Connect with us

चुनाव

मप्र में शिवराज के दांव पर कांग्रेस ने फेंका जाल

कांग्रेस का वचनपत्र मध्यप्रदेश की समृद्धि का नया इतिहास लिखेगा। यह विकास के साथ-साथ प्रदेश के हर नागरिक, चाहे वह किसान हो, युवा हो, गरीब मजदूर हो, महिला हो, इससे सभी वर्गो की तरक्की का मार्ग प्रशस्त होगा।

Published

on

Shivraj Ajay

भोपाल, 10 नवंबर | मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के ‘किसानपुत्र’, ‘महिला हितैषी’ और ‘युवाओं के हमदर्द’ होने के दांव पर कांग्रेस ने ‘वचनपत्र’ के जरिए ऐसा जाल फेंका है, जो शिवराज की बीते डेढ़ दशक में बनी छवि पर चादर डालता दिख रहा है।

शिवराज की अगुवाई में भाजपा तीसरा विधानसभा चुनाव लड़ने जा रही है। पिछले दो चुनावों में शिवराज की जीत में किसानों और महिलाओं की बड़ी भूमिका रही है। लाडली लक्ष्मी योजना और किसानों के लिए बनी योजनाओं ने शिवराज के सिर जीत का सेहरा बांधा था। शिवराज और भाजपा इस बार भी जीतने की रणनीति में व्यस्त है, मगर इसी बीच शनिवार को कांग्रेस ने ऐसा ‘वचनपत्र’ जारी किया, जिसमें सरकार बनने पर किसानों, युवाओं और महिलाओं के जीवन में बड़ा बदलाव लाने के वादे किए गए हैं।

वरिष्ठ राजनीतिक विश्लेषक साजी थॉमस कहते हैं कि शिवराज बीते डेढ़ दशक में राज्य में खुद को किसानपुत्र, महिलाओं का भाई, लड़कियों का मामा और युवाओं के आदर्श के तौर पर स्थापित हो चुके हैं। कांग्रेस ने अपने वचनपत्र में उन्हीं वर्गो के जीवन को बदलने का वादा किया है, जो शिवराज के निशाने पर और उनका सबसे बड़ा वोट बैंक रहा है। कांग्रेस के वादे पर यह वर्ग कितना भरोसा करता है, यह तो समय ही बताएगा।

विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा, “कांग्रेस का वचनपत्र मध्यप्रदेश की समृद्धि का नया इतिहास लिखेगा। यह विकास के साथ-साथ प्रदेश के हर नागरिक, चाहे वह किसान हो, युवा हो, गरीब मजदूर हो, महिला हो, इससे सभी वर्गो की तरक्की का मार्ग प्रशस्त होगा।”

वहीं कांग्रेस के वचनपत्र पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने चुटकी लेते हुए कहा कि कांग्रेस वचन तो देती है, मगर उसे पूरा कभी नहीं करती। इंदिरा गांधी ने गरीबी हटाने का वचन दिया था, मगर गरीबी नहीं हटी। राजीव गांधी ने गरीबी हटाओ का नारा दिया था, मगर गरीबी की जगह गरीब ही हटा दिए।

सच तो यह है कि भाजपा किसानों की आय दोगुनी करने और उन्हें फसल का उचित दाम दिलाने के वादे करती रही, मगर सरकार की ये कोशिशें जमीनी स्तर पर रंग नहीं ला पाईं। बीते दो साल में किसानों के कई आंदोलनों ने सरकार की छवि को नुकसान पहुंचाया है।

वहीं उद्योगों की स्थापना के बावजूद पर्याप्त संख्या में युवाओं को रोजगार नहीं मिला, साथ ही महिला असुरक्षा की घटनाओं में बढ़ोतरी हुई। इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखकर कांग्रेस ने वचनपत्र तैयार किया है, और सभी वर्गो से वादे किए हैं कि उनके कल्याण की योजनाएं तो बनेंगी ही, साथ ही शिक्षा और स्वास्थ्य के हालात में बदलाव आाएगा।

बहरहाल, कांग्रेस का वचनपत्र तो आ गया है, अब भाजपा का घोषणापत्र आने वाला है। अब देखना होगा कि भाजपा की क्या रणनीति होती है और वह कांग्रेस के वादों का किस तरह जवाब देती है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने तो मीडिया के सामने कह दिया है कि भाजपा संकल्पपत्र बनाती है, जो महज ‘जुमलापत्र’ बनकर रह जाता है।

–आईएएनएस

चुनाव

उत्तर प्रदेश तय करेगा मोदी का भाग्य : नीरज शेखर

दिवंगत प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के पुत्र नीरज शेखर का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विपक्षी दलों के गठबंधन से घबराए हुए हैं। यही कारण है कि वह महामिलावट जैसे शब्दों का इस्तेमाल करके इन पर निशाना साध रहे हैं।

Published

on

By

Narendra Modi

नई दिल्ली, 11 फरवरी | प्रियंका गांधी के सक्रिय राजनीति में पदार्पण से उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी गठबंधन पर कोई असर नहीं होगा, लेकिन इन दोनों दलों के एकजुट होने से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) जरूर घबराई हुई है। यह कहना है समाजवादी पार्टी के सांसद नीरज शेखर का। उनकी माने तो उत्तर प्रदेश ही लोकसभा चुनाव 2019 में प्रधानमंत्री मोदी के भाग्य का फैसला करेगा।

दिवंगत प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के पुत्र नीरज शेखर का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विपक्षी दलों के गठबंधन से घबराए हुए हैं। यही कारण है कि वह महामिलावट जैसे शब्दों का इस्तेमाल करके इन पर निशाना साध रहे हैं।

शेखर ने आईएएनएस को दिए एक साक्षात्कार में कहा, “राष्ट्रहित में हमारा लक्ष्य मोदी को हटाना है और मतदाता व कार्यकर्ता इस बात को अच्छी तरह जानते हैं। उनको यह भी मालूम है कि अगर मोदी दोबारा जीतते हैं तो कैसी स्थिति पैदा होगी।”

उनसे जब पूछा गया कि क्या कांग्रेस को अलग रखने से प्रियंका गांधी के बतौर कांग्रेस महासचिव पूर्वी उत्तर प्रदेश के पार्टी प्रभारी के रूप में सक्रिय राजनीति में आने के बाद सपा-बसपा गठबंधन को इसकी कीमत नहीं चुकानी पड़ेगी तो उन्होंने कहा कि इससे लोकसभा चुनाव 2019 में गठबंधन को फायदा होगा।

उन्होंने विश्वास के साथ कहा कि सपा-बसपा गठबंधन भगवा पार्टी को एकल अंक तक सीमित कर देगा।

राज्यसभा सदस्य नीरज शेखर उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के करीबी माने जाते हैं। उन्होंने कहा कि देश के किसानों और युवाओं में मोदी सरकार को लेकर काफी नाराजगी है, क्योंकि सरकार अपने वादे पूरे करने में विफल रही है।

शेखर ने कहा, “प्रधानमंत्री विपक्षी गठबंधन से इतने घबराए हुए हैं कि वह उनके खिलाफ मिलावट और महामिलावट जैसे शब्दों का इस्तेमाल करने लगे हैं। इससे उनकी मायूसी झलकती है। उनको भी इस बात का भान हो गया है कि उनकी रवानगी की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है।”

उन्होंने कहा, “उन्होंने (भाजपा) 40 से अधिक दलों का गठबंधन किया है। उन्होंने जम्मू एवं कश्मीर में भाजपा की विचारधारा की विरोधी रही पीपुल्स डेमोक्रेटि पार्टी के साथ गठबंधन किया, लेकिन जब हम गठबंधन कर रहे हैं तो उन्हें कष्ट होने लगा है।”

उन्होंने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के उस दावे को मजाक करार दिया जिसमें उन्होंने कहा है कि भाजपा और उसके सहयोगियों को उत्तर प्रदेश में 80 में से 73 से कम सीटें नहीं मिलेंगी। शेखर ने कहा कि सच्चाई यह है कि उत्तर प्रदेश ही मोदी के भाग्य का फैसला करेगा।

Continue Reading

चुनाव

उत्तर प्रदेश में अपने बूते चुनाव मैदान में उतरेगी कांग्रेस : राहुल

पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया की ओर संकेत करते हुए उन्होंने कहा कि इन्हें उत्तर प्रदेश न सिर्फ लोकसभा चुनाव के लिए भेजा गया है, बल्कि यह सुनिश्चित करने का दायित्व दिया गया है कि प्रदेश में अगली सरकार कांग्रेस की बने।

Published

on

By

Rahl Priyanka Gandhi

लखनऊ, 11 फरवरी | कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को स्पष्ट कर दिया कि कांग्रेस उत्तर प्रदेश में अपने बूते आगामी लोकसभा चुनाव में उतरेगी। उन्होंने कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं कि पार्टी उत्तर प्रदेश में पूरी ताकत व क्षमता के साथ आगामी लोकसभा चुनाव लड़ेगी। इस तरह राहुल गांधी ने प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के लिए अपने दरवाजे लगभग बंद कर दिए, मगर उन्होंने कहा कि वह दोनों दलों के नेता मायावती और अखिलेश यादव का आदर करते हैं।

पार्टी दफ्तर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए राहुल ने कहा कि समय आ गया है जब प्रदेश में कांग्रेस की विचारधारा को पुनर्जीवित किया जाना चाहिए।

पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया की ओर संकेत करते हुए उन्होंने कहा कि इन्हें उत्तर प्रदेश न सिर्फ लोकसभा चुनाव के लिए भेजा गया है, बल्कि यह सुनिश्चित करने का दायित्व दिया गया है कि प्रदेश में अगली सरकार कांग्रेस की बने।

राहुल गांधी ने कहा, “प्रदेश के लोगों को काफी भुगतना पड़ा है। उन्होंने हर पार्टी को अजमा के दिख लिया और सबकी परीक्षा ले ली। कांग्रेस को उत्तर प्रदेश की प्रगति और समृद्धि के लिए अगली सरकार बनानी होगी।”

उधर, पार्टी कार्यकर्ता ‘राहुल भैया, राहुल भैया’ के नारे लगा रहे थे।

पार्टी कार्यकर्ताओं से चुनाव-संग्राम के लिए कठिन परिश्रम करने को प्रोत्साहित करते हुए उन्होंने कहा कि यह एक तरफ विचारधारा, एकता और भाईचारे और दूसरी तरफ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस), भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और नरेंद्र मोदी की विभाजनकारी और घृणा की राजनीति के बीच की लड़ाई है।

उन्होंने पार्टी के कार्यकर्ताओं को भरोसा दिलाया कि किसी नेता को बाहर से नहीं लाया जाएगा, बल्कि जमीनी कार्यकर्ताओं को प्रोत्साहित किया जाएगा।

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भ्रष्टाचार के मामलों को लेकर एक बार फिर निशाना साधा।

प्रियंका गांधी और सिंधिया के रोडशो के समाप्त होने पर राहुल गांधी ने कहा कि चाहे किसानों की कर्जमाफी हो, नौकरियों के वादे हो या भ्रष्टाचार, मोदी सरकार की आलोचना करने के लिए मुद्दों की कमी नहीं है। मोदी ने समाज के सभी वर्गो के लोगों को निराश किया है।

Continue Reading

चुनाव

मप्र में 3 नेताओं की पत्नियां चुनावी समर में भर सकती हैं हुंकार !

Published

on

By

MP Loksabaha Candidate

भोपाल, 11 फरवरी | मध्य प्रदेश में भाजपा की ओर से पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पत्नी साधना सिंह के विदिशा, कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की पत्नी अमृता सिंह के राजगढ़ या इंदौर और कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया की पत्नी प्रियदर्शिनी राजे सिंधिया के गुना से चुनाव लड़ने की चर्चाएं जोरों पर हैं।

आगामी लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस मध्य प्रदेश में ज्यादा से ज्यादा सीटें जीतने की जुगत में है। इसके लिए दोनों दल उन सारे फॉर्मूलों पर काम कर रहे हैं, जो उन्हें जीत दिला सके। यही कारण है कि राज्य के तीन दिग्गज नेताओं की पत्नियों के भी हुंकार भरने के आसार हैं।

राज्य में डेढ़ दशक बाद कांग्रेस की सत्ता में वापसी हुई है, लिहाजा उसके लिए आगामी लोकसभा चुनाव काफी अहम है, वहीं दूसरी ओर भाजपा अपनी पकड़ को किसी भी स्थिति में कमजोर नहीं होने देना चाहती। इन हालातों में दोनों दल राज्य के 29 लोकसभा क्षेत्रों के लिए अभी से फूंक-फूंककर कदम बढ़ा रहे हैं। इसके साथ ही हर उस चेहरे का सियासी आकलन जारी है जो चुनाव लड़कर जीत दिलाने में सक्षम हों।

विदिशा से केंद्रीय मंत्री और वर्तमान सांसद सुषमा स्वराज के चुनाव लड़ने से इंकार किए जाने के बाद से इस संसदीय क्षेत्र से शिवराज अथवा उनकी पत्नी साधना सिंह के चुनाव लड़ने की चर्चा जोरों पर है।

पार्टी सूत्रों का कहना है, “यह शिवराज का प्रभाव वाला क्षेत्र है लिहाजा पार्टी शिवराज को यहां से चुनाव लड़ाकर उन्हें एक क्षेत्र तक सीमित नहीं करना चाहेगी, उनका राज्य और बाहर उपयोग किया जाएगा। इस स्थिति में उनकी पत्नी को पार्टी चुनाव मैदान में उतार सकती है।”

साधना सिंह लंबे अरसे से शिवराज के साथ राजनीतिक कार्यक्रमों में हिस्सेदारी के साथ बुधनी विधानसभा की चुनाव प्रचार अभियान की कमान संभाल चुकी हैं, साथ ही संगठन का भी अनुभव है।

पिछले कुछ अरसे से सोशल मीडिया पर साधना सिंह के समर्थन में अभियान चलाया जा रहा है और उन्हें विदिशा से उम्म्ीदवार बनाए जाने की मांग की जा रही है। सोशल मीडिया पर लगातार दावा किया जा रहा है कि साधना सिंह को विदिशा से उम्मीदवार बनाए जाने पर पार्टी की जीत सुनिश्चित है, साथ ही उन्हें सशक्त उम्मीदवार भी बताया जा रहा है।

दूसरी ओर गुना संसदीय क्षेत्र से ज्योतिरादित्य सिंधिया की पत्नी प्रियदर्शिनी राजे सिंधिया के भी चुनाव लड़ने की संभावनाएं बन रही हैं। प्रियदर्शिनी को गुना से चुनाव लड़ाने का कांग्रेस कार्यकर्ता प्रस्ताव भी पारित कर चुके हैं। इसके अलावा प्रियदर्शिनी की 18 फरवरी से गुना संसदीय क्षेत्र में सक्रियता भी बढ़ रही है। वे यहां 24 फरवरी तक रहकर महिला सम्मेलनों में हिस्सा लेंगी।

ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रचार अभियान में अहम जिम्मेदारी निभाने वाले मनीष राजपूत का कहना है, “प्रियदर्शिनी राजे के चुनाव लड़ने का फैसला तो सिंधिया परिवार ही करेगा, हां इतना जरूर है कि गुना संसदीय क्षेत्र से तो चुनाव वही जीतेगा जिसे सिंधिया राजघराने का समर्थन हासिल होगा। इसकी वजह है, सिंधिया परिवार के सदस्यों ने यहां के लोगों को अपने परिवार का सदस्य माना है और उनकी बेहतरी के लिए वह सब किया जो करना संभव था। लिहाजा क्षेत्रीय लोगों और सिंधिया परिवार का रिश्ता पारिवारिक है।”

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की पत्नी अमृता सिंह के राजगढ़ से चुनाव लड़ने की चर्चाएं गर्म है। राजगढ़ सिंह के प्रभाव का क्षेत्र है, विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने इस संसदीय क्षेत्र की पांच विधानसभा सीटें जीती हैं, लिहाजा कांग्रेस के लिए लोकसभा चुनाव में सुरक्षित सीट मानी जा रही है। सिंह स्वयं राज्यसभा के सदस्य हैं और चुनाव लड़ने का फैसला पार्टी पर छोड़ चुके हैं। सिंह ने बीते साल नर्मदा यात्रा की थी, उस दौरान अमृता सिंह पूरे समय उनके साथ रहीं, साथ ही तमाम आयोजनों में उनकी मौजूदगी को लेकर कयासों का बाजार गर्म है कि अमृता सिंह चुनाव लड़ सकती हैं।

पूर्व मुख्यमंत्री सिंह के करीबी सूत्रों का कहना है कि राजगढ़ संसदीय क्षेत्र पूरी तरह कांग्रेस के लिए सुरक्षित है, लिहाजा पार्टी हाईकामन के निर्देश के बाद ही आगे की रणनीति तय की जाएगी, मगर इतना तो तय है कि उम्मीदवार वही होगा जिसे सिंह का समर्थन होगा। इस संसदीय क्षेत्र के राघौगढ़ विधानसभा से सिंह के पुत्र जयवर्धन सिंह, खिलचीपुर से भतीजे प्रियव्रत सिंह और चाचौड़ा से छोटे भाई लक्ष्मण सिंह विधायक हैं।

वरिष्ठ राजनीतिक विश्लेषक गिरिजा शंकर का कहना है, “राज्य में भले ही कांग्रेस की सरकार बन गई हो मगर हकीकत यह है कि दोनों कांग्रेस और भाजपा जीतते-जीतते रह गए हैं, लिहाजा आगामी लोकसभा चुनाव में कोई जोखिम नहीं उठाना चाहता और जीतने वाले पर दाव लगाएंगे। इसलिए नेताओं की पत्नियों को चुनाव लड़ाने की बात हो रही है। कांग्रेस अगर मुख्यमंत्री कमलनाथ को भी लोकसभा चुनाव लड़ाए तो आश्चर्य नहीं होना चाहिए।”

राज्य में अभी हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को पूर्ण बहुमत नहीं मिला है, उसने बसपा, सपा और निर्दलीय विधायकों के सहयोग से सरकार बनाई है। राज्य की 230 विधानसभा सीटों में कांग्रेस को 114, भाजपा को 109 सीटें मिली है। वहीं बसपा दो, सपा एक और निर्दलीय चार स्थानों पर जीते हैं। वहीं वोट प्रतिशत भाजपा का कांग्रेस से ज्यादा है। लोकसभा की 29 सीटों में से भाजपा के पास 26 और कांग्रेस के पास तीन सीटें हैं। अब कांग्रेस लोकसभा सीटों के फासले को कुछ कम करना चाहती है।

Continue Reading
Advertisement
sensex
व्यापार25 mins ago

शेयर बाजारों के शुरुआती कारोबार में मजबूती

शहर35 mins ago

माघ पूर्णिमा: पांचवें शाही स्नान के लिए उमड़े श्रद्धालु

pm modi
राजनीति47 mins ago

प्रधानमंत्री का वाराणसी दौरा आज, कई करोड़ योजनाओं की देंगे सौगात

शहर55 mins ago

यमुना एक्सप्रेसवे पर एंबुलेंस और कार की टक्कर,7 की मौत

Actor Prashant Narayanan.
मनोरंजन1 hour ago

मोदी की बायोपिक में प्रशांत निभाएंगे विरोधी का किरदार

accident
शहर1 hour ago

बिहार के मुंगेर में ट्रक और ऑटो में भिड़ंत, 4 की मौत

Fire
शहर2 hours ago

दिल्ली के नरेला इंडस्ट्रियल एरिया की एक फैक्ट्री में लगी आग

anil kapoor
मनोरंजन2 hours ago

‘नायक.’ का सीक्वल बनाना अच्छा विचार होगा : अनिल कपूर

Akhilesh Yadav
शहर13 hours ago

देश को बुलेट ट्रेन नहीं जवानों के लिए बुलेट प्रूफ जैकेट की जरूरत : अखिलेश

Shatrughan Sinha
राष्ट्रीय13 hours ago

पुलवामा हमले पर जल्दबाजी में जवाबी कार्रवाई के खिलाफ हैं शत्रुघ्न सिन्हा

rose day-
लाइफस्टाइल2 weeks ago

Happy Rose Day 2019: करना हो प्यार का इजहार तो दें इस रंग का गुलाब…

Teddy Day
लाइफस्टाइल1 week ago

Happy Teddy Day 2019: अपने पार्टनर को अनोखे अंदाज में गिफ्ट करें ‘टेडी बियर’

mehul-choksi
राष्ट्रीय4 weeks ago

मेहुल चोकसी ने छोड़ी भारतीय नागरिकता

vailtine day
लाइफस्टाइल5 days ago

Valentines Day 2019 : इस वैलेंटाइन टैटू के जरिए करें प्यार का इजहार

Digital Revolution
ज़रा हटके3 weeks ago

अरबपति बनिया कैसे बन गए डिजिटल दिशा प्रवर्तक

Priyanka Gandhi Congress
ओपिनियन3 weeks ago

क्या प्रियंका मोदी की वाक्पटुता का मुकाबला कर पाएंगी?

Priyanka Gandhi
ओपिनियन3 weeks ago

प्रियंका के आगमन से चुनाव-पूर्व त्रिकोणीय हलचल

Rahul Gandhi and Priyanka Gandhi
ब्लॉग3 weeks ago

राहुल, प्रियंका के इर्द-गिर्द नए-पुराने कई चेहरे

politician
ब्लॉग3 weeks ago

‘बदजुबानी’ के आगे दफन हो रहे अहम मुद्दे : जमुना प्रसाद बोस

Priyanka Gandhi
चुनाव3 weeks ago

प्रियंका की ‘संजीवनी’ से उप्र में जिंदा हो सकती है कांग्रेस!

Most Popular