'85 फीसदी लोग 30 की उम्र से पहले स्वास्थ्य बीमा लेने के पक्ष में' | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

Published

on

नई दिल्ली, 9 जनवरी | एक रिपोर्ट में इस बात का दावा किया गया है कि देश की हेल्थकेयर प्रणाली में लोगों का भरोसा और कम हुआ है। 96.5 प्रतिशत लोगों का हेल्थकेयर प्रणाली पर विश्वास नहीं है। 67.8 प्रतिशत लोग अस्पताल पर भरोसा नहीं करते। रिपोर्ट में कहा गया है कि स्वास्थ्य देखभाल की बढ़ती कीमतों के कारण भारतीयों का झुकाव स्वास्थ्य बीमा के प्रति बढ़ा है। 62.8 प्रतिशत भारतीयों का विश्वास है कि हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी लेना बेहद जरूरी है और करीब 85 प्रतिशत लोग यह मानते हैं कि स्वास्थ्य बीमा 30 साल की उम्र तक ले लेना चाहिए।

‘इंश्योरेंस : एन इनवेस्टमेंट इन हेल्थ’ शीर्षक से प्रकाशित गोकी-इंडिया फिट की रिपोर्ट में यह बातें सामने आईं हैं।

प्रिवेंटिव हेल्थकेयर इकोसिस्टम गोकी ने बुधवार को पांचवीं इंडिया फिट रिपोर्ट 2019 जारी की। इंडिया फिट रिपोर्ट 2019 को सात लाख से ज्यादा गोकी यूजर्स की स्वास्थ्य संबंधी रिपोर्ट के एक साल लंबे अध्ययन के बाद तैयार किया गया है। यह अपने तरह की पहली रिपोर्ट है जिसका दावा है कि यह भारतीयों के स्वास्थ्य और लाइफस्टाइल का संपूर्ण विवरण पेश करती है।

गोकी ने एक बयान में कहा कि यह रिपोर्ट भारतीयों के स्वास्थ्य की विभिन्न पैमानों पर जांच करती है, जिसमें स्वास्थ्य रक्षा के लिए उठाए गए कदम, लाइफस्टाइल से उपजने वाली बीमारियां (डायबिटीज, दिल की बीमारियां और हाइपरटेंशन), बीएमआई (बॉडी मास इंडेक्स), पोषण, पानी, तनाव, नींद, आंतों की सेहत, रोग प्रतिरक्षा, धूम्रपान और शराब का सेवन आदि शामिल हैं। इस रिपोर्ट में यह भी उल्लेख है कि भारतीय हेल्थ इंश्योरेंस के बारे में क्या सोचते हैं और क्या इसे स्वास्थ्य में निवेश के तौर पर देखा जा सकता है?

रिपोर्ट से ये संकेत मिलता है कि बीमा पॉलिसी के प्रति बढ़ती जागरूकता और जरूरत के बावजूद सर्वेक्षण में भाग लेने वाले 20 प्रतिशत लोगों ने अभी भी स्वास्थ्य बीमा नहीं कराया है। इस बारे में आम धारणा यह है कि बीमा प्रणाली काफी भ्रामक है। यह एक प्रमुख कारण है जो लोगों को हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी लेने के लिए हतोत्साहित करती है। इसके साथ ही स्वास्थ्य बीमा की ऊंची लागत की वजह से बहुत से लोग हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी नहीं खरीदते।

रिपोर्ट में बताया गया कि करीब 90 प्रतिशत लोगों का यह मानना है कि स्वस्थ लोगों को अपनी इंश्योरेंस पॉलिसी पर काफी कम प्रीमियम देना चाहिए। 70 प्रतिशत लोग प्रीमियम पर डिस्काउंट हासिल करने के लिए इंश्योरेंस कंपनियों के साथ स्वास्थ्य संबंधी आंकड़े और रिपोर्ट शेयर करने के लिए तैयार हैं।

कंपनी ने बताया कि सर्वेक्षण में भाग लेने वाले लोगों ने यह अटूट विश्वास जताया कि कैशलेस हॉस्पिटलाइजेशन (87.9 प्रतिशत) हेल्थ इंश्योरेंस का सबसे बड़ा लाभ है। इसके बाद सबसे बड़ा लाभ बीमा से मेडिकल बिलों का भुगतान (67.7 प्रतिशत) हो जाना है। हेल्थ इंश्योरेंस कराने वाले व्यक्तियों को अच्छे अस्पतालों में इलाज (59.0 प्रतिशत) कराने की सुविधा मिलती है।

बहुत से लोग कोई खास पॉलिसी खरीदने का फैसला इसलिए करते हैं क्योंकि इससे उन्हें अच्छे अस्पतालों के नेटवर्क में इलाज कराने (42.3 प्रतिशत) की सुविधा मिलती है। इसके अलावा लोग किसी खास बीमा कंपनी से इसलिए इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदते हैं क्योंकि उन्हें आसानी से क्लेम मिल जाता है (41.9 प्रतिशत)। आसानी से सुलभ होने वाले अस्पतालों में इलाज कराने की सुविधा मिलने की संभावना से (40.3 प्रतिशत) लोग स्वास्थ्य बीमा खरीदना पसंद करते हैं। कम लागत, अच्छी कवरेज और लाभ, आसान नियम और शर्तें भी लोगों को स्वास्थ्य बीमा खरीदने के लिए आश्वस्त करने के सबसे बड़े कारकों में से एक हैं।

रिपोर्ट से यह भी संकेत मिलता है कि 20 से 45 वर्ष के आयु वर्ग के लोग एक बार लाइफस्टाइल बीमारियों से पीड़ित होते हैं, जिसमें डायबिटीज, बीपी, दिल की बीमारियों, थायराइड, तीव्र जीआई और एसिडिटी शामिल हैं। पिछले दो सालों में लोगों में लाइफस्टाइल संबंधी बीमारियों में काफी बढ़ोतरी हुई है। इस साल लोगों में कोलेस्ट्रोल बढ़ने के मामलों में 10.1 प्रतिशत से 14.1 प्रतिशत तक बढ़ोतरी हुई है। हाईब्लडप्रेशर के रोगियों में भी बढ़ोतरी हुई है। यह 9 प्रतिशत से बढ़कर 12 प्रतिशत हो गया है।

रिपोर्ट में बताया गया कि लाइफस्टाइल संबंधी बीमारियों में हुई बढ़ोतरी और इलाज कराने के बढ़ते खर्च ने लोगों में हेल्थकेयर सिस्टम के प्रति भरोसे का अभाव उत्पन्न किया है। इससे लोग अपने स्वास्थ्य की रक्षा के प्रति बहुत ज्यादा सतर्क हुए हैं।

गोकी इंडिया फिट रिपोर्ट 2019 से यह संकेत मिलता है कि 2017 की तुलना में 2019 में लोग अपनी सेहत ठीक रखने के लिए लोग सुबह दौड़ लगाने की ओर अधिक प्रेरित हुए हैं। 2017 में 22 प्रतिशत लोग अपनी सेहत की खातिर दौड़ लगाते थे। अब यह आंकड़ा 33 प्रतिशत तक पहुंच गया है। अपनी सेहत को ठीक रखने के लिए साइकिल चलाने के प्रति भी लोग ज्यादा प्रेरित हुए हैं। अपनी सेहत को ठीक रखने की कवायद में अब लोग ज्यादा घंटों तक सोने लगे हैं। वे आराम की ओर बहुत ज्यादा ध्यान देने लगे हैं। इस रिपोर्ट से यह भी खुलासा हुआ है कि भारतीय अब ज्यादा सोने लगे हैं। 2017 में जहां भारतीय एक दिन में 6 घंटे 32 मिनट की नींद लेते थे। इस साल वह औसत रूप में एक दिन में 6 घंटे 51 मिनट सोने लगे हैं।

शहरों के आधार पर, बेंगलुरु के लोग सेहतमंद होने के मामले में सबसे आगे हैं। रिपोर्ट के मुताबिक बेंगलुरु ने मुंबई को पछाड़ते हुए भारत के सबसे सेहतमंद शहरों की लिस्ट में टॉप पर जगह बनाई है।

एक पहलू जिसने भारतीयों को सबसे ज्यादा चिंता में डाला है, वह प्रदूषण है। वायु प्रदूषण से पिछले कुछ सालों में लोगों की सेहत सबसे ज्यादा खराब हुई है। यह हालात दिन पर दिन बदतर होते जा रहे हैं।

इंडिया फिट रिपोर्ट के नतीजों से पता चलता है कि वायु, जल और भोजन की गुणवत्ता को देखते हुए पुणे सबसे ज्यादा रहने लायक शहरों में से एक है। वायु प्रदूषण के संदर्भ में दिल्ली सबसे प्रदूषित शहरों में से एक है।

‘इंडिया फिट रिपोर्ट 2019’ के नतीजों पर टिप्पणी करते हुए गोकी के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी विशाल गोंडल ने कहा, “स्वास्थ्य रक्षा में लोगों का भरोसा और कम हुआ है। स्वास्थ्य रक्षा प्रणाली को फिर से दुरुस्त करने की बहुत आवश्यकता है। हमारा लक्ष्य लोगों को बहुत सक्रिय और इलाज संबंधी स्वास्थ्य रक्षा प्रणाली से निषेधात्मक स्वास्थ्य रक्षा प्रणाली की ओर ले जाना है।”

–आईएएनएस

स्वास्थ्य

क्या आपको पता है काले चने खाने से होते हैं ये फायदे…

Published

on

Chana

काले चने तो आप सभी खाते होंगे, क्या आपको इससे होने वाले फायदे के बारे में पता है। काले चने हमारी सेहत के लिए बेहद ही फायदेमंद हैं।

काले चने भुने हुए हों, अंकुरित हों या इसकी सब्जी बनाई हो, यह हर तरीके से सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। इसमें भरपूर मात्रा में कार्बोहाइड्रेट्स, प्रोटीन्स, फाइबर, कैल्शियम, आयरन और विटामिन्स पाए जाते हैं।

Image result for काला चना

● शरीर को सबसे ज्यादा फायदा अंकुरित काले चने खाने से होता है, क्योंकि अंकुरित चने क्लोरोफिल, विटामिन ए, बी, सी, डी और के, फॉस्फोरस, पोटैशियम, मैग्नीशियम और मिनरल्स का अच्छा स्रोत होते हैं। साथ ही इसे खाने के लिए किसी प्रकार की कोई खास तैयारी नहीं करती पड़ती। रातभर भिगोकर सुबह एक-दो मुट्ठी खाकर हेल्थ अच्छी हो सकती है।

Image result for काला चना

1) कब्ज से राहत मिलती है चने में मौजूद फाइबर की मात्रा पाचन के लिए बहुत जरूरी होती है। रातभर भिगोए हुए चने से पानी अलग कर उसमें नमक, अदरक और जीरा मिक्स कर खाने से कब्ज जैसी समस्या से राहत मिलती है।Image result for काला चना

साथ ही जिस पानी में चने को भिगोया गया था, उस पानी को पीने से भी राहत मिलती है। लेकिन कब्ज दूर करने के लिए चने को छिलके सहित ही खाएं।

2) ये एनर्जी बढ़ाता है कहा तो यहाँ तक जाता है इंस्टेंट एनर्जी चाहिए, तो रातभर भिगोए हुए या अंकुरित चने में हल्का सा नमक , नींबू, अदरक के टुकड़े और काली मिर्च डालकर सुबह नाश्ते में खाएं , बहुत फायदेमंद होता है।

Image result for काला चनाआप चने का सत्तू भी खा सकते हैं। यह बहुत ही फायदेमंद होता है।गर्मियों में चने के सत्तू में नींबू और नमक मिलाकर पीने से शरीर को एनर्जी तो मिलती ही है, साथ ही भूख भी शांत होती है।

3) पथरी की प्रॉब्लम दूर करता है दूषित पानी और खाने से आजकल किडनी और गॉल ब्लैडर में पथरी की समस्या आम हो गई है। हर दूसरे-तीसरे आदमी के साथ स्टोन की समस्या हो रहीहै। इसके लिए रातभर भिगोए हुए काले चने में थोड़ी सी शहद की मात्रा मिलाकर खाएं।

रोजाना इसके सेवन से स्टोन के होने की संभावना काफी कम हो जाती है और अगर स्टोन है तो आसानी से निकल जाता है। इसके अलावा चने के सत्तू और आटे से मिलकर बनी रोटी भी इस समस्या से राहत दिलाती है।

4) काला चना शरीर की गंदगी को पूरी तरह से बाहर भी निकालता है ।

● एनर्जी बढ़ाता है, डायबिटीज से छुटकारा मिलता है,एनीमिया की समस्या दूर होती है, बुखार में पसीना आने की समस्या दूर होती है, पुरुषोंके लिए फायदेमंद, हिचकी में राहत दिलाता है, जुकाम में आराम मिलता है, मूत्र संबंधित रोग दूर होते हैं, त्वचा की रंगत निखारता है।

● डायबिटीज से छुटकारा दिलाता है चना ताकतवर होने के साथ ही शरीर में एक्स्ट्रा ग्लूकोज की मात्रा को कम करता है जो डायबिटीज के मरीजों के लिए कारगर होता है। लेकिन इसका सेवन सुबह-सुबह खाली पेट करना चाहिए। चने का सत्तू डायबिटीज़ से बचाता है। एक से दो मुट्ठी चने का सेवन ब्लड शुगर की मात्रा को भी नियंत्रित करने के साथ ही जल्द आराम पहुंचाता है।

● एनीमिया की समस्या दूर होती है शरीर में आयरन की कमी से होने वाली एनीमिया की समस्या को रोजाना चने खाकर दूर किया जा सकता है। चने में शहद मिलाकर खाना जल्द असरकारक होता है। आयरन से भरपूर चना एनीमिया की समस्या को काफी हद तक कम कर देता है। चने में 27 फीसदी फॉस्फोरस और 28 फीसदी आयरन होता है जो न केवल नए बल्ड सेल्स को बनाता है, बल्कि हीमोग्लोबिन को भी बढ़ाता है।

● हिचकी में राहत दिलाए हिचकी की समस्या से ज्यादा परेशान हैं, तो चने के पौधे के सूखे पत्तों का धूम्रपान करने से हिचकी आनी बंद हो जाती है। साथ ही चना आंतों/इंटेस्टाइन की बीमारियों के लिए भी काफी फायदेमंद होता है।

● बुखार में पसीना आने पर बुखार में ज्यादा पसीना आने पर भुने हुए चने को पीसकर, उसमें अजवायन मिलाएं। फिर इससे मालिश करें। ऐसा करने से पसीने की समस्या खत्म हो जाती है।

Image result for काला चना

● मूत्र संबंधित रोग में आराम भुने हुए चने का सेवन करने से बार-बार पेशाब जाने की बीमारी दूर होती है। साथ ही गुड़ व चना खाने से यूरीन से संबंधित किसी भी प्रकार की समस्या में राहत मिलती है। रोजाना भुने हुए चनों के सेवन से बवासीर ठीक हो जाती है।

● पुरुषों के लिए फायदेमंद चीनी-मिट्टी के बर्तन में रातभर भिगोए हुए चने को चबा-चबाकर खाना पुरुषों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। पुरुषों की कई प्रकार की कमजोरी की समस्या खत्म होती है। जल्द असर के लिए भीगे हुए चने के साथ दूध भी पिएं। भीगे हुए चने के पानी में शहद मिलाकर पीने से पौरुषत्व बढ़ता है।

● त्वचा की रंगत निखारता है चना केवल हेल्थ के लिए ही नहीं, स्किन के लिए भी बहुत फायदेमंद है। चना खाकर चेहरे की रंगत को बढ़ाया जा सकता है। वैसे चने की फॉर्म बेसन को हल्दी के साथ मिलाकर चेहरे पर लगा।

Wefornews Bureau

Continue Reading

स्वास्थ्य

कॉफी के तत्व प्रोस्टेट कैंसर का खतरा घटाने में सहायक

Published

on

सुबह का बेहतरीन पेय होने के साथ ही कॉफी प्रोस्टेट कैंसर को रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है, जिससे दवा-प्रतिरोधी कैंसर के इलाज का मार्ग प्रशस्त हो सकता है।

जापान के कनाजावा विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने कहविओल एसिटेट व कैफेस्टोल तत्वों की पहचान की है, जो प्रोस्टेट कैंसर की वृद्धि को रोक सकते हैं। 

ये दोनों तत्व हाइड्रोकॉर्बन यौगिक हैं, जो प्राकृतिक रूप से अरेबिका कॉफी में पाए जाते हैं। 

इसके पायलट अध्ययन से पता चलता है कि कहविओल एसिटेट व कैफेस्टोल कोशिकाओं की वृद्धि को रोक सकते हैं, जो आम कैंसर रोधी दवाओं जैसे कबाजिटेक्सेल का प्रतिरोधी है।

शोध के प्रमुख लेखक हिरोकी इवामोटो ने कहा, “हमने पाया कि कहविओल एसिटेट व कैफेस्टोल ने चूहों में कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि रोक दी, लेकिन इसका संयोजन एक साथ ज्यादा प्रभावी होगा।”

इस शोध के लिए दल ने कॉफी में प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले छह तत्वों का परीक्षण किया। इस शोध को यूरोपियन एसोसिएशन ऑफ यूरोलॉजी कांग्रेस में बार्सिलोना में प्रस्तुत किया गया। शोध के तहत मानव की प्रोस्टेट कैंसर की कोशिकाओं पर प्रयोगशाला में अध्ययन किया गया।

–आईएएनएस

Continue Reading

लाइफस्टाइल

ऐसे बढ़ाएं आँखों की रौशनी…

Published

on

File Photo

अपनी आँखों से ही हम इस खूबसूरत दुनिया को देख पाते हैं। आज के दौर में कम उम्र में ही बच्चों को चश्मा लग जाता है। ऐसे में हमें आंखों का ख्याल रखना जरूरी है।

ऐसा बच्चो की टीवी और मोबाइल की गन्दी आदत की वजह से होता है। अगर आपको अपनी आँखों की रौशनी बरकरार रखनी है तो उसके लिए आप कुछ हेल्थी फ़ूड खाए। आज हम आपको कुछ ऐसी ही आहार बताने जा रहें है जो आपकी आँखों की रौशनी को तेज करने में मदद करेंगे।

गाजर

गाजर का सेवन करने से आपकी आँखों की रौशनी में तेजी होती है। क्योंकि इसमें वीटा केरोटीन की मात्रा पाई जाती है। गजर के साथ आप नींबू , संतरा, और खट्टे फल का भी सेवन कर सकते है। इन सभी फलों में विटामिन बी12 केटरोटिन पाई जाती जे जो आँखों की रौशनी को तेजी से बढ़ती है।

अखरोट

आपकी जानकारी के लिए बता दें अखरोट में ओमेगा -3 फैटी ऐसिड भरपूर मात्रा में पाया जाता है। जो आपकी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद होता है। अखरोट खाने से आपके आँखों की रौशनी तेजी से बढ़ती है, इसलिए आने आहार में आप इससे जरूर शामिल करें।

Image result for अखरोट

बादाम दूध

अगर आपको अपनी आँखों की रौशनी तेज करनी है तो एक हफ्ते में कम से कम तीन बार बादाम दूध पिए। क्योंकि इसमें विटामिन ई पाया जाता है, जो आँखों की कई समस्याओं को दूर करता है। साथ ही आँखों की रौशनी तेज करता है।

almonds-walnuts-

हरी सब्जियां

हरी सब्ज़िया भी आँखों की रौशनी के लिए बेहद लाभकारी है। क्योंकि इसमें मौजूद लूटीन और जियाक्सथीन (कैमिकल) होता है जो आँखों के लिए बेहद फायदेमंद होता है।

Green vegetables-
File Photo

WeForNews

Continue Reading
Advertisement
Priyanka Gandhi
राजनीति7 hours ago

मोदी ने बनारस में एक भी वादा नहीं किया पूरा: प्रियंका

Samjhauta-Express-Blast-min
राष्ट्रीय7 hours ago

समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट केस में असीमानंद समेत सभी आरोपी बरी

sensex-min (1)
व्यापार7 hours ago

सेंसेक्स बढ़त के साथ बंद, निफ्टी फिसला

Kunal Khemu,-
मनोरंजन8 hours ago

कुणाल खेमू ‘अभय’ की शूटिंग के दौरान घायल

Alia Bhatt-
मनोरंजन8 hours ago

जादुई सफर के समान होने जा रही है ‘इंशाअल्लाह’ : आलिया

Randeep Surjewala
राजनीति8 hours ago

करदाताओं के पैसे से जेट एयरवेज को बचाने की कोशिश : कांग्रेस

Equinox Doodle-
राष्ट्रीय9 hours ago

Spring Equinox 2019: गूगल ने बसंत विषुव पर बनाया डूडल

Farooq Abdullah
चुनाव9 hours ago

जम्मू-कश्मीर में कांग्रेस-एनसी गठबंधन, श्रीनगर से फारूक अब्दुल्ला लड़ेंगे चुनाव

Daati Maharaj
राष्ट्रीय9 hours ago

सीबीआई ने दी दाती महाराज को अग्रिम जमानत पर चुनौती

Earthquake-min
अंतरराष्ट्रीय10 hours ago

तुर्की में 5.5 तीव्रता का भूकंप

green coconut
स्वास्थ्य3 weeks ago

गर्मियों में नारियल पानी पीने से होते हैं ये फायदे

chili-
स्वास्थ्य4 weeks ago

हरी मिर्च खाने के 7 फायदे

sugarcanejuice
लाइफस्टाइल3 weeks ago

गर्मियों में गन्ने का रस पीने से होते है ये 5 फायदे…

pulwama terror attack
ब्लॉग4 weeks ago

जवानों के लिए खूनी साबित हुआ फरवरी 2019

ILFS and Postal Insurance Bond
ब्लॉग3 weeks ago

IL&FS बांड से 47 लाख डाक जीवन बीमा प्रभावित

Bharatiya Tribal Party
ब्लॉग4 weeks ago

अलग भील प्रदेश की मांग को लेकर राजस्थान में मुहिम तेज

Momo
लाइफस्टाइल4 weeks ago

मोमोज खाने से आपकी सेहत को होते है ये नुकसान

egg-
स्वास्थ्य4 weeks ago

रोज एक अंडा खाने से होते हैं ये फायदे….

indian air force
ब्लॉग3 weeks ago

ऑपरेशन बालाकोट में ग़लत ‘सूत्रों’ के भरोसे ही रहा भारतीय मीडिया

Chana
स्वास्थ्य16 hours ago

क्या आपको पता है काले चने खाने से होते हैं ये फायदे…

Most Popular