Connect with us

राष्ट्रीय

पुलिस भर्ती प्रक्रिया पर कोर्ट ने योगी सरकार से पूछे सवाल

Published

on

Allahabad-High-Court
फाइल फोटो

इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ खंडपीठ ने पुलिस महानिदेशक सहित राज्य सरकार से पूछा है कि पुलिसकर्मियों की भर्ती के समय कोई मनोवैज्ञानिक टेस्ट अथवा प्रशिक्षण करवाए जाने की व्यवस्था है या नहीं? न्यायमूर्ति डी.के. अरोड़ा व न्यायमूर्ति राजन राय की खंडपीठ ने याचिकाकर्ता लोकेश कुमार खुराना द्वारा दायर जनहित याचिका पर यह टिप्पणी की।

राज्य सरकार की ओर से उपस्थित अपर महाधिवक्ता विनोद कुमार शाही व स्थाई अधिवक्ता क्यू.एच. रिजवी ने बताया कि राज्य सरकार पुलिस भर्ती से लेकर आम लोगों की सुरक्षा सहित अनेक पहलुओ पर स्वयं गम्भीर निर्णय ले रही है।

याचिका में यह मांग की गई है कि आम जनता की सुरक्षा को गौर करते हुए सरकार ऐसे कदम उठाए जिससे लोगों को सुरक्षा व शांति मिल सके। यह भी कहा कि हाल में हुए विवेक तिवारी हत्याकांड जैसी घटनाओं की पुनरावृति न हो। सुनवाई के समय अदालत ने याचिकाकर्ता से भी कहा कि वह याचिका को संशोधित करे।

अपर महाधिवक्ता शाही ने बताया, “अदालत ने केंद्र सरकार व राज्य सरकार से कहा है कि वह 23 अक्टूबर को यह बताए कि पुलिस भर्ती में मनोवैज्ञानिक शिक्षा व प्रशिक्षण की व्यवस्था है कि नहीं।” अदालत ने सरकार से पुलिस प्रशिक्षण की प्रकिया से भी अवगत कराने को कहा है।

–आईएएनएस

राष्ट्रीय

सीबीआई ने डीएसपी देवेंद्र कुमार को किया सस्‍पेंड

Published

on

cbi
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

सीबीआई के डीएसपी देवेंद्र कुमार को सस्‍पेंड कर दिया गया। उन पर रिश्वत लेने का आरोप है और अदालत ने 7 दिन की सीबीआई रिमांड पर भेजा है।

दरअसल, मीट व्यवसायी मोइन कुरैशी मामले में सीबीआई ने कार्रवाई करते हुए अपने ही एक अफसर डिप्टी एसपी देवेंद्र कुमार को गिरफ्तार कर लिया था, जिन्हें आज दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया। मामले की सुनवाई के बाद कोर्ट ने देवेंद्र कुमार को 7 दिन की सीबीआई हिरासत में भेज दिया है। जबकि सीबीआई ने देवेंद्र कुमार की 10 दिनों की कस्टडी की मांग की थी।

देवेंद्र कुमार CBI के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना की घूसखोरी के मामले में आरोपी हैं। सीबीआई ने अपने ही विशेष निदेशक राकेश अस्थाना समेत कई लोगों के खिलाफ घूस लेने के आरोप में मामला दर्ज किया गया है।

WeForNews

Continue Reading

राष्ट्रीय

सीबीआई डीएसपी देवेंद्र को 7 दिन की सीबीआई हिरासत

Published

on

CBI

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के खिलाफ रिश्वतखोरी के आरोपों के बीच यहां एक अदालत ने मंगलवार को एजेंसी के डीएसपी देवेंद्र कुमार को सात दिनों के लिए सीबीआई की हिरासत में भेज दिया। कुमार को दस्तावेजों में फर्जीवाड़ा करने के आरोप में सोमवार को गिरफ्तार किया गया था।

एजेंसी ने कहा कि धन शोधन और भ्रष्टाचार के विभिन्न मामलों का सामना कर रहे मांस कारोबारी मोइन कुरैशी ने अपने खिलाफ एक मामले को सलटाने के लिए कथित तौर पर रिश्वत दी थी।

सीबीआई के अनुसार, कुमार ने कुरैशी मामले के गवाह सतीश सना के बयान से छेड़छाड़ कर यह दिखाया है कि उसने यह बयान दिल्ली में 26 सितंबर को दर्ज कराया था। हालांकि जांच में खुलासा हुआ है कि सना उस दिन दिल्ली में नहीं हैदराबाद में था और वह जांच में एक अक्टूबर को शामिल हुआ था।

अस्थाना, कुमार और दो अन्य आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज होने के अगले दिन कुमार को गिरफ्तार किया गया था। सीबीआई ने आरोप लगाया है कि दिसंबर 2017 और इस साल अक्टूबर में कम से कम पांच बार रिश्वत ली गई है।

गुजरात काडर के भारतीय पुलिस सेवा के 1984 बैच के अधिकारी अस्थाना पर कुरैशी मामले में जांच का सामना कर रहे एक व्यापारी से जांच में राहत देने के लिए दो करोड़ रुपये रिश्वत लेने का आरोप है। इस मामले की जांच अस्थाना के नेतृत्व में गठित एक विशेष जांच दल (एसआईटी) कर रहा था।

–आईएएनएस

Continue Reading

राष्ट्रीय

मध्य प्रदेश: मूर्ति विसर्जन के दौरान विवाद, कई वाहन फूंके

Published

on

madhya pradesh

मध्य प्रदेश के जबलपुर में नर्मदा नदी में दुर्गा प्रतिमा विसर्जन को लेकर श्रद्धालुओं और पुलिस के बीच जमकर झड़प हो गई। भीड़ ने कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया, वहीं पुलिस ने हालात पर काबू पाने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े और लाठीचार्ज किया।

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, उच्च न्यायालय ने नर्मदा नदी में प्रतिमा विसर्जन पर रोक लगाई थी, जिसके चलते प्रतिमा विसर्जन के लिए अलग से कुंड बनाया गया था, मगर काली माता पड़ाव समिति के लोग कुंड में प्रतिमा विसर्जन को तैयार नहीं हुए, इसी पर विवाद हो गया। सोमवार रात लगभग दो बजे विसर्जन जुलूस शुरू हुआ और ग्वारीघाट पहुंचने से पहले मंगलवार सुबह साढ़े सात बजे पुलिस व भीड़ में झड़प हुई।

पुलिस अधिकारियों के अनुसार, भीड़ प्रतिमा विसर्जन के लिए ग्वारीघाट जाना चाहती थी और पुलिस ने उसे ऐसा नहीं करने दिया, जिससे भीड़ उग्र हो गई और उसने वहां खड़े वाहनों में तोड़फोड़ की और कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया।

पुलिस के अनुसार, भीड़ के बढ़ते उपद्रव के बीच पुलिस ने लाठीचार्ज किया और आंसूगैस के गोले छोड़े, जिसके बाद हालात नियंत्रित हुआ। पुलिस ने इस उपद्रव से जुड़े 40 से ज्यादा लोगों को हिरासत में ले लिया है।

पुलिस अधीक्षक अमित सिंह ने संवाददाताओं को बताया कि हालात अब पूरी तरह काबू में है, और भीड़ के पथराव में पुलिस जवानों को भी चोटें आई हैं। मौके पर पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular