खेल

चाइना ओपन की खिताबी जीत से मिलेगा दुबई सुपर सीरीज फाइनल्स का टिकट, भारतीय शटलर्स तैयार

saina-and-prannoy
साइना-प्रणय (फाइल फोटो)

चाइना ओपन में इस बार चीनी खिलाड़ियों ज्यादा भारतीय शटलर्स पर नज़र रहेंगी.. हाल ही में नेशनल चैंपियन बनीं साइना नेहवाल और एच एस प्रणय की नज़र चाइना ओपन की खिताबी जीत पर लगी होंगी क्योंकि यहां मिली जीत उन्हें प्रतिष्ठित दुबई सुपर सीरीज फाइनल्स के लिए क्वालिफाइ करा देगी… वहीं सिंधु जीत के साथ अपने अभियान को पटरी पर लाना चाहेंगी…

खिताब चाइना ओपन का है लेकिन लक्ष्य दुबई सुपर सीरीज फाइनल्स के लिए क्वालिफाई करना है..इस लिहाज़ से भारतीय शटलर्स के लिए चाइना ओपन का प्लेटफॉर्म ज्यादा अहमियत रखता है.. मौजूदा नेशनल चैंपियन भारतीय महिला शटलर साइना नेहवाल और एचएस प्रणय चाइना ओपन सुपर सीरीज प्रीमियर खिताब अपने नाम कर दुबई सुपर सीरीज फाइनल्स के लिए क्वालिफाई ज़रुर करना चाहेंगे…. वर्ल्ड नंबर वन रह चुकी साइना ने हाल में रियो ओलंपिक की सिल्वर मेडलिस्ट पीवी सिंधू को हराकर तीसरी बार नेशनल चैंपियनशिप का खिताब अपने नाम किया…. वहीं प्रणय ने मौजूदा वर्ष में चार सुपर सीरीज खिताब जीतने वाले किदांबी श्रीकांत को शिकस्त देकर कर पहली बार नेशनल चैंपियन बनने का गौरव हासिल किया….

साइना और प्रणय इस वक्त वर्ल्ड रैंकिंग में 11वें स्थान पर हैं… उनके पास दुबई सुपर सीरीज़ फाइनल्स जैसे प्रतिष्ठित टूर्नामेंट को लिए क्वालिफाई करने के लिए सिर्फ दो टूर्नामेंट चाइना ओपन और हांगकांग ओपन ही बचे हैं… इस लिहाज़ से चाइना ओपन में इनका प्रदर्शन काफी मायने रखेगा… चोट के बाद शानदार फॉर्म में लौटीं 27 वर्षीया साइना का चाइना ओपन में पहला मुकाबला अमेरिका की बेवेन झांग से है जबकि प्रणय अपने अभियान की शुरुआत क्वालिफायर खिलाड़ी के खिलाफ करेंगे… इन दोनों ही खिलाड़ियों का पहला मुकाबला 15 नवंबर को खेला जाएगा… साइना की फॉर्म और लय नेशनल चैंपियनशिप जीकने के बाद पटरी पर लौटी है… लिहाज़ा साइना यहां से अपनी तैयारियों को पुख्ता तरीके से अंजाम देना चाहेंगी.. तो वहीं एचएस प्रणय के पास भी कमोबेश ऐसा ही मौका होगा जहां वो इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट में जीत के साथ बड़ी उपलब्धि अपने नाम कर सकते हैं…

जीत की राह पर लौटना चाहेंगी सिंधु

इस सीज़न में इंडिया ओपन और कोरिया ओपन के अलावा वर्ल्ड चैंपियनशिप में सिल्वर मेडल जीतने वाली पी वी सिंधू नेशनल चैंपियनशिप के फाइनल में मिली हार के बाद जीत की राह पर लौटना चाहेंगी… सिंधु पहले दौर में जापान की सयाका सातो के खिलाफ खेलेंगी जिन्होंने इसी साल इंडोनेशिया ओपन खिताब अपने नाम किया है… सिंधु जानती हैं कि कोर्ट पर अच्छी फॉर्म में लौटने का एक ही मूल मंत्र है जीत.. इस लिहाज से सिंधु का सारा फोकस पहले मुकाबले की जीत पर होगा…

पोनप्पा-रंकीरेड्डी की जोड़ी मुख्य दौर में

अश्विनी पोनप्पा और सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी की भारतीय मिश्रित युगल जोड़ी ने क्वॉलिफाइंग में 2 मैच जीतकर चीन ओपन सुपर सीरीज प्रीमियर बैडमिंटन टूर्नमेंट के मुख्य ड्रॉ में जगह बनाने में सफल हो गई… अश्विनी और सात्विकसाईराज ने निकलास नोहर और सारा थिगेसन की डेनमार्क की जोड़ी को 21-16, 19-21, 22-20 से शिकस्त दी.. और मेन ड्रॉ के लिए क्वालिफाई किया… अब पोनप्पा-रंकीरेड्डी की जोड़ी को मुख्य ड्रॉ के पहले दौर में माथियास क्रिस्टेनसन और क्रिस्टीना पेडरसन की डेनमार्क की जोड़ी से भिड़ना है…. यानी अगर भारतीय शटलर्स अगर अपने शबाब पर हुए तो चाइना ओपन में चीनी खिलाड़ियों से ज्यादा भारतीय शटलर्स सुर्खियां बटोरते नज़र आएंगे… क्योंकि इस वक्त बैडमिन्टन जैसे खेल में भारत एक महाशक्ति के तौर पर उभर रहा है जिसने चीनी खिलाड़ियों को भी खौफ से भर दिया है..

WeForNews Bureau

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top