Connect with us

खेल

एशियाई चैम्पियंस ट्रॉफी हॉकी में पाकिस्तान से जीता भारत

Published

on

Hockey
(photo credit AFP)

मस्कट (ओमान): भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने अपने विजयी रथ को आगे बढ़ाते हुए हीरो एशियाई चैम्पियंस ट्रॉफी में चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के खिलाफ जीत हासिल की। भारतीय टीम ने शनिवार देर रात सुल्तान काबूस स्पोर्ट्स कॉम्पलेक्स में खेले गए इस मैच में पाकिस्तान को 3-1 से मात देकर लगातार दूसरी जीत हासिल की।

पाकिस्तान ने मोहम्मद इरफान जूनियर की ओर से पहले ही मिनट में किए गए गोल के दम पर अपना खाता खोला। टीम को पेनाल्टी कॉर्नर हासिल हुआ था, जिसे भुनाते हुए इरफान ने पाकिस्तान को अच्छी शुरुआत दी लेकिन वह इसे कायम नहीं रख पाई।

इस मैच के ‘मैन ऑफ द मैच’ रहे कप्तान मनप्रीत ने 24वें मिनट में गोल कर भारत का स्कोर 1-1 से बराबर कर दिया। मंदीप सिंह ने इसके बाद 31वें मिनट में गोल करते हुए टीम को 2-1 से आगे कर दिया।

दूसरे हाफ में अपने डिफेंस को मजबूत रख पाकिस्तान को एक भी गोल करने का मौका न देते हुए 42वें मिनट में दिलप्रीत सिंह की ओर से किए गए गोल के दम पर भारतीय टीम ने अंत में 3-1 से जीत हासिल की। भारतीय टीम का अगला मुकाबला तीसरे राउंड रोबिन मैच में जापान से होगा।

–आईएएनएस

खेल

महिला टी-20 विश्व कप : न्यूजीलैंड ने आयरलैंड को 8 विकेट से हराया

Published

on

New Zealand vs Ireland (Photo: Cricket World)

गयाना। सोफी डेवीन (51) की बल्लेबाजी और लेह कास्पेरेक (3/19) की गेंदबाजी के दम पर न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम ने यहां जारी टी-20 विश्व कप में आयरलैंड को आठ विकेट से हरा दिया। प्रोविडेंस स्टेडियम में खेले गए मैच में आयरलैंड को सबसे बड़ा नुकसान उसकी बल्लेबाजी के कारण हुआ। उसकी पारी 79 रनों पर ही सिमट गई, जिसे न्यूजीलैंड ने दो विकेट के नुकसान पर ही हासिल कर लिया।

आयरलैंड के लिए सबसे अधिक रन गेबी लेविस (39) ने बनाए। इसके अलावा, टीम की कोई भी बल्लेबाज अधिक समय तक मैदान पर नहीं टिक पाई और आयरलैंड की पारी 79 रनों पर ही सिमट गई।

न्यूजीलैंड के लिए इस पारी में लेह के अलावा, लिया ताहुहु और अमीलिया केर ने भी अहम योगदान दिया। दोनों ने दो-दो विकेट हासिल किए। इसके अलावा, जेस वाटकिन और सोफी ने भी एक-एक विकेट अपने नाम किया।

आयरलैंड की ओर से मिले लक्ष्य को हासिल करने में न्यूजीलैंड को अधिक समय नहीं लगा। उसने 7-3 ओवरों में ही सोफी के अर्धशतक के दम पर हासिल कर लिया।

–आईएएनएस

Continue Reading

खेल

बैडमिंटन : विश्व जूनियर चैम्पियनशिप में लक्ष्य ने जीता कांस्य पदक

Published

on

प्रतीकात्मक तस्वीर

मार्कहाम (कनाडा): भारत के अनुभवी जूनियर बैडमिंटन खिलाड़ी लक्ष्य सेन ने सात साल का सूखा समाप्त करते हुए यहां जारी विश्व जूनियर चैम्पियनशिप में एकमात्र पदक हासिल किया। लक्ष्य को पुरुष एकल वर्ग के सेमीफाइनल में हार मिली, लेकिन वह कांस्य पदक हासिल करने में सफल रहे।

भारत के 17 वर्षीय खिलाड़ी लक्ष्य को सेमीफाइनल में थाईलैंड के कुनलावुत वितिदसार्न ने 20-22, 21-16, 21-13 से मात दी। इस हार के कारण भारतीय खिलाड़ी को कांस्य पदक से ही संतोष करना पड़ा।

विश्व जूनियर बैडमिंटन चैंपियनशिप में इस साल लक्ष्य के द्वारा भारत को एकमात्र पदक हासिल हुआ है। इस चैम्पियनशिप में सात साल पहले समीर वर्मा ने कांस्य पदक हासिल किया था।

इसके अलावा, बी. साई प्रणीत ने 2010 में कांस्य पदक ही जीता था। इस चैम्पियनशिप का स्वर्ण पदक भारत की सबसे अनुभवी बैडमिटन खिलाड़ी सायना नेहवाल के नाम है। उन्होंने 2008 में यह उपलब्धि हासिल की थी।

–आईएएनएस

Continue Reading

खेल

महिला मुक्केबाजी: विश्व चैम्पिनयशिप के प्री-क्वार्टर फाइनल में सोनिया

Published

on

world women boxing championship
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

नई दिल्ली। भारत की सोनिया ने यहां इंदिरा गांधी स्टेडियम परिसर के केडी जाधव हॉल में खेली जा रही 10वीं आईबा विश्व महिला मुक्केबाजी चैम्पियनशिप के 57 किलोग्राम भारवर्ग के प्री-क्वार्टर फाइनल में प्रवेश कर लिया है। सोनिया ने मोरक्को की ताउजानी डोआ को 5-0 से मात देकर अंतिम-16 में जगह बनाई। अगले दौर में उनका सामना बुल्गारिया की सात्नीमीर पेट्रोवा से होगा।

इस चैम्पियनशिप में पदार्पण कर रहीं सोनिया ने ओपन गार्ड के साथ शुरुआत की और मोरक्को की खिलाड़ी को अटैक करने के मौके दिए। सोनिया ने इस दौरान अच्छे लेफ्ट जैब और सीधे पंचों का इस्तेमाल कर पहले राउंड में अपना दबदबा बनाया।

दूसरे राउंड में भी सोनिया ने अपने लेफ्ट जैब का और अच्छा इस्तेमाल किया और सटीक तरह से अंक बटोरने वाली जगह पर पंच बरसाए। मोरक्को की अनुभवी खिलाड़ी ने भी अपनी रणनीति में बदलाव किया और फ्रस्ट्रेशन में अपना गार्ड नीचे कर दिया। उन्होंने हालांकि कुछ अच्छे पंच बरसाए लेकिन वह संघर्ष करती दिखीं।

तीसरा राउंड निर्णायक साबित हुआ जहां भारतीय खिलाड़ी ने दाएं-बाएं के सही संयोजन के अलावा लेफ्ट जैब का भी अच्छा इस्तेमाल किया। इस बीच दोनों खिलाड़ी नियंत्रण से बाहर हो गई और रैफरी को बीच में आना पड़ा।

मैच का नतीजा हालांकि सोनिया के पक्ष में आया। पांच में चार जजों ने सोनिया को पूरे अंक दिए तो वहीं एक जज ने एक अंक कम दिया।

मैच के बाद जब सोनिया से पूछा गया कि क्या वह इस टूर्नामेंट में पहली बार खेलने से घबराई हुई थीं? तो उन्होंने कहा, “मैं जानती थी कि मुझे दूरी बनाकर रखनी है और करीब तभी जाना है जब मौका मिले। पहले दो राउंड में मैं कुछ मौकों पर सफल रही। तीसरे राउंड में मैं खुलकर खेली और मैंने अपने पंचों के संयोजन का अच्छा इस्तेमाल किया।”

तुर्की में आयोजित हुई अहमत कोर्मट मुक्केबाजी चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीतने वाली सोनिया ने कहा कि उनके प्रशिक्षकों ने उन्हें आत्मविश्वास दिया और तीसरे राउंड में खुलकर खेलने को कहा। उन्होंने कहा, “मेरे प्रशिक्षकों ने कहा कि मैं अच्छा कर रही हूं और इससे मुझे अटैक करने का मौका मिला।”

इससे पहले, पेट्रोवा ने अमेरिका की रियाना रियोस को मात दी। यह मुकाबला पूरी तरह से एकतरफा रहा। अमेरिकी आर्मी में सर्जियेंट के पद पर कार्यरत मुक्केबाज से अच्छे मुकाबले की उम्मीद थी, लेकिन पूर्व विश्व चैम्पियन पेट्रोवा ने उन्हें अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया। रियो ओलम्पिक में हिस्सा लेने वाली पेट्रोवा ने अमेरिकी मुक्केबाज को एकतरफा मुकाबले में मात दी।

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular