Connect with us

स्वास्थ्य

मधुमेह रोगियों में हार्ट अटैक का खतरा कम करता है आयुर्वेद

Published

on

HEART-ATTACK-wefornews

वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) द्वारा विकसित आयुर्वेदिक दवा बीजीआर-34 मधुमेह रोगियों में हार्ट अटैक के खतरे को पचास फीसदी तक कम कर देती है।

इस दवा के करीब 50 फीसदी सेवनकर्ताओं में ग्लाइकोसिलेटेड हीमोग्लोबिन का स्तर नियंत्रित पाया गया। शोध में यह बात सामने आई है। जर्नल ऑफ टड्रिशनल एंड कंप्लीमेंट्री मेडिसिन के ताजा अंक में इससे जुड़े शोध को प्रकाशित किया गया है।

रिपोर्ट के अनुसार बीजीआर-34 मधुमेह रोगियों के लिए एक कारगर दवा के रूप में पहले से ही स्थापित है। मौजूदा एलोपैथी दवाएं शर्करा का स्तर तो कम करती हैं लेकिन इससे जुड़ी अन्य दिक्कतों को ठीक नहीं कर पाती हैं। बीजीआर में इन दिक्कतों को भी दूर करने के गुण देखे गए हैं।

जर्नल के अनुसार भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के दिशा-निर्देशों के तहत एक अस्पताल में 64 मरीजों पर चार महीने तक इस दवा का परीक्षण किया गया है। इस दौरान दो किस्म के नतीजे सामने आए। 80 फीसदी तक मरीजों के शर्करा के स्तर में कमी दर्ज की गई।

दवा शुरू करने से पहले शर्करा का औसत स्तर 196 (खाली पेट) था जो चार महीने बाद घटकर 129 एमजीडीएल रह गया। जबकि भोजन के बाद यह स्तर 276 से घटकर 191 एमजीडीएल रह गया। ये नतीजे अच्छे हैं लेकिन इस प्रकार के नतीजे कई एलोपैथिक दवाएं भी देती हैं।

सीएसआईआर ने बीजीआर-34 के निर्माण की अनुमति एमिल फार्मास्युटिकल को दे रखी है। रिपोर्ट के अनुसार दूसरा उत्साहजनक नतीजा ग्लाइकोसिलेटेड हिमोग्लोबिन (एचबीए1सी) को लेकर है। 30-50 फीसदी मरीजों में इस दवा के सेवन से ग्लाइकोसिलेटेड हिमोग्लोबिन नियंत्रित हो गया जबकि बाकी मरीजों में भी इसके स्तर में दस फीसदी तक की कमी आई थी।

दरअसल, ग्लाइकोसिलेटेड हिमोग्लोबिन की रक्त में अधिकता रक्त कोशिकाओं से जुड़ी बीमारियों का कारण बनती है। जिसमें हार्ट अटैक होना और दौरे पड़ना प्रमुख है। मधुमेह रोगियों में ये दोनों ही मामले तेजी से बढ़ रहे हैं।

हिमोग्लोबिन लाल रक्त कोशिकाओं के भीतर होता है। इसका कार्य आक्सीजन का संचार करना होता है। लेकिन जब हिमोग्लोबिन में शर्करा की मात्रा घुल जाती है तो हिमोग्लोबिन का कार्य बाधित हो जाता है इसे ही ग्लाइकोसिलेटेड हिमोग्लोबिन कहते हैं। इसका प्रभाव कई महीनों तक रहता है। किन्तु बीजीआर-34 से यह स्तर नियंत्रित हो रहा है।

–आईएएनएस

स्वास्थ्य

नए तरह के प्रोस्टेट कैंसर की पहचान हुई

Published

on

कैंसर
फाइल फोटो

शोधकर्ताओं ने प्रोस्टेट कैंसर के एक नए उपप्रकार की पहचान की है, जो करीब सात फीसदी मरीजों में विकसित होता है। इस उपप्रकार के लक्षण का पता जीन सीडीके12 के नुकसान की वजह से चला है। यह शुरुआती ट्यूमर अवस्था के ट्यूमर की तुलना में आम तौर पर मेटास्टैटिक प्रोस्टेट कैंसर में पाया जाता है।

इस शोध का प्रकाशन सेल नामक पत्रिका में हुआ है।

अमेरिका के मिशिगन विश्वविद्यालय के वरिष्ठ शोध लेखक अरुल चिन्नायन ने कहा, “प्रोस्टेट कैंसर बहुत ही आम है, इसलिए सात फीसदी काफी संख्या है।”

शोध में कहा गया है कि जिन ट्यूमरों में सीडीके12 निष्क्रिय था, वे प्रतिरक्षा चेकपॉइंट अवरोधकों के प्रति प्रतिक्रिया देते हैं। प्रतिरक्षा चेकपॉइंट अवरोधक इम्यूनोथेरेपी उपचार का एक प्रकार है, जिससे प्रोस्टेट कैंसर में सीमित सफलता मिली है।

चिन्नायन ने कहा, “तथ्य यह है कि इम्यून चेकपॉइंट इनहिबिटर इस प्रकार प्रोस्टेट कैंसर के उपप्रकार के खिलाफ प्रभावी हो सकते हैं, जो इसे काफी खास बनाते हैं। यह सीडीके12 परिवर्तन वाले मरीजों के लिए संभावना पैदा करती है और उन्हें इम्यूनोथेरेपी से फायदा हो सकता है।”

–आईएएनएस

Continue Reading

स्वास्थ्य

चिया सीड्स के फायदे जानकर हो जाएंगे हैरान…

Published

on

Chia-seeds-

बहुत से ऐसे लोग होंगे जिन्होंने कभी चिया सीड्स का नाम तक नहीं सुना होगा। नहीं इससे होने वाले फायदों के बारे में जानते होगें। आज हम आपको बताते है इस बीज के बारे में।

Image result for चिया सीड्स

यह बीज देखने में बहुत ही छोटे आकार का होता है और छोटे काले,भूरे और सफेद रंग के दानों की तरह होता है। ये मेक्सिको में पाई जाने वाली बीज है जो कि सैल्वीया हिस्पानिका नाम के पेड़ से उगती है। ये देखने में जितना छोटा है इसके गुण उतने ही बड़े है।

Image result for चिया सीड्स

इसे एनर्जी का एक अच्छा स्रोत माना जाता है और इसमे प्रोटीन भी काफी मात्रा मे पाया जाता है। चिया सीड्स में प्रोटीन के साथ-साथ फ़ाइबर,फ़ेट,ओमेगा३ जैसे तत्व अच्छी मात्रा में होते है।

आइये जानते हैं इससे होने वाले फायदों के बारे में…

चिया सीड्स हमारे शरीर को भिन्न तरह की बीमारियों से बचा कर रखता है। इसका सेवन आप जूस,सलाद य पके हुए खाने में छिड़कर भी कर सकते हैं। कई लोग तो इसे दही के साथ या फिर अंडे के साथ भी खाना पसंद करते है।

Image result for चिया सीड्स

पेट की समस्या

चिया बीज में फ़ाइबर अच्छी मात्रा में होता है जो कब्ज में राहत दिलाने में मदद करती है। ऐसा इसलिए क्योंकि जब चिया सीड्स पानी के संपर्क में आने से ये जेल में बादल जाता है जिससे आपको माल त्यागने में सहायता मिलती है जिससे कब्ज नहीं होता है। साथ ही ये पाचन क्रिया को भी अच्छा करता है।

Image result for पेट की समस्या

मधुमेह

चिया सीड्स में ओमेगा ३ और फेटी एसिड होता है जिसे मधुमेह के इलाज के लिए पोष्टिक रूप से महत्वपूर्ण माना जाता है। पाचन को धीमा कर चिया की क्षमता मधुमेह की रोकथाम से जुड़ी हो सकती है। क्योंकि चिया सीड्स में ऐसे खाध पढ़ार्थ है जो मधुमेह के उपचार के लिए उपयोगी माना जाता है। ये मधुमेह के रक्तचाप को बढ्ने से रोकता है और सुधार भी लता है जिससे मधुमेह से बचाव होने में काफी मदद मिलती है।

Image result for मधुमेह

कैंसर और ह्दय रोग

चिया सीड्स में एंटी ऑक्सीडैंट्स के गुण होते हैं। जो शरीर के फ्री रैडीकल्स को शरीर से बाहर निकालने में मदद करता है। यह बीज ह्दय की गति दर को घटाते हैं साथ ही ट्राइग्लिसराइड के स्तर को भी कम करते हैं। यह बीज कैंसर के इलाज के लिए भी काफी उपयोगी है।

Image result for कैंसर और हृदय रोग

वजन कम करें

चिया बीज में फाइबर की उचित मात्रा पाई जाती है इस लिए इस बीज का सेवन वजन कम करने के लिए काफी उपयोगी भी होता है। चिया सीड्स में केलोरी की मात्रा काफी कम होती है जिससे वजन कम करने में काफी सहायता मिलती है।

Image result for वजन कम करें

नर्वस सिस्टम

चिया सीड्स के सेवन से हमारे दिमाग और नर्वस सिस्टम को मजबूती मिलती है क्योंकि इसमे प्रोटीन और ओमेगा३ जैसे तत्व है जो दिमाग को तेज करता है और हमारी याददस्त शक्ति को अच्छा करता है। जिससे हमारी मेमोरी लॉस की समस्या का खतरा कम हो जाता है।

कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित करना

ये बीज ओमेगा-3 ऑयल के सबसे बड़े वनस्पति स्रोत हैं। यह ऑयल हृदय तथा कोलेस्ट्रॉल संबंधी स्वास्थ्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। यदि वजन के लिहाज से देखा जाए तो चिया सीड्स में सैमन मछली के मुकाबले ओमेगा-3 ऑयल अधिक होता है। यह चुंबक की तरह काम करता है जो शरीर से अपने साथ कोलेस्ट्रॉल को बाहर निकाल देता है।

चिया सीड्स से होने वाले नुकसान

चिया सीड्स की कम मात्रा लेनी चाहिए क्योंकि इसके सेवन से एलर्जी होने की शिकायत रहती है। जैसे की उल्टी,दस्त,खुजली,सांस लेने में परेशानी।

यदि आप प्रोस्तते कैंसर से पीढ़ित है तो चिया के बीज का सेवन न करे।

किसी भी अन्य दवाई के साथ इसे सेवन करने से बचे। अगर हो सके तो पहले अपने डॉक्टर से सलाह ले उसके बाद ही सेवन करे।

अत्यधिक रक्तस्राव से बचने के लिए अगर सर्जरी कराई हो तो चिया बेज के सेवन से बचे।

WeForNews

Continue Reading

स्वास्थ्य

विश्व रक्तदान दिवस: आपका खून किसी को जीवनदान दे सकता है

Published

on

फाइल फोटो

विश्व रक्तदान दिवस का मतलब कि देश में कही भी खून की जरूरत को पूरा करने के प्रति लोगों को जागरूक करना है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा 14 जून को विश्व रक्तदान दिवस मनाया जाता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन रक्तदान को लेकर जागरुकता अभियान चलाता रहता है और इसी कारण दुनियाभर के देशों में 14 जून को World Blood Donor Day (विश्व रक्तदान दिवस) मनाया जाता है। इस दिन जागरूकता अभियान चलाया जाता है और जनमानस को मुफ्त रक्तदान करने के लिए प्रेरित किया जाता है।

Related image

रक्तदान से नहीं पड़ता शरीर कमजोर

रक्तदान से कई जरूरतमंद लोगों की जान बचाई जा सकती है तो साथ ही इंसानी शरीर के लिए भी यह फायदेमंद है। कुछ लोग के मन में रक्तदान के प्रति गलत जानकारी है। उनका मानना है कि इससे हमारा शरीर कमजोर पड़ जाता है, लेकिन आपको यह जानकारी दे दें कि इससे शरीर में किसी प्रकार का कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ता, बल्कि मनुष्य के शरीर से निकला खून कुछ ही दिनों में वापस बन जाता है।

Image result for विश्व रक्तदान दिवस

रक्त का प्लाजमा तो 2 से 3 दिन में वापस बन जाता है। लाल रक्त कोशिकाओं के बनने में लगभग 20 से 59 दिन तक लगते हैं और यह निर्भर करता है कि व्यक्ति कितने अंतराल पर रक्तदान करता रहता है।

कौन कर सकते हैं रक्तदान

18 से 65 साल की आयु के सभी स्वस्थ जिनका वजन 45 किग्रा और उससे अधिक है वह रक्तदान कर सकते हैं।

Image result for विश्व रक्तदान दिवस

कितना जरूरी है रक्तदान करना

रक्तदान कितना जरूरी है आप इससे ही अंदाजा लगा सकते हैं कि दुर्घटना में अचानक अत्यधिक रक्तस्राव या अन्य बीमारियों जैसे- खून का निर्माण कम या ना के बराबर होना, जैसी स्थितियों में रोगी को खून बाहर से दिया जाता है। यह खून एक व्यक्ति से लेकर दूसरे व्यक्ति को एबीओ एवं आर एच ब्लड ग्रुप मैचिंग करने के बाद चढ़ाया जाता है।

Image result for विश्व रक्तदान दिवस

जानें- कैसे पता चला ब्लड ग्रुप के बारे में

डॉक्टर कार्ल लैंडस्टीनर का जन्म 14 जून 1868 को हुआ था। साल 1901 में कार्ल ने A,B,O जैसे ब्लड ग्रुप का पता लगाया। यही नहीं उन्होंने साल 1909 में पोलियो वायरस का भी पता लगाया। इसके बाद ही पोलियो को नियंत्रित करने का अभियान शुरू किया गया। कार्ल की सबसे महत्वपूर्ण खोज में ब्लड ग्रुप को अलग-अलग करने से जुड़े सिस्टम का पता लगाना और एलेग्जेंडर वेनर के साथ मिलकर 1937 में रेसस फैक्टर का पता लगाना है, जिसकी वजह से खून चढ़ाना मुमकिन हो पाता है। उनकी इसी खोज से आज करोड़ों से ज्यादा रक्तदान रोजाना होते हैं और लाखों की जिंदगियां बचाई जाती हैं।

WeForNews

Continue Reading

Most Popular