा और अन्य रिश्तों की गरमाहट का अभाव होता है।

अध्ययन में कहा गया, “30 प्रतिशत मामलों में स्मार्टफोन माता-पिता के बीच झगड़े का कारण भी बनता है। मोबाइल अधिक यूज करने वाले बच्चे अक्सर देर से उठते हैं और स्कूल जाने के लिए तैयार नहीं होते हैं। औसतन, लोग सोने से पहले स्मार्ट फोन के साथ बिस्तर में 30 से 60 मिनट बिताते हैं।”

डॉ. अग्रवाल ने बताया, “गैजेट्स के माध्यम से जानकारी प्राप्त करने के कारण मस्तिष्क के ग्रे मैटर में कमी आती है, जोकि संज्ञान और भावनात्मक नियंत्रण के लिए जिम्मेदार होता है। इस डिजिटल युग में, अच्छे स्वास्थ्य की कुंजी है संयम। हममें से अधिकांश लोग ऐसे उपकरणों के दास बन गए हैं, जो वास्तव में हमें फ्रीडम प्रदान करने के लिए थे और हमें जीवन का अनुभव प्रदान करने और लोगों के साथ रहने हेतु अधिक समय देने के लिए बनाए गए थे। हम अपने बच्चों को भी उसी गलत रास्ते पर ले जा रहे हैं।”

डॉ अग्रवाल ने इससे बचाव का सुझाव देते हुए कहा, ” इलेक्ट्रॉनिक कर्फ्यू का मतलब है सोने से 30 मिनट पहले किसी भी इलेक्ट्रॉनिक गैजेट का उपयोग न करना। हर तीन महीने में सात दिनों के लिए फेसबुक से अवकाश लें। सप्ताह में एक बार पूरे दिन सोशल मीडिया के इस्तेमाल से बचें। मोबाइल का उपयोग केवल जरूरी बात करने के लिए करें। दिन में तीन घंटे से अधिक समय तक कंप्यूटर का उपयोग न करें।”

उन्होंने कहा, “अपने मोबाइल टॉकटाइम को दिन में दो घंटे से अधिक समय तक सीमित करें। दिन में एक से अधिक बार अपनी मोबाइल बैटरी रिचार्ज न करें। अस्पताल के सेटअप में मोबाइल भी संक्रमण का स्रोत हो सकता है, इसलिए, इसे हर रोज कीटाणुरहित करना आवश्यक है।”

–आईएएनएस

लाइफस्टाइल

गलत मुद्रा में बैठना शरीर के निचले हिस्से के लिए हानिकारक

“शरीर को सीधा रखने के लिए बहुत सारी मांसपेशियों की ताकत की आवश्यकता होती है। लंबे समय तक खड़े रहने से पैरों में रक्त की मात्रा बढ़ जाती है और रक्त के प्रवाह में रुकावट आती है। इससे थकान, पीठ और गर्दन की मांसपेशियों में दर्द की शुरुआत हो सकती है।”

Published

on

Sitting Wrong Posture

नई दिल्ली, 15 सितम्बर | दफ्तर में कामकाज के दौरान गलत मुद्रा में लगातार चार-पांच घंटे तक बैठे रहने से कमर दर्द की शिकायत हो सकती है। बैठे रहना संभवत: नया धूम्रपान है और पीठ दर्द नवीनतम जीवनशैली का विकार है। बैठने की मुद्रा और शारीरिक गतिविधि पर पर्याप्त ध्यान देना आवश्यक है। हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया (एचसीएफआई) के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल का मानना है कि आज लगभग 20 प्रतिशत युवाओं को 16 से 34 साल आयु वर्ग में ही पीठ और रीढ़ की हड्डी की समस्याएं हो रही हैं।

डॉ. अग्रवाल ने यहां जारी एक बयान में कहा है, “एक ही स्थिति में लंबे समय तक बैठने से पीठ की मांसपेशियों और रीढ़ की हड्डी पर भारी दबाव पड़ सकता है। इसके अलावा, टेढ़े होकर बैठने से रीढ़ की हड्डी के जोड़ खराब हो सकते हैं और रीढ़ की हड्डी की डिस्क पीठ और गर्दन में दर्द का कारण बन सकती है। लंबे समय तक खड़े रहने से भी स्वास्थ्य पर प्रभाव पड़ता है।”

उन्होंने कहा, “शरीर को सीधा रखने के लिए बहुत सारी मांसपेशियों की ताकत की आवश्यकता होती है। लंबे समय तक खड़े रहने से पैरों में रक्त की मात्रा बढ़ जाती है और रक्त के प्रवाह में रुकावट आती है। इससे थकान, पीठ और गर्दन की मांसपेशियों में दर्द की शुरुआत हो सकती है।”

पीठ और रीढ़ की हड्डी की समस्याओं के लक्षणों में वजन घटना, शरीर के तापमान में वृद्धि (बुखार), पीठ में सूजन, पैर के नीचे और घुटनों में दर्द, मूत्र असंतुलन, मूत्र त्यागने में कठिनाई और जननांगों की त्वचा का सुन्न पड़ जाना शामिल है।

डॉ. अग्रवाल ने बताया, “योग पुरानी पीठ दर्द के लिए एक सुरक्षित और प्रभावी उपाय है, क्योंकि यह कार्यात्मक विकलांगता को कम करता है। यह इस स्थिति के साथ गंभीर दर्द को कम करने में भी प्रभावी है। यदि आप सुबह उठते हैं या कुछ घंटे के लिए अपनी डेस्क पर बैठे होने पर थकान या दर्द का अनुभव करते हैं, तो यह संकेत हो सकता है कि आपकी मुद्रा सही नहीं है।”

–आईएएनएस

Continue Reading

लाइफस्टाइल

ऑफिस को इस तरह बनाएं रचनात्मक…

Published

on

office-
प्रतीकात्मक तस्वीर

ऑफिस ऐसी जगह है जहां आप भले ही दिन का एक तिहाई वक्त बिताते हों, पर यह वह समय होता है, जब दिमाग ज्यादा सक्रिय रहता है और इसी वजह से यह दिनभर का सबसे प्रोडक्टिव समय भी माना जाता है।

ऐसे में ऑफिस का इंटीरियर ऐसा होना चाहिए कि कर्मचारियों की प्रोडक्टिविटी बढ़ाने में मदद करे।

लाइट का संतुलन : लाइट कर्मचारियों के मूड पर सबसे अधिक प्रभाव डालती है। इसलिए इसका खास ध्यान रखा जाना चाहिए। डेस्क के पास लाइट 300-400 लक्स की होनी चाहिए और अगर एलईडी लाइट लगी हो तो और भी बेहतर होता है।

Image result for office

लाइटिंग के दौरान अधिक फोकस चमक और विजन पर होना जरूरी है, इससे कर्मचारियों को आंखों में जलन भी नहीं होती और बिना आंखों पर जोर डाले वह ज्यादा काम कर पाते हैं। लाइट को इस तरह प्लान करके भी लगाना चाहिए कि वह बाहर से आने वाली गर्मी और रोशनी का भी संतुलन बनाने में सक्षम हों।

Image result for office

स्वच्छ फर्श : ऑफिस का फर्श साफ और सुरक्षित होना चाहिए। फर्श को ज्यादातर कड़क और नरम फर्श में बांटा जाता है। इस बात का विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए कि फर्श थर्मल प्रतिरोधी व ज्वलनशील हो, साथ ही फर्श ऑफिस में होने वाले शोर को भी सोख लेने में सक्षम हो ताकि काम ज्यादा बेहतर तरीके से हो सके। इसके अलावा इसे साफ करना आसान हो और पर्यावरण संरक्षण को ध्यान में रखते हुए, फर्श में कम कार्बन फुटप्रिंट होना चाहिए।

Image result for ऑफिस

रंगों का सही मिश्रण : रंग न केवल मूड पर प्रभाव डालते हैं, बल्कि ऑफिस के माहौल, मौसम के असर, प्रोडक्टिविटी और व्यवहार पर भी कारगर होता है। ऑफिस के लिए हमेशा हल्के रंग जैसे नीला, सफेद, हल्का हरा, हल्का पीला आदि इस्तेमाल किया जाना चाहिए।

Image result for ऑफिस

आरामदायक फर्नीचर : एर्गोनोमिक फर्नीचर (कार्यस्थल के लिया बनाया गया खास फर्नीचर) को हमेशा प्राथमिकता देनी चाहिए। काम करने वाली टेबल का साइज पर्याप्त होना चाहिए, कंप्यूटर, स्टेशनरी आदि आने के बाद भी कुछ जगह खाली होनी चाहिए। 4 फीट बाय 2 फीट की टेबल प्रोडक्टिविटी को बढ़ाने के लिए सबसे उचित मानी जाती है।

Image result for ऑफिस में आरामदायक फर्नीचर

चलने की जगह : ऑफिस के अंदर चलने और खड़े होने के लिए खुली जगह होना बहुत जरूरी है। कोरिडोर, बालकनी, और बाकी खुली जगह का साइज पर्याप्त होना जरूरी है। कोरिडोर और खुली जगह इस तरह की हो कि वहां से वेंटिलेशन सही होने के साथ ज्यादा भीड़ या आपातकाल के समय में कोई दिक्कत न उत्पन्न हो। खुली जगह ऑफिस को सुंदर और मजेदार भी बनती है, जो प्रोडक्टिविटी पर सीधा असर डालती है।

WeForNews

Continue Reading

लाइफस्टाइल

घर के किचन में मौजूद ये चीज हमेशा रखेगी जवां

Published

on

face
प्रतीकात्मक फोटो

काम के प्रेशर के चलते और बदलते खानपान से आजकल इंसान समय से पहले बूढ़ा हो जाता है। इसलिए जवा दिखने के लिए लोग बॉडी मसाज से लेकर अलग-अलग थैरेपी लेते हैं। महिलाएं सुंदर दिखने के लिए हर महीने पार्लर पर जाकर पैसे खर्च करती है। बुढ़ापे में हमारे शरीर में शारीरिक कमजोरी आ जाती है, और चेहरे पर झुर्रियां पड़ जाती हैं।

लेकिन बहुत से ऐसे लोग होते हैं, जो बुढ़ापे में भी जवानों की तरह दिखते हैं। उनकी सेहत का कुछ राज होता है। दोस्तों आज हम आपको एक ऐसी चीज के बारे में बताने जा रहे हैं। जिसका रोज सेवन करने से आप बुढ़ापे तक जवान रह सकते हैं। बुढ़ापे तक जवान रहने के लिए पिस्ते का सेवन बहुत ही उपयोगी होता है, लेकिन यह थोड़ा महंगा होता है, इसलिए हर कोई इसका सेवन नहीं कर सकता है।

इसके अलावा अजवाइन भी शरीर को स्वस्थ और ताकतवर बनाए रखने के लिए काफी लाभदायक होती है। नियमित रूप से रोज शाम 10 ग्राम अजवाइन का सेवन करने से त्वचा ग्लोइंग बनी रहती है, तथा चेहरे पर झुर्रियां भी नहीं पड़ती। रोज अजवाइन खाने से शरीर में बीमारियां भी नहीं होती हैं। किडनी और पेट संबंधी बीमारियों में अजवाइन बहुत ही लाभदायक होती है।

यह शरीर के रक्त के प्रवाह को भी सुचारू तरीके से संचार करने में मददगार होती है। इसके लिए अजवाइन को पीसकर उसका पाउडर बना लें। रोज शाम सोने से पहले 10 ग्राम अजवाइन पाउडर में थोड़ा सा काला नमक मिलाकर उसका पानी के साथ सेवन करें। ऐसा नियमित रूप से करने से आप बुढ़ापे तक जवा रह सकती हैं।

wefornews 

Continue Reading
Advertisement
IND vs PAK
खेल5 hours ago

एशिया कप : भारत ने पाकिस्तान को 8 विकेट से हराया

CRIME
शहर5 hours ago

बिहार : पूर्णिया बाल सुधारगृह में हाउस फादर समेत 2 की हत्या, 5 कैदी फरार

vijay rupani
राजनीति6 hours ago

गुजरात : विधायकों के वेतन में 45000 रुपये की वृद्धि

murder
शहर7 hours ago

बिहार : मुखिया-पति ने सामाजिक कार्यकर्ता की हत्या की

Ghulam Ahmed Mir
चुनाव7 hours ago

कश्मीर : निकाय और पंचायत चुनावों में हिस्सा लेगी कांग्रेस

triple talaq
राष्ट्रीय8 hours ago

तीन तलाक को ‘राजनीतिक फुटबाल’ बना रही है मोदी सरकार: सुरजेवाला

hardik pandya asia cup
खेल9 hours ago

पाकिस्‍तान से मैच के दौरान पंड्या की पीठ पर आई गम्‍भीर चोट

bad-loan
व्यापार9 hours ago

आरटीआई का खुलासा- मोदी कार्यकाल में तीन गुना बढ़ा एनपीए!

iphone
टेक9 hours ago

नए आईफोन्स हैं पैसा वसूल : टिम कुक

Elephant
अन्य9 hours ago

बांधवगढ़ ले जाए जाएंगे उत्पाती हाथी

Kalidas
ज़रा हटके3 weeks ago

जहां दुनिया का महामूर्ख पैदा हुआ

MODI-SHAH
ब्लॉग4 weeks ago

‘एक देश एक चुनाव’ यानी जनता को उल्लू बनाने के लिए नयी बोतल में पुरानी शराब

rakhsa
लाइफस्टाइल4 weeks ago

इस राखी बहनें दें भाई को उपहार!

pm modi
ब्लॉग3 weeks ago

सत्ता के लालची न होते तो नोटबन्दी के फ़ेल होने पर मोदी पिछले साल ही इस्तीफ़ा दे देते!

Homosexuality
ब्लॉग2 weeks ago

समलैंगिकों को अब चाहिए शादी का हक

rahul gandhi
चुनाव2 weeks ago

कर्नाटक निकाय चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी बनी कांग्रेस

Maharashtra Police
ब्लॉग2 weeks ago

जब सिंहासन डोलने लगता है तब विपक्ष, ‘ख़ून का प्यासा’ ही दिखता है!

Jaiphal-
लाइफस्टाइल3 weeks ago

जायफल के ये फायदे जो कर देंगे आपको हैरान…

Bharat Bandh MP
ब्लॉग2 weeks ago

सवर्णों का ‘भारत बन्द’ तो बहाना है, मकसद तो उन्हें उल्लू बनाना है!

kerala flood
राष्ट्रीय4 weeks ago

केरल में थमी बारिश, राहत कार्यों में तेजी

Banda doctor
शहर9 hours ago

उप्र : चिकित्सक पिटता रहा, एसपी-डीएम ने नहीं उठाया फोन!

rahul gandhi
राजनीति18 hours ago

कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज को राहुल ने बताया बीजेपी की तानाशाही

babul
राष्ट्रीय18 hours ago

दिव्यांगों के कार्यक्रम में बाबुल सुप्रियो ने दी ‘टांग तोड़ डालने’ की धमकी

nheru-min
राजनीति6 days ago

दीनदयाल की मूर्ति के लिए हटाई गई नेहरू की प्रतिमा

arjun kapoor
मनोरंजन1 week ago

अर्जुन कपूर की फिल्म ‘नमस्ते इंग्लैंड’ का गाना ‘तेरे लिए’ रिलीज

mehul-choksi
राष्ट्रीय1 week ago

मेहुल चोकसी का सरेंडर से इनकार, कहा- ईडी ने गलत फंसाया

Mahesh bhatt
मनोरंजन1 week ago

महेश भट्ट की फिल्म ‘द डार्क साइड’ का ट्रेलर लॉन्च

Jalebi -
मनोरंजन1 week ago

रोमांस से भरपूर है महेश भट्ट की ‘जलेबी’, देखें ट्रेलर

Air-India-Flight
राष्ट्रीय2 weeks ago

मालदीव: एयर इंडिया के पायलट ने निर्माणाधीन रनवे पर लैंड कराया प्लेन

शहर2 weeks ago

कानपुर: पार्क में बैठे प्रेमी जोड़े को बनाया मुर्गा, वीडियो वायरल

Most Popular