प्रियंका गांधी की सुरक्षा में बड़ी चूक, उनके आवास में घुसे कार सवार | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

Published

on

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की सुरक्षा में बड़ी चूक हुई है। कार में सवार कुछ लोग उनके आवास परिसर में घुस गए और तस्वीर खींचने के लिए आग्रह करने लगे। इसके बाद प्रियंका गांधी ने उनके साथ तस्वीरें खिंचवाईं। केस दर्ज कर पूरे मामले की जांच की जा रही है।

WeForNews

राष्ट्रीय

त्रिपुरा में 48 घंटों के लिए SMS और मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद

Published

on

Smartphone-Addiction-min-1
प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली, नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB) के खिलाफ पूर्वोत्तर राज्यों में चल रहे विरोध प्रदर्शनों के बीच त्रिपुरा सरकार ने sms और मोबाइल इंटरनेट सेवा 48 घंटे के लिए बंद कर दी है। 10 दिसंबर दोपहर 2 बजे से इने सेवाओं पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

दरअसल पुलिस को पता चला था कि मनु कंचनपुर क्षेत्र में आदिवासियों और गैर-आदिवासियों के बीच जातीय संघर्ष के बारे में अफवाह फैलाई जा रही है।  एहतियातन अफवाह को रोकने के लिए सरकार ने मोबाइल इंटरनेट और एसएमएस सेवाओं को निलंबित कर दिया है।

त्रिपुरा के कई शहरों में इस विरोध प्रदर्शन के दौरान सुरक्षा बलों और आम लोगों के बीच तीखी झड़प देखने को मिली। नागालैंड छोड़कर त्रिपुरा समेत पूर्वोत्तर के सभी राज्यों में 11 घंटे का बंद बुलाया गया है। विधेयक के ख़िलाफ़ सुबह 5 बजे से ही इन राज्यों में आम जन-जीवन पूरी तरह अस्त-व्यस्त है। लोग CAB को वापस लेने की मांग के साथ सड़कों पर उतरे हुए हैं।

WeForNews

Continue Reading

राष्ट्रीय

‘अनुच्छेद-370 की बहाली तक नेकां राजनीति में हिस्सा नहीं लेगी’

Published

on

Farooq Abdullah

नेशनल कांफ्रेस के वरिष्ठ नेता मुस्तफा कमाल ने कहा है कि जब तक अनुच्छेद-370 और जम्मू-कश्मीर राज्य की बहाली नहीं हो जाती, तब तक नेकां राजनीतिक प्रक्रिया में हिस्सा नहीं लेगी।

हिरासत में लिए गए पूर्व मुख्यमंत्री और नेकां प्रमुख फारूक अब्दुल्ला के भाई मुस्तफा ने आईएएनएस के साथ एक विशेष बातचीत में यह बात कही।

उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी किसी भी राजनीतिक प्रक्रिया का हिस्सा नहीं होगी, क्योंकि जम्मू-कश्मीर के लोगों के हितों को नहीं देखा जा रहा है।

नेकां नेता ने कहा, “उन्होंने जम्मू एवं कश्मीर की विशेष स्थिति को ध्वस्त कर दिया। हम इस प्रणाली में किसी भी राजनीतिक प्रक्रिया में भाग नहीं ले सकते।”

उन्होंने कहा, “हम अनुच्छेद 371 नहीं चाहते हैं, जो लोग इसे चाहते हैं, उन्हें इसे लेने दें। वे एक तीसरे मोर्चे के बारे में बात कर रहे हैं। उन्हें इसके साथ जाने दें। नेशनल कॉन्फ्रेंस अपना रुख नहीं बदलेगी।”

उन्होंने जम्मू एवं कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को निरस्त करने की कड़ी आलोचना भी की।

उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी केंद्र के इस एकतरफा फैसले के खिलाफ एक प्रस्ताव को आगे बढ़ाने के लिए जमीन तैयार कर रही है और उन्हें उम्मीद है कि सुप्रीम कोर्ट अनुच्छेद 370 को असंवैधानिक घोषित करेगा।

उन्होंने कहा, “हमें सुप्रीम कोर्ट पर भरोसा है। यह एक तथ्य है कि अनुच्छेद 370 जम्मू-कश्मीर विधानसभा की मंजूरी के बिना निरस्त कर दिया गया था।”

उन्होंने कहा कि कश्मीर को लेकर भारत पर अंतर्राष्ट्रीय दबाव बढ़ रहा है और वर्तमान स्थिति हमेशा के लिए जारी नहीं रह सकती।

मुस्तफा ने कहा कि वह फारूक अब्दुल्ला के संपर्क में हैं और उन्होंने कहा है कि वह कोई भी समझौता नहीं करेंगे।

उन्होंने कहा कि जब फारूक अब्दुल्ला हमेशा अपने सिद्धांतों पर अड़े रहे हैं तो अब वह अपना रुख क्यों बदलेंगे?

–आईएएनएस

Continue Reading

राष्ट्रीय

जम्मू-कश्मीर प्रशासन के कहने पर नेताओं की होगी रिहाई : शाह

Published

on

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने सदन में कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में हालात सामान्य हैं। शाह ने लोकसभा को बताया कि जब जम्मू एवं कश्मीर का प्रशासन चाहेगा तब सुरक्षा के मद्देनजर हिरासत में लिए गए नेताओं को रिहा कर दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 को रद्द करने और प्रदेश से विशेष राज्य का दर्जा वापस लिए जाने के बाद से वहां पुलिस की गोली से एक भी व्यक्ति की मौत नहीं हुई है।

कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी द्वारा उठाए गए एक प्रश्न का उत्तर देते हुए शाह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने कहा था कि अनुच्छेद 370 को रद्द करने के बाद वहां रक्तपात होगा और सरकार वहां से सालों तक कर्फ्यू नहीं हटा पाएगी। लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ।

उन्होंने कहा, “जहां तक जम्मू एवं कश्मीर में हालात की बात है, वहां की स्थिति पूर्ण रूप से सामान्य है। लेकिन मैं कांग्रेस की स्थिति को सामान्य नहीं कर सकता हूं।”

शाह के कनिष्ठ जी. किशन रेड्डी (गृह राज्य मंत्री) द्वारा सूचित किए जाने के बाद जम्मू और कश्मीर की वर्तमान स्थिति पर सरकार के स्पष्टीकरण का मजाक उड़ाने वाले कांग्रेस सांसद अधीर रंजन के प्रश्न पर टिप्पणी देते हुए गृहमंत्री ने यह बात कही।

चौधरी ने कहा था, “इनके (सरकार के) अनुसार, जम्मू एवं कश्मीर में राम राज्य है। सभी राजनीतिक नेताओं को बंद कर दिया गया है। हमारे सांसद वहां नहीं जा सकते हैं, लेकिन देश के बाहर के सांसदों को वहां ले जाया जाता है। आपने (अमित शाह) सदन में वादा किया था कि जम्मू एवं कश्मीर में सब सामान्य हो जाएगा।”

प्रश्नकाल में जवाब देते हुए गृहमंत्री ने कहा कि पांच अगस्त के बाद से एक भी व्यक्ति की मौत गोली से नहीं हुई है। इसी दिन अनुच्छेद 370 को रद्द करके जम्मू एवं कश्मीर से विशेष राज्य का दर्ज लेकर प्रदेश से लद्दाख क्षेत्र को अलग कर दो केंद्रीय शासित प्रदेशों में विभाजित किया गया था।

मंत्री ने कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में हाल ही में संपन्न हुई परीक्षाओं में 99.5 प्रतिशत छात्रों ने भाग लिया।

अधीर रंजन चौधरी द्वारा उठाए गए प्रश्न ‘राजनीतिक गतिविधि’ को क्या सामान्य स्थिति के रूप में देखा जाए? इसके जवाब पर शाह ने नेता पर निशाना साधते हुए कहा, “जब विद्यार्थी परीक्षाओं में भाग लेते हैं, सात लाख से अधिक ओपीडी मरीजों को स्वास्थ्य सेवाएं प्राप्त होती हैं, यातायात सामान्य हैं, पुलिस थानों से धारा 144 को हटा लिया जाता है, शायद उन्हें यह सामान्य स्थिति नहीं दिखाई देती।”

शाह ने कहा, “वह केवल ‘राजनीतिक गतिविधि’ को सामान्य स्थिति समझते हैं। जहां तक ‘राजनीतिक गतिविधि’ का सवाल है, 40 हजार से अधिक पंचायत चुनाव संपन्न हुए हैं, जो कि कांग्रेस के शासनकाल से अधिक है। बाद में खंड विकास परिषद के चुनाव 95 प्रतिशत वोटिंग के साथ शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुए। क्या यह राजनीतिक नहीं है?”

गृहमंत्री ने आगे कहा, “जहां तक नेताओं को जेल से रिहा करने का विषय है, मैं यह कहना चाहता हूं हम किसी को एक दिन भी जेल में नहीं रखना चाहते हैं। जब जम्मू एवं कश्मीर का प्रशासन निर्णय करेगा उन्हें (नेताओं) को रिहा कर दिया जाएगा।”

शाह ने इस बात का जिक्र किया कि इन नेताओं को कैद में केवल पांच-छह महीने हुए हैं, लेकिन फारूक अब्दुल्ला के पिता शेख अब्दुल्ला को कांग्रेस की इंदिरा गांधी सरकार ने 11 साल जेल में रखा था।

उन्होंने कहा, “हम कांग्रेस के पद चिन्हों पर नहीं चलना चाहते हैं। जब जम्मू एवं कश्मीर के प्रशासन को ठीक लगेगा उन्हें रिहा कर दिया जाएगा। हम उनकी (कांग्रेस) तरह प्रशासन के कार्यो में हस्तक्षेप नहीं करते हैं।”

शाह ने कहा, “हमें जम्मू एवं कश्मीर में बंद कुछ नेताओं की चिंता होनी चाहिए। वे (कांग्रेस) करते हैं, हम भी करते हैं। लेकिन घाटी के लोगों में एक संदेश जरूर जाना चाहिए कि कांग्रेस पार्टी केवल कैद में बंद नेताओं की चिंता करती है न कि राजनीतिक गतिविधि की।”

–आईएएनएस

Continue Reading
Advertisement
sensex-min (1)
व्यापार3 hours ago

शेयर बाजार में गिरावट, सेंसेक्स 248 अंक नीचे

राजनीति3 hours ago

नागरिकता बिल पर उद्धव ठाकरे का यू टर्न

Smartphone-Addiction-min-1
राष्ट्रीय3 hours ago

त्रिपुरा में 48 घंटों के लिए SMS और मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद

imran khan
अंतरराष्ट्रीय4 hours ago

नागरिकता बिल पर इमरान बोले- ये भारत-पाक समझौतों का उल्लंघन

facebook
टेक4 hours ago

फेसबुक ने जमाते इस्लामी पाकिस्तान का ‘कश्मीर मार्च’ पेज हटाया

Farooq Abdullah
राष्ट्रीय4 hours ago

‘अनुच्छेद-370 की बहाली तक नेकां राजनीति में हिस्सा नहीं लेगी’

Deepika
मनोरंजन4 hours ago

दीपिका की फिल्म ‘छपाक’ का ट्रेलर रिलीज

राष्ट्रीय4 hours ago

जम्मू-कश्मीर प्रशासन के कहने पर नेताओं की होगी रिहाई : शाह

Yes_Bank_wefornewshindi
व्यापार5 hours ago

यस बैंक ने ब्रेच के प्रस्ताव पर फैसला टाला

Joint Pain-
लाइफस्टाइल5 hours ago

रक्त का तापमान घटने से बढ़ता है जोड़ों का दर्द

लाइफस्टाइल4 days ago

टाइप-2 डायबिटीज से हृदय रोग का खतरा ज्यादा

cancer
लाइफस्टाइल3 weeks ago

दांतों की वजह से भी हो सकता है जीभ का कैंसर

Stomach-
स्वास्थ्य4 weeks ago

पेट दर्द या अपच को कभी न करें अनदेखा…

लाइफस्टाइल2 weeks ago

मलेरिया में भूलकर भी इन चीजों का न करें सेवन…

Sleep-Nap
स्वास्थ्य3 weeks ago

मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करती है अशांत नींद

weight-loss-min
स्वास्थ्य3 weeks ago

वेट लूज करने के लिए करें ये काम…

e-cigarette
स्वास्थ्य3 weeks ago

मसालेदार ई-सिगरेट से हृदय रोग का जोखिम ज्यादा

Breast Cancer
स्वास्थ्य1 week ago

स्तन कैंसर से बढ़ जाता है हृदय रोग का खतरा

Breast Cancer
स्वास्थ्य3 weeks ago

‘स्तन कैंसर के इलाज के लिए बेहतर विकल्प है ‘टागेर्टेड रेडिएशन थेरेपी’

लाइफस्टाइल3 weeks ago

अल्जाइमर से बचाएगी नई दवा : शोध

Most Popular