Connect with us

लाइफस्टाइल

इस तरह अपनाएं पर्यावरण अनुकूल जीवनशैली

Published

on

naturer-

एक जिम्मेदार नागरिक के रूप में सभी को अपने छोटे-छोटे तरीकों से पर्यावरण अनुकूल जीवनशैली में योगदान करना चाहिए।

क्या आपको पता है कि आपके दिनचर्या की छोटी-छोटी चीजें भी पर्यावरण के अनुकूल हो सकती हैं? डिवाइन ऑर्गेनिक्स के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) गौतम धर और ऑर्गेनिक इंडिया के सीईओ अभिनंदन ढोके ने कुछ सुझावों को सूचीबद्ध किया है, जिन्हें आप अपने दैनिक दिनचर्या में पालन कर सकते हैं और यह पर्यावरण के लिए अनुकूल भी हैं।

* उन ब्रांडों को चुनें, जो शाकाहारी, जैविक हों या उनका परीक्षण जानवरों पर नहीं किया गया हो। उत्पाद रसायनों से युक्त न हो और पर्यावरण को नुकसान पहुंचाए बिना जीवन की समग्र गुणवत्ता में वृद्धि करें। एक आकर्षक जीवनशैली के लिए सुनिश्चित करें कि आप सिंथेटिक से दूर रहें और केवल अपने दैनिक दिनचर्या में प्रमाणित कार्बनिक उत्पादों का ही उपयोग करें।

* वैश्विक नागरिक के रूप में सभी को पर्यावरण के प्रति जागरूक और उत्पादों की पैकेजिंग जैसी छोटी चीजों से पर्यावरण को होने वाले हानिकारक प्रभावों से अवगत होना चाहिए। पर्यावरण अनुकूल रीसाइकिलेबल सामग्री से बने कार्टन में पैक किए गए उत्पादों को चुनें या फिर वह उत्पाद जिनकी पैकेजिंग 100 प्रतिशत बायो-डीग्रेडेबल हो।

* कार्बनिक प्रमाणन वाले उत्पादों की ओर रुख करें। यह उत्पाद व्यवस्थित रूप से और नियमों का पालन करते हुए उगाए जाते हैं। जैविक कृषि पृथ्वी के पारिस्थितिक तंत्र को संरक्षित करती हैं और प्रदूषण के कई रूपों को रोकती है।

* कार्बन के स्तर को कम करने का सबसे आसान तरीका स्थानीय स्तर पर उत्पादित उत्पादों को खरीदना है। जब कहीं दूर से सामान मंगाने के बजाए आप स्थानीय दुकानदार से चीज खरीदते हैं तो आप वास्तव में स्थानीय ब्रांडों का समर्थन कर रहे हैं। संसाधित सामान बहुत अधिक ऊर्जा लेते हैं, पहले प्रसंस्करण और फिर परिवहन में ईंधन की खपत शामिल है।

–आईएएनएस

लाइफस्टाइल

वीकेंड पर घूमने की ये जगह हैं सबसे बेस्ट

Published

on

फाइल फोटो

दिल्लीवाले घूमने के शौकीन होते हैं, लेकिन ये समझ नहीं पाते कि 1 या 2 दिन की छुट्टी में कहां जाएं। हम आपको दिल्ली के आस-पास की कुछ ऐसी जगहों के बारे में बता रहे हैं जहां आप एक दिन में घूमकर आ सकते हैं और अपनी छुट्टी को यादगार बना सकते हैं। आइए जानें…

मोरनी– मोरनी हरियाणा के पंचकूला जिले में स्थित एक खूबसूरत हिल स्टेशन है। यह दिल्ली से केवल 260 किलोमीटर की दूरी है। वीकेंड बिताने के लिए यह बेहतरीन ऑप्शन है। दिल्ली से यहां पहुंचने में लगभग 5 घंटे का समय लगता है। यहां की खूबसूरत वादियां और झील किसी के भी मन को खुश कर देती हैं।

वीकेंड पर दिल्लीवासियों के लिए घूमने की ये जगह हैं सबसे बेस्ट

दमदमा झील- दिल्ली की भागदौड़ भरी जिंदगी और प्रदूषण से भरे वातारण में रहते-रहते दिल्ली वाले बोर हो जाते हैं। ऐसे में शांति के साथ सुकून की छुट्टी बिताने के लिए दिल्ली वालों के लिए दमदमा झील एक बेहतरीन जगह है। यह दिल्ली से केवल 60 किलोमीटर की दूरी पर है। यहां पहुंचने में लगभग 1 घंटा 30 मिनट का समय लगता है। दमदमा झील हरयाणा की सबसे खूबसूरत झीलों में से एक है। इसके आस-पास कैंपिग की सेवाएं भी उपलब्ध हैं।

Image result for दमदमा झील

मुरथल– जब भी आप रोड ट्रिप प्लान करते होंगे तो सबसे पहले आपके मन में मुरथल का ख्याल जरूर आता होगा। लॉन्ग ड्राइव के साथ अच्छे खाने का स्वाद लेना हो तो मुरथल से अच्छा ऑप्शन दिल्ली वालों के लिए नहीं हो सकता है। यहां कई ढाबे मौजूद हैं। साथ ही लोगों के मनोरंजन के लिए फॉक डांस से लेकर कई दूसरी चीजें भी उपलब्ध हैं।

Image result for मुरथल

नीमराना किला– राजस्थान के किलों में नीमराना किला एक प्रसिद्ध किला है। दिल्ली की भागदौड़ से दूर कपल्स के लिए यह किला एक दूसरे के साथ क्वालिटी टाइम स्पेंड करने के लिए बेहद खास है। यहां जाने के लिए मॉनसून का समय सबसे बेहतर होता है। बरसात के मौसम में किले के चारों तरफ फैली हरियाली पर्यटकों के मन मोह लेती है। यह किला दिल्ली से 120 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और यहां पहुंचने में लगभग 2 घंटे 30 मिनट का समय लगता है।

Image result for नीमराना किला

कुचेसर किला– 18वीं शताब्दी में तैयार किया गया कुचेसर किला मड फोर्ट होटल के नाम से भी जाना जाता है। यह किला दिल्ली से लगभग 84 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और यहां पहुंचने में केवल 2 घंटे का समय लगता है। इस किले में हर क्लास के कमरे उपलब्ध हैं. इसके अलावा यहां बैलगाड़ी की सवारी के साथ-साथ कई सारे इंडोर और आउटडोर खेलों का भी आनंद लिया जा सकता है।

वीकेंड पर दिल्लीवासियों के लिए घूमने की ये जगह हैं सबसे बेस्ट

परवाणू– यह जगह दिल्ली से करीबन 270 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। परवाणू हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले में चंडीगढ़ और शिमला के रास्ते में पड़ता है। हालांकि यह दिल्ली के ज्यादा नजदीक नहीं है, लेकिन यहां की रोड ट्रिप किसी के लिए भी यादगार साबित हो सकती है। यहां पहुंचने में लगभग 6 घंटे का समय लगता है। यहां प्रकृति के खूबसूरत नजारे, चारों तरफ फैली हरियाली, चौड़ी सड़कें, सुहाना मौसम किसी की भी छुट्टियों को यादगार बना सकता है।

Image result for परवाणू

भरतपुर– राजस्थान का यह एक प्रमुश शहर है। यहां मौजूद बर्ड सेंचुरी बेहद प्रसिध्द हैं। यहां घने जंगल मौजूद हैं, जिस वजह से यह जगह पक्षी प्रेमियों को अपनी ओर काफी आकर्षित करती है। आप यहां रिक्शा में बैठकर बर्ड सेंचुरी का आनंद ले सकते हैं। यह जगह दिल्ली से लगभग 182 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और यहां पहुंचने में 3 घंटे 40 मिनट का समय लगता है।

Image result for भरतपुर

मथुरा और वृंदावन– जिन लोगों को पूजा पाठ और भगवान के दर्शन करने में ज्यादा आनंद मिलता है वो अपनी 1 या 2 दिन की छुट्टी में मथुरा और वृंदावन जाकर भगवान के दर्शन कर सकते हैं। मथुरा, वृंदावन और आसपास के इलाकों में भगवान श्रीकृष्ण के कई मंदिर हैं, जहां हमेशा श्रद्धालुओं का आना जाना लगा रहता है। यह दिल्ली से लगभग 144 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और यहां पहुंचने में करीबन 3 घंटे का समय लगता है।

Image result for वृंदावन

आगरा– प्यार में डूबे लोगों के लिए छुट्टी बिताने के लिए आगरा से बेहतर घूमने की जगह कोई हो ही नहीं सकती है। आगरा में मौजूद ताजमहल सच्चे प्यार की एक खूबसूरत मिसाल है। ताज महल के अलावा आगरा का किला, फतेहपुर सीकरी, मेहताब बाग, जामा मस्जिद, अकबर का मकबरा, गुरु का ताल, मोती मस्जिद। दिल्ली गेट, अमर सिंह गेट, सिकंदरा और कांच महल आदि घूमने के लिए शानदार जगहें हैं। यह दिल्ली से करीबन 202 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

Image result for आगरा

WeForNews

Continue Reading

लाइफस्टाइल

तस्वीरें पोस्ट करने के लिए सिर्फ एक दिन के लिए खरीदे जा रहे कपड़ेे…

Published

on

online_shopping
प्रतीकात्मक तस्वीर

लोगों की भीड़ में सबसे अच्छा और ग्लैमरस दिखना लगभग हर व्यक्ति की इच्छा होती है। बदलते फैशन और आकर्षित दिखने की रेस में आजकल लोग एक दिन के लिए ऑनलाइन कपड़े खरीद रहे हैं।

इतना ही नहीं इन कपड़ो को पहनकर लोग तस्वीरें क्लिक करके सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हैं और इन कपड़ोंं को फिर वापस कर देते हैं। इस ट्रेंड को ‘आउटफिट ऑफ द डे’ का नाम दिया गया है।

नए कपड़ों में तस्वीरें पोस्ट कर वापस कर रहे लोग, वेबसाइट्स परेशान

बार्कले यार्ड की एक रिसर्च के मुताबिक, यूके में 10 लोगों में से करीबन 1 ऐसा व्यक्ति पाया गया है, जिसने सोशल मीडिया पर तस्वीरें शेयर करने के लिए सिर्फ एक दिन के लिए ऑनलाइन कपड़े खरीदे और तस्वीरें शेयर करने के बाद उन कपड़ों को रिटर्न कर दिया।

नए कपड़ों में तस्वीरें पोस्ट कर वापस कर रहे लोग, वेबसाइट्स परेशान

रिसर्च में सामने आया है कि 35 से 44 साल के पुरुष और महिलाओं में लगभग 17 फीसदी लोगों को एक दिन के लिए शॉपिंग करने पर बुरा महसूस हुआ। इस रिसर्च में सबसे दिलचस्प बात ये सामने आई है कि महिलाओं से ज्यादा पुरुष एक दिन के लिए कपड़े खरीद कर वापस करते हैं क्योंकि पुरुष महिलाओं से ज्यादा अपने लुक्स को लेकर जागरूक रहते हैं।

नए कपड़ों में तस्वीरें पोस्ट कर वापस कर रहे लोग, वेबसाइट्स परेशान

रिसर्च के दौरान लगभग 12 फीसदी पुरुषों ने माना कि सोशल मीडिया पर तस्वीरें पोस्ट करने के लिए वो एक दिन के लिए कपड़े और दूसरी एक्सेसरीज खरीदते हैं और उन्हें पहनकर तस्वीरें क्लिक कराकर वापस कर देते हैं। बता दें, पुरुषों में अच्छा दिखने की चाहत केवल अपने दोस्तों में इंप्रेशन दिखाने के लिए ही नहीं होती है बल्कि, 10 में लगभग 1 पुरुष ने माना कि अपने दोस्तों को एक से ज्यादा बार एक ही कपड़े में देखकर उन्हें शर्मिंदगी महसूस होती है।

वहीं, पुरुषों के मुकाबले केवल 7 फीसदी महिलाएं ऐसी थीं जिन्हें अपने दोस्तों को एक से ज्यादा बार एक तरह के कपड़े पहने हुए देखकर शर्मिंदगी महसूस होती है। अधिकतर वेबसाइट्स और रिटेलर्स ‘ट्राई करने के बाद खरीदें’ का ऑफर देते हैं यानी अगर कपड़े पहनने के बाद पसंद न आए तो बिना पैसे दिए ही वापस कर सकते हैं।

नए कपड़ों में तस्वीरें पोस्ट कर वापस कर रहे लोग, वेबसाइट्स परेशान

इसी ट्रेंड के चलते लोगों में कपड़े पहनने के बाद रिटर्न करना उनके लिए आम बात हो गई। रिसर्च के दौरान महिला और पुरुष दोनों ने माना कि वो कपड़ों के टैग हटाए बिना ही पहनते हैं ताकि पसंद न आने पर उन्हें वापस कर सकें।

नए कपड़ों में तस्वीरें पोस्ट कर वापस कर रहे लोग, वेबसाइट्स परेशान

बता दें, लगभग 31 फीसदी ब्रिटिश लोगों ने बताया कि वो ऑनलाइन कपड़ों को खरीदने के बाद ‘ ट्राई बी फोर यू बाय मेथड’ के चलते उन्हें वापस कर देते हैं। रिसर्च में ये भी सामने आया कि महिलाओं के मुकाबले पुरुष कपड़ों और जूतों पर ज्यादा खर्च करते हैं। बता दें, लोगों द्वारा सोशल मीडिया के लिए कपड़ों को खरीदकर उन्हें वापस करने के ट्रेंड की वजह से रिटेलर्स को ‘रिटर्न कल्चर’ का सामना करना पड़ रहा है, जिससे उनको काफी मुश्किल हो रही है।

रिसर्च में सामने आया है कि रिटर्न पॉलिसी के चलते सालभर में लगभग 7 बिलियन पाउंड की ज्यादा सेल हुई है। इस चीज को देखते हुई ऑनलाइन कंपनियां अपने रिटर्न कल्चर को और भी ज्यादा आसान बनाने की कोशिश कर रही हैं, ताकि लोगों के लिए कपड़े रिटर्न करना ज्यादा आसान हो जाए।

WeForNews

Continue Reading

लाइफस्टाइल

हरियाली तीज आज, जानें इसका महत्व

Published

on

Hariali Teej
हरियाली तीज

हरियाली तीज का त्योहार बहुत अहम होता है। श्रावण मास की शुक्ल पक्ष की तृतीया को हरियाली तीज व्रत मनाया जाता है। सुहागन स्त्रियों के लिए इस व्रत का काफी महत्व है। यह त्योहार लगभग पूरे उत्तर त्योहार में मनाया जाता है। इस व्रत में भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा की जाती है।

Image result for हरियाली तीज

तीज के दिन हरे रंग का खास महत्व होता है। इसीलिए महिलाएं तीज के दिन हरे रंग की साड़ी और चूड़ियां पहनती हैं। हाथों में मेहंदी लगाती हैं और झूला झूलती हैं।

Image result for हरियाली तीज

Image result for हरियाली तीज

इस दिन घर पर अच्छे-अच्छे पकवान बनाए जाते हैं। इस खास मौके पर कुछ अलग डिशेज बनाकर आप अपनों को खुश कर सकती हैं।

चावल की खीर : तीज में व्रत के बाद रात में मीठे में चावल की खीर खाई जाती है। खीर का नाम आते ही मुंह में मिठास घुल जाती है। तीज ही नहीं कई खास मौकों पर हमारे यहां खासतौर पर खीर बनाने की परंपरा है। प्रसाद के तौर पर भी इसे बनाया जाता है।

Image result for चावल की खीर

मालपुआ: वैसे तो मालपुआ बिहार के प्रसिद्ध पकवानों में से एक है। लेकिन, तीज के त्योहार पर मालपुएं का विशेष महत्व है। सावन महीने में लोग घर पर अलग-अलग पकवान बनाते है, लेकिन इस महीने में लोग मीठा खाना ज्यादा पसंद करते हैं। तीज के मौके पर रबड़ी मालपुआ बनाकर भगवान शिव के साथ आप अपने अजीजों को भी लुभा सकते हैं।

Related image

 

घेवर : तीज के त्योहार में घेवर का विशेष महत्व होता है। वैसे तो घेवर का प्रचलन राजस्थान में ज्यादा है। राजस्‍थान में मीठे में घेवर बहुत पसंद की जाती है और इसे त्‍योहारों पर खूब बनाया जाता है। घेवर, सावन का विशेष मिष्ठान माना जाता है। सावन में तीज के अवसर पर बहन-बेटियों को सिंदारा देने की परंपरा काफी पुरानी है, इसमें चाहे कितना ही अन्य मिष्ठान रख दिया जाए लेकिन घेवर होना अवश्यक होता है।

Image result for घेवर

गुजिया: तीज के दिन उत्तर और मध्य भारत में हर घर में गुजिया बनाई जाती है। यह इस दिन का खास पकवान है। गुजिया के साथ-साथ बेसन की चकली भी खासतौर पर बनती है।

Image result for गुजिया

मूंग दाल हलवा: जब भी हलवे की बात होती है तो अकसर लोग मूंग दाल का हलवा खाना ही ज्यादातर पसंद करते हैं। तीज के मौके पर महिलाएं घर में पसंद किए जाने वाले पकवान बनाते हैं। मूंग दाल हलवा बेहद ही आसान और सरल तरीके से बनाकर आप अपनी तीज को और भी स्पेशल बना सकते हैं।

Image result for मूंग दाल हलवा

WeForNews

Continue Reading

Most Popular