तेलंगाना चुनाव के लिए बीजेपी ने जारी की चौथी लिस्ट | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

चुनाव

तेलंगाना चुनाव के लिए बीजेपी ने जारी की चौथी लिस्ट

Published

on

bjp

तेलंगाना विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने अपने प्रत्याशियों की चौथी लिस्ट जारी कर दिया है। इस लिस्ट में सात प्रत्याशियों के नाम घोषित किए हैं। तेलंगाना विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने जुबली हिल्स से श्रीधर रेड्डी, संन्तनगर से भवरलाल वर्मा, छेन्नूर से अंगदूला श्रीनिवासुलु, जाहिराबाद से जंगम गोपी, गलवेल से अकुल विजय, नारसमपेट से एदला अशोक रेड्डी और पालकुर्ती से सोमैय्या गौड को चुनावी मैदान में उतारा है।

Fourth list of candidates for Telangana polls

तेलंगाना के लिए बीजेपी ने पहली सूची में 28, दूसरी सूची में 38 और तीसरी सूची में 20 प्रत्याशियों की घोषणा की थी। बता दें कि तेलंगाना में 7 दिसंबर को वोटिंग और 11 दिसंबर को नतीजे आएंगे।

WeForNews

चुनाव

रूपाणी के घर भाजपा की बैठक चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन : कांग्रेस

Published

on

By

congress logo

गांधीनगर, 18 मार्च | कांग्रेस ने निर्वाचन आयोग से शिकायत की है कि भाजपा ने मुख्यमंत्री विजय रूपाणी के सरकारी आवास पर पिछले दो दिनों से चुनाव संबंधित बैठकें आयोजित कर आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन किया है। कांग्रेस की राज्य इकाई के चुनाव समन्वयन समिति के अध्यक्ष, बाबूभाई पटेल ने राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी के यहां शिकायत दर्ज कराई है।

भाजपा ने राज्य में लोकसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों के चयन पर चर्चा के लिए रविवार को गांधीनगर में मुख्यमंत्री के आवास पर बैठक बुलाई थी। राज्य की 26 सीटों के लिए मतदान एक चरण में 23 अप्रैल को होगा।

पार्टी की इस चुनावी बैठक में लोकसभा चुनाव के लिए गुजरात में भाजपा के प्रभारी ओम माथुर, राज्य इकाई के अध्यक्ष जीतू वाघानी, मुख्यमंत्री रूपाणी, उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल और राज्य के कई भाजपा नेताओं ने हिस्सा लिया।

मुख्यमंत्री आवास से कुछ मिलोमीटर दूर पार्टी मुख्यालय कमलम में बैठक न आयोजित करने का कारण पूछे जाने पर वाघानी ने कहा कि सुरक्षा कारणों से ऐसा किया गया।

इस पर पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने कहा, “राज्य में स्थिति इतनी खराब है कि दो दशक से अधिक समय से राज्य में सत्ता पर काबिज होने के बावजूद भाजपा नेता गांधीनगर में अपने मुख्यालय में एक बैठक आयोजित करने में सुरक्षित नहीं महसूस कर रहे हैं, फिर आम नागरिक की क्या हालत होगी, कल्पना कीजिए?” हार्दिक हाल ही में कांग्रेस में शामिल हुए हैं।

सूत्रों के अनुसार, मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने गांधीनगर के कलेक्टर को शिकायत की जांच करने का आदेश दिया है। लेकिन कई कोशिशों के बावजूद इस संबंध में मुख्य निर्वाचन अधिकारी की तरफ से कोई आधिकारिक प्रतिक्रिया नहीं मिल पाई।

Continue Reading

चुनाव

वाम दलों ने खुले गठबंधन से इनकार कर दिया : बंगाल कांग्रेस

पश्चिम बंगाल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष मन्नान ने कहा, “यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि हम बंगाल में 2019 का चुनाव कुछ वाम नेताओं के अहंकार के कारण वाम मोर्चा के साथ मिलकर नहीं लड़ पा रहे हैं।”

Published

on

By

Abdul Mannan and Sujan Chakrabarty

कोलकाता, 18 मार्च | वरिष्ठ कांग्रेस नेता अब्दुल मन्नान ने सोमवार को कहा कि पश्चिम बंगाल में वाम मोर्चा के साथ सीट एडजस्टमेंट पर बातचीत विफल हो गई, क्योंकि वाम दलों ने खुले गठबंधन से इनकार कर दिया। कांग्रेस के साथ गठबंधन वार्ता के प्रभारी रहे वाम नेताओं की आलोचना करते हुए मन्नान ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि राज्य में भाजपा विरोधी, तृणमूल विरोधी एक मजबूत मंच बनाने की संभावना उनके अहंकार के कारण साकार नहीं हो पाई।

पश्चिम बंगाल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष मन्नान ने कहा, “यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि हम बंगाल में 2019 का चुनाव कुछ वाम नेताओं के अहंकार के कारण वाम मोर्चा के साथ मिलकर नहीं लड़ पा रहे हैं।”

उन्होंने सवाल किया, “हम जनता को भाजपा विरोधी, तृणमूल विरोधी मजबूत गठबंधन मुहैया कराना चाहते थे। हम पूरे देश में भाजपा के खिलाफ लड़ रहे हैं। लेकिन उनके (वाम) पार्टी नेताओं ने बंगाल में बयान दिए कि दोनों दलों के बीच खुला गठबंधन नहीं होगा, बल्कि सिर्फ सीटों की साझेदारी होगी। उन्होंने संयुक्त अभियान चलाने, संयुक्त सभाएं करने या कांग्रेस नेताओं के साथ मंच साझा करने से इनकार कर दिया। फिर वह किस तरह का गठबंधन होता?”

मन्नान ने कहा कि वाम दलों और कांग्रेस द्वारा पिछले आम चुनाव में जीती गईं छह सीटों को लेकर प्रारंभिक गतिरोध कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के हस्तक्षेप से सुलझ गया था। उन्होंने राज्य के कांग्रेस नेतृत्व को इस बात के लिए मनाया कि माकपा के कब्जे वाली दोनों सीटों पर कोई उम्मीदवार न उतारा जाए।

उन्होंने कहा, “हम खुला गठबंधन चाहते थे, ताकि दोनों दलों के सभी कार्यकर्ता एकसाथ काम कर सकें। लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया। जनता को मूर्ख बनाने की जरूरत नहीं है। यदि हम गुप्त गठबंधन करते हैं, तो जनता हमें सबसे बड़ा फ्रॉड समझेगी।”

Continue Reading

चुनाव

पहले चरण के चुनाव के लिए आयोग की अधिसूचना जारी

Published

on

Election Commission

चुनाव आयोग ने लोकसभा चुनाव 2019 के पहले चरण के चुनाव के लिए अधिसूचना जारी कर दी। अधिसूचना जारी होते ही आम चुनाव की औपचारिक प्रक्रिया शुरू हो गई है। लोकसभा चुनाव का पहला चरण 11 अप्रैल को है। इस दिन अलग-अलग राज्यों की 91 सीटों पर मतदान होगा।

इस बार लोकसभा चुनाव 7 चरणों में होंगे। पहले चरण में आंध्र प्रदेश की सभी 25, उत्तर प्रदेश की 8, महाराष्ट्र की 7, असम और उत्तराखंड की 5-5 सीटों पर मतदान होगा। वहीं, बिहार और ओडिशा की 4-4, अरुणाचल प्रदेश, मेघालय, पश्चिम बंगाल और जम्मू-कश्मीर की 2-2 व छत्तीसगढ़, मिजोरम, सिक्किम, त्रिपुरा, मणिपुर, अंडमान निकोबार द्वीप समूह और लद्दाख की एक-एक लोकसभा सीट पर 11 अप्रैल को ही वोट डाले जाएंगे।

लोकसभा की 543 सीटों के लिए मतदान सात चरणों में होना है। पहले चरण के लिए 11 अप्रैल को वोटिंग होगी। पहले चरण में 20 राज्यों व केंद्रशासित प्रदेशों की 91 सीटों पर मतदान होगा, जिनके लिए नामांकन पत्र भरने की आखिरी तारीख 25 मार्च है। नामांकन पत्रों की जांच 26 मार्च को होगी और 28 मार्च तक नाम वापस लिए जा सकेंगे। सभी सातों चरणों के लिए मतगणना 23 मई को होगी। 11 अप्रैल को ही आंध्र प्रदेश विधानसभा की 175, अरुणाचल प्रदेश की 60, सिक्किम की सभी 32 और ओडिशा की 147 में से 28 विधानसभा सीटों पर मतदान होगा।

गौरतलब है कि लोकसभा चुनावों की घोषणा 10 मार्च को हुई थी, जिसके बाद देशभर में आदर्श आचार संहिता लागू हो गई। दूसरे चरण में मतदान 18 अप्रैल को, तीसरे चरण में 23 अप्रैल को, चौथे चरण में 29 अप्रैल को, 5वें चरण में 6 मई को, छठे चरण में 12 मई को और सातवें चरण में 19 मई को होगा। वहीं, 23 मई को चुनाव के नतीजे आएंगे।

WeForNews

Continue Reading

Most Popular