मुख्यमंत्री आवास के बाहर धरने पर बैठे सफाई कर्मचारी | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

शहर

मुख्यमंत्री आवास के बाहर धरने पर बैठे सफाई कर्मचारी

Published

on

Delhi
दिल्ली नगर निगम के सफाई कर्मचारियों का केजरीवाल के घर के बाहर प्रदर्शन। (photo credit ANI)

बीते कई दिनों से हड़ताल पर चल रहे पूर्वी दिल्ली नगर निगम के सफाई कर्मचारी गुरुवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के घर के बाहर प्रदर्शन पर बैठ गए हैं। इनकी मांग है कि जो सफाई कर्मचारी अनियमित हैं उनकी नौकरी पक्की की जाए। वहीं सफाई कर्मचारियों की ये भी मांग है कि उन्हें सैलरी नियमित रूप से दी जाए, जो कभी मिलती है कभी नहीं मिलती।

इससे पहले बुधवार को दिल्ली सरकार ने उच्चतम न्यायालय को बताया कि वह अगले दो दिन में स्थानीय निकायों को 500 करोड़ रुपये की राशि जारी करेगी इससे पूर्वी दिल्ली नगर निगम के सफाई कर्मचारियों की हड़ताल के कारण उपजे संकट से निपटने में मदद मिलेगी। गौरतलब है कि पूर्वी दिल्ली नगर निगम के कर्मचारी वेतन के नियमित भुगतान और कर्मचारियों के नियमितिकरण को लेकर हड़ताल पर हैं।

बता दें कि दिल्ली नगर निगम के सफाई कर्मचारी पिछले 23 दिन से अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर हैं। हड़ताल का असर दिल्ली की सड़कों पर नजर आ रहा है। पूरी दिल्ली कूड़े में तब्दील हो गई है और गंदगी से लोग परेशान हैं, लेकिन सफाई कर्मचारियों का साफ कहना है कि जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं हो जातीं तब तक दिल्ली का कचरा साफ नहीं होगा।

WeForNews

शहर

दिल्ली के आनंद विहार में एक रिहायशी बिल्डिंग में लगी आग

Published

on

fire
प्रतीकात्मक तस्वीर

दिल्ली के आनंद विहार इलाके की एक रिहायशी बिल्डिंग में आग लगी। राहत और बचावकार्य के लिए फायर ब्रिगेड की 7 गाड़ियां घटनास्थल के लिए रवाना हुई।

wefornews

Continue Reading

शहर

श्रमिक स्पेशल ट्रेन के सामने कूदा ट्रैफिक पुलिसकर्मी, मौत

Published

on

suicide
प्रतीकात्मक तस्वीर

आगरा (उप्र): आगरा में 48 वर्षीय ट्रैफिक हेड कांस्टेबल ने तेज रफ्तार श्रमिक स्पेशल ट्रेन के सामने कूदकर कथित रूप से आत्महत्या कर ली।

कथित तौर पर हेड कांस्टेबल अशोक कुमार अवसाद में थे। वह 1997 में यातायात पुलिस में शामिल हुए थे। उनके परिवार में पत्नी और तीन बच्चे हैं। उनके दो बेटे भी उत्तर प्रदेश पुलिस में कॉन्स्टेबल हैं।

कुमार इंटरसेप्टर की ड्यूटी के लिए तैनात थे, लेकिन हाल ही में रकाबगंज पुलिस सर्कल के तहत बिजली घर इलाके में उन्हें ट्रैफिक मैनेजमेंट की ड्यूटी दी गई थी। मंगलवार को वह दो दिन की छुट्टी के बाद ड्यूटी पर आए थे।

बुधवार को उनका शव आगरा फोर्ट रेलवे स्टेशन से 2 किमी दूर पाया गया।

घटना के बाद आगरा के एसएसपी बबलू कुमार और अन्य पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया।

रकाबगंज के एसएचओ विकास तोमर ने कहा, “आत्महत्या के पीछे का सही कारण अभी तक पता नहीं चल पाया है, लेकिन बिजली घर ट्रैफिक ड्यूटी पर तैनात उनके सहयोगी ने कहा कि छुट्टी से लौटने के बाद कुमार उदास दिखे। उनका कहना था कि वह हमेशा मजाक के मूड में रहते थे। चूंकि उनका परिवार अभी सदमे की स्थिति में है, लिहाजा हम उनसे बाद में बात करेंगे।”

–आईएएनएस

Continue Reading

व्यापार

व्यापारी से मारपीट के आरोप में आगरा के दो सिपाही निलंबित

Published

on

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली, आगरा में स्थानीय व्यापारी का पीछा करने और उससे घर के बाहर मारपीट करने के आरोप के चलते दो पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। सीसीटीवी कैमरे में सिपाही, व्यापारी का पीछा करते हुए नजर आ रहे थे।

व्यापारी अपने दोपहिया वाहन पर बिना हेलमेट और मास्क के घूम रहा था। यह घटना बुधवार को न्यू आगरा पुलिस सीमा के तहत कमला नगर में एक रिहायशी इलाके में हुई।

घायल व्यापारी की पहचान राकेश गुप्ता (55) के रूप में की गई है, जबकि निलंबित पुलिसकर्मियों की पहचान चीता मोबाइल फोर्स के कॉन्सटेबल राकेश शर्मा और दिनेश के रूप में हुई है। लॉकडाउन के दौरान इन दोनों को लोगों की आवाजाही पर नजर रखने की ड्यूटी दी गई थी।

वीडियो में पुलिस मोटर-बाइक पर दो कांस्टेबल, व्यापारी राकेश गुप्ता का उनके घर तक पीछा करते हुए दिखाई दिए और फिर उन पर अपने डंडे से मारने के लिए टूट पडे।

आगरा के एसएसपी बबलू कुमार ने कहा, “इस तरह का व्यवहार स्वीकार्य नहीं है। दोनों पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है।”

पीड़ित के चचेरे छोटे भाई डॉ. संजय गुप्ता न्यूरोलॉजिस्ट हैं। उन्होंने कहा, “राकेश गुप्ता नाश्ते के लिए ब्रेड खरीदने पास की किराने की दुकान पर गए थे। जब उन्होंने चेक-पॉइंट पर पुलिस को देखा, तब तक उन्होंने अपने दोपहिया वाहन पर केवल 50 मीटर की यात्रा की थी। पुलिसकर्मियों को देखकर उन्होंने यू-टर्न लिया, इससे पुलिसकर्मियों को गुस्सा आ गया और उन्होंने उसका घर तक पीछा किया।”

डॉक्टर संजय ने कहा, “जैसे ही राकेश गुप्ता घर के दरवाजे पर पहुंचे, उनके पीछे वाले पुलिसवाले मोटर-बाइक से जा पहुंचे और नियम का उल्लंघन के लिए उनसे सवाल किए बिना ही उन पर लाठियां बरसाने लगे।”

न्यू आगरा के स्टेशन हाउस अधिकारी उमेश चंद्र त्रिपाठी ने कहा, “राकेश गुप्ता का घर 50 मीटर की दूरी पर नहीं है, बल्कि जहां पुलिसकर्मी ड्यूटी पर थे, उससे बहुत दूर है। पुलिसकर्मियों को देखकर उन्होंने एक चोर की तरह भागने का प्रयास किया। जब कांस्टेबल राकेश शर्मा ने उन्हें रोकने की कोशिश की और पीछे से उनकी दोपहिया वाहन के धातु के हैंडल को पकड़ा। राकेश ने उसे अपने दोपहिया वाहन के साथ कम से कम 25 मीटर तक खींचा।”

एसएचओ ने आगे कहा, “जब वे उसका पीछा कर रह थे तक राकेश गुप्ता और पुलिस के बीच आपत्तिजनक गाली-गलौज भी हुई। राकेश ने एक चोर की तरह काम किया और वह आवासीय इलाके की गलियों में दो पुलिसकर्मियों द्वारा पकड़ा गया।”

आगरा के एसपी सिटी रोहन बोत्रे को घटना की जांच करने और अपनी रिपोर्ट एसएसपी को सौंपने के लिए कहा गया है। इस बीच, स्थानीय व्यापारी संघ ने राकेश गुप्ता के मेडिकल परीक्षण और दोनों कांस्टेबल के खिलाफ एफआईआर की मांग की है।

आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular