गणतंत्र दिवस पर सुरक्षा में 48 कंपनी केंद्रीय बल, 22 हजार पुलिस जवान होंगे तैनात | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

राष्ट्रीय

गणतंत्र दिवस पर सुरक्षा में 48 कंपनी केंद्रीय बल, 22 हजार पुलिस जवान होंगे तैनात

Published

on

Republic Day Security
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली। केंद्रीय खुफिया एजेंसियों से मिली जानकारी के अनुसार विध्वंसकारी ताकतें गणतंत्र-दिवस की पूर्व संध्या पर मौके की तलाश में हैं। उनके निशाने पर भीड़ भरे बाजार और सरकारी इमारतें हो सकती हैं। इस मद्देनजर राजधानी के सुरक्षा इंतजाम की जिम्मेदारी निभाने वाली दिल्ली पुलिस सतर्क हो गई है।

पुलिस ने शनिवार से ही नई दिल्ली, मध्य दिल्ली और उत्तरी दिल्ली की बहुमंजिला निजी-राजकीय इमारतों को खाली कराके उसे सील करने का निर्णय लिया है, ताकि विध्वंसकारी ताकतों को छिपकर मंसूबे पूरे करने का मौका ही हाथ न लगे।

दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल और अपराध शाखा के अधिकारी हालांकि संवेदनशील विषय होने के चलते खुफिया जानकारियों पर बात करने से कतरा रहे हैं।

दिल्ली पुलिस मुख्यालय के मुताबिक, “इस बार 48 कंपनी केंद्रीय अर्धसैनिक बल गणतंत्र दिवस के मौके पर राजधानी दिल्ली के चप्पे-चप्पे पर तैनात रहेंगे। इसके लिए सबंधित विभागों से भी लिखित स्वीकृति प्राप्त हो चुकी है, जबकि दिल्ली पुलिस के 22 हजार जवान गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान और उससे पूर्व यानी शनिवार दोपहर बाद से ही तैनात कर दिए जाएंगे।”

दिल्ली पुलिस मुख्यालय द्वारा तमाम विशेष आयुक्तों (कानून एवं व्यवस्था), परिक्षेत्रों के संयुक्त आयुक्तों, जिलों के डीसीपी को भी बेहद सतर्क रहने की हिदायत दे दी गई है। पुलिस आयुक्त ने बेहद सख्त लहजे में आला-अफसरों को समझा दिया है कि कहीं भी आपसी सामंजस्य में कमी आई तो इसका इस्तेमाल विध्वंसकारी ताकतें करने से बाज नहीं आएंगी।

गणतंत्र दिवस परेड के दौरान जो भी स्थान और इमारतें संवेदनशील मानी गई हैं, वहां दिल्ली पुलिस के ब्लैककैट कमांडो तैनात किए जाएंगे। परेड के बाद राष्ट्रपति भवन में आयोजित ‘एटहोम’ तक सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम बने रहेंगे। दिल्ली की सीमाओं पर चौकसी की रणनीति भी संबंधित राज्यों की पुलिस के साथ बनाई जा चुकी है।

आपात स्थिति में संचार की मदद के लिए चलते-फिरते ‘मोबाइल-कंट्रोल-रूम’ भी बनाए गए हैं। इन विशेष किस्म के मोबाइल कंट्रोल-रूम के खुफिया कॉल-साइन भी निर्धारित कर दिए गए हैं, जो आपात स्थिति में सिर्फ दिल्ली पुलिस ही सुन व समझ पाएगी।

परेड के दौरान भीड़ रोकने का भी ख्याल रखा जाएगा। इसके लिए बाकायदा दिल्ली यातायात पुलिस के 2000 से ज्यादा जवान सड़क पर तैनात रहेंगे।

उल्लेखनीय है कि कुछ दिन पहले जय सिंह रोड पर मौजूद नवनिर्मित पुलिस मुख्यालय भवन सभागार में दिल्ली पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक ने एक गोपनीय बैठक बुलाई थी। तीन दशक के दिल्ली पुलिस के इतिहास में यह पहला मौका था जब दिल्ली पुलिस आयुक्त ने गणतंत्र दिवस सुरक्षा इंतजाम के मद्देनजर पंजाब, उत्तर प्रदेश, बिहार, हरियाणा, राजस्थान, चंडीगढ़, जम्मू-कश्मीर और मध्य प्रदेश के आला पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक बुलाई हो। बैठक का उद्देश्य दिल्ली में शांतिपूर्ण चुनाव और गणतंत्र दिवस पर सुरक्षा इंतजामों की समीक्षा करने का था।

— आईएएनएस

राष्ट्रीय

चीन से तनाव के बीच भारतीय सेना ने LAC के पास T-90 और T-72 टैंकों को किया तैनात

Published

on

चीन से तनाव के बीच भारतीय सेना ने पूर्वी लद्दाख में चुमार-डेमचोक क्षेत्र में एलएसी के पास BMP-2 इन्फैंट्री कॉम्बैट व्हीकल्स के साथ T-90 और T-72 टैंकों को तैनात कर दिया है। यह टैंक माइनस 40 डिग्री सेल्सियस तक तापमान में काम कर सकते हैं।

Continue Reading

राष्ट्रीय

फडणवीस से मुलाकात पर बोले राउत- हम दुश्मन नहीं, सीएम ठाकरे को भी है बैठक की जानकारी

Published

on

महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली तीन दलों की महाविकास आघाडी सरकार की स्थिरता को लेकर सियासी गलियारों में चर्चा हो रही है।

इसी बीच, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और शिवसेना सांसद संजय राउत के बीच मुंबई के पांच सितारा होटल में मुलाकात हुई। दोनों नेताओं की मुलाकात के बाद महाराष्ट्र के राजनीतिक गलियारों में अटकलों का बाजार गर्म हो गया।

इस मुलाकात को लेकर संजय राउत का बयान भी सामने आया गया है। राउत ने रविवार को कहा, ‘मैं कुछ मुद्दों पर चर्चा करने के लिए कल देवेंद्र फडणवीस से मिला। वह पूर्व सीएम हैं। इसके अलावा, वह महाराष्ट्र में विपक्ष के नेता हैं और बिहार चुनाव के लिए भाजपा के प्रभारी हैं। वैचारिक मतभेद हो सकते हैं लेकिन हम दुश्मन नहीं हैं। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को हमारी बैठक के बारे में जानकारी है।’
मिली जानकारी के अनुसार, दोनों नेताओं के बीच दोपहर डेढ़ बजे से लेकर करीब साढ़े तीन घंटे तक बातचीत हुई। दोनों ने साथ-साथ लंच भी किया। शिवसेना-भाजपा के नेताओं को इस मुलाकात की कोई पूर्व सूचना नहीं थी। 

भाजपा ने कहा- ज्यादा अर्थ निकालने की जरूरत नहीं
दोनों नेताओं के बीच मुलाकात के बाद सूबे में राजनीतिक भूचाल आने की चर्चा शुरू हो गई है। इस मुलाकात को लेकर केंद्रीय मंत्री रावसाहेब दावने पाटिल ने कहा कि इसका ज्यादा अर्थ निकालने की जरूरत नहीं है। कुछ दिन पहले मेरी भी राउत से मुलाकात हुई थी और साथ में चाय पी थी। 

मुलाकात का कोई राजनीतिक संदर्भ नहीं: शिवसेना
गौरतलब है कि राउत पिछले साल विधानसभा चुनाव के बाद सत्ता बंटवारे के फार्मूले को लेकर भाजपा विरोधी रुख के लिए सुर्खियों में थे। महाराष्ट्र भाजपा के मुख्य प्रवक्ता केशव उपाध्ये ने कहा कि इस मुलाकात के कोई राजनीतिक मायने नहीं है।

उन्होंने ट्वीट किया, राउत ने (शिवसेना के मुखपत्र) सामना के लिए फडणवीस का साक्षात्कार लेने की इच्छा व्यक्त की थी और इसी बारे में चर्चा करने के लिए यह मुलाकात हुई थी। प्रवक्ता ने कहा, फडणवीस ने राउत से कहा है कि वह बिहार में चुनाव प्रचार करके लौटने के बाद उन्हें साक्षात्कार देंगे। इस भेंट का कोई राजनीतिक संदर्भ नहीं है। 

बता दें कि साल 2019 में विधानसभा चुनाव के बाद भाजपा का साथ छोड़कर कांग्रेस-एनसीपी के साथ मिलकर महाविकास आघाडी सरकार बनाने में संजय राउत की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। चूंकि संजय राउत शिवसेना के मुखपत्र के संपादकीय में देवेंद्र फडणवीस पर लगातार निशाना साधते रहे हैं, इसलिए फडणवीस से राउत की मुलाकात को काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

Wefornews

Continue Reading

राष्ट्रीय

मन की बात में बोले पीएम- किसानों को मिली फल-सब्जियों को कहीं भी बेचने की ताकत

Published

on

Mann Ki Baat

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ कार्यक्रम के जरिए देशवासियों को संबोधित कर रहे हैं। यह उनके रेडियो कार्यक्रम की 69वीं कड़ी है। इसे आकाशवाणी और दूरदर्शन के समूचे नेटवर्क पर प्रसारित किया जा रहा है। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 30 अगस्त को ‘मन की बात’ कार्यक्रम के जरिए लोगों को संबोधित किया था।

प्रधानमंत्री मोदी का देश के नाम संबोधन

जानते हैं, इन किसानों के पास क्या अलग है- अपने फल-सब्जियों को, कहीं पर भी, किसी को भी, बेचने की ताकत है, और ये ताकत ही, उनकी, इस प्रगति का आधार है। अब यही ताकत, देश के दूसरे किसानों को भी मिली है।

हरियाणा के सोनीपत जिले के किसान श्री कंवर चौहान ने बताया कि 2014 में फल और सब्जियों को एपीएमसी अधिनियम से बाहर करने के बाद उन्हें और आस-पास के साथी किसानों को बहुत फायदा हुआ।

कोरोना के इस कठिन समय में भी हमारे देश के कृषि क्षेत्र ने फिर अपना दमखम दिखाया है, देश का कृषि क्षेत्र, हमारे किसान, हमारे गांव, आत्मनिर्भर भारत का आधार हैं, ये मजबूत होंगे तो आत्मनिर्भर भारत की नींव मजबूत होगी।

हमारे यहां कहा जाता है, जो जमीन से जितना जुड़ा होता है, वो बड़े से बड़े तूफानों में भी अडिग रहता है। कोरोना के इस कठिन समय में हमारा कृषि क्षेत्र, हमारा किसान इसका जीवंत उदाहरण है।
आप देखिए कि परिवार में कितना बड़ा खजाना हो जाएगा, रिसर्च का कितना बढ़िया काम हो जाएगा, हर किसी को कितना आनंद आएगा और परिवार में एक नया प्राण, नई उर्जा आएगी। 
मैं आग्रह करूंगा कि परिवार में हर सप्ताह आप कहानियों के लिए कुछ समय निकालें और ये भी कर सकते हैं कि परिवार के हर सदस्य को हर सप्ताह के लिए, एक विषय तय करें, जिस दिन परिवार के सभी सदस्य मिलकर एक-एक कहानी कहेंगे।

मैं कथा सुनाने वाले सबसे आग्रह करूंगा कि हम आजादी के 75 वर्ष मनाने जा रहें हैं, क्या हम हमारी कथाओं में पूरे गुलामी के कालखंड की जितनी प्रेरक घटनाएं हैं उनको, कथाओं में प्रचारित कर सकते हैं। विशेषकर 1857 से 1947 तक, हर छोटी-मोटी घटना से अब हमारी नई पीढ़ी को कथाओं के द्वारा परिचित करा सकते हैं। मुझे विश्वास है कि आप लोग जरूर इस काम को करेंगे।
बंगलूरू में एक विक्रम श्रीधर हैं, जो बापू से जुड़ी कहानियों को लेकर बहुत उत्साहित हैं, और भी कई लोग इस क्षेत्र में काम कर रहे होंगे- आप जरूर उनके बारे में सोशल मीडिया पर शेयर करें।
मुझे http://gaathastory.in जैसी वेबसाइट के बारे में जानकारी मिली, जिसे अमर व्यास और उनके साथी चलाते हैं, अमर व्यास आईआईएम अहमदाबाद से एमबीए करने के बाद विदेश चले गए, वापिस आए और समय निकालकर कहानियों से जुड़े रोचक कार्य कर रहे हैं।

चेन्नई की श्रीविद्या वीर राघवन भी हमारी संस्कृति से जुड़ी कहानियों को प्रचारित, प्रसारित, करने में जुटी हैं। वहीं कथालय और द इंडियन स्टोरी टेलिंग नेटवर्क नाम की दो वेबसाइट भी इस क्षेत्र में जबरदस्त कार्य कर रही हैं।

कहानियां लोगों के रचनात्मक और संवेदनशील पक्ष को सामने लाती हैं, उसे प्रकट करती हैं। मैं अपने जीवन में बहुत लंबे अरसे तक एक परिव्राजक के रूप में रहा। घुमंत ही मेरी जिंदगी थी। हर दिन नया गांव, नए लोग, नए परिवार।

हमारे यहां तरह-तरह की लोक-कथाएं प्रचलित हैं। मैं देख रहा हूं कि कई लोग किस्सागोई की कला को आगे बढ़ाने के लिए सराहनीय पहल कर रहे हैं।

साथियो, भारत में कहानी कहने की, या कहें किस्सागोई की एक समृद्ध परंपरा रही है। पूरे भारत में कई भारतीय कहानी सुनाने की कला को लोकप्रिय बना रहे हैं। इन दिनों, विज्ञान से संबंधित कहानियों को लोकप्रियता मिल रही है।

कहानियों का इतिहास उतना ही पुराना है जितनी की मानव सभ्यता। कहानियां लोगों के रचनात्मक और संवेदनशील पक्षा को सामने लाती हैं, उसे प्रकट करती हैं। कहानी की ताकत को महसूस करना हो तो जब कोई मां अपने छोटे बच्चे को सुलाने के लिए या फिर उसे खाना खिलाने के लिए कहानी सुना रही होती है तब देखें।

हमें जरूर एहसास हुआ होगा कि हमारे पूर्वजों ने जो विधाएं बनाई थीं वो आज भी कितनी महत्वपूर्ण हैं और जब नहीं होती हैं तो कितनी कमी महसूस होती है। ऐसी ही एक विधा जैसा मैंने कहा, कहानी सुनाने की कला है।

इतने लंबे समय तक, एक साथ रहना, कैसे रहना, समय कैसे बिताना हर पल खुशी भरा कैसे हो? तो कई परिवारों को दिक्कतें आईं और उसका कारण था।

कोरोना के इस कालखंड में पूरी दुनिया अनेक परिवर्तनों के दौर से गुजर रही है। आज, जब दो गज की दूरी एक अनिवार्य जरूरत बन गई है को इसी संकट काल ने परिवार के सदस्यों को आपस में जोड़ने और करीब लाने का काम भी किया है।

Continue Reading
Advertisement
Coronavirus
अंतरराष्ट्रीय1 min ago

नेपाली सेना में कोविड-19 से दूसरी मौत

राष्ट्रीय7 mins ago

चीन से तनाव के बीच भारतीय सेना ने LAC के पास T-90 और T-72 टैंकों को किया तैनात

jeetan ram
राजनीति15 mins ago

जीतन राम मांझी को मिली जेड प्लस सुरक्षा

राजनीति20 mins ago

ड्रग्स केस: धर्मा प्रोडक्शन के पूर्व कर्मचारी क्ष‍ितिज की आज कोर्ट में पेशी

राष्ट्रीय30 mins ago

फडणवीस से मुलाकात पर बोले राउत- हम दुश्मन नहीं, सीएम ठाकरे को भी है बैठक की जानकारी

Mann Ki Baat
राष्ट्रीय55 mins ago

मन की बात में बोले पीएम- किसानों को मिली फल-सब्जियों को कहीं भी बेचने की ताकत

ashok gehlot
राष्ट्रीय58 mins ago

जसवंत सिंह के निधन पर राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने जताया शोक

Coronavirus
राष्ट्रीय1 hour ago

देश में कोरोना के 88600 नए मामले, 1124 की मौत

राष्ट्रीय1 hour ago

उप्र : बच्चों को स्कूल भेजने को तैयार नहीं हैं माता-पिता

Uma Bharti
राजनीति1 hour ago

उमा भारती हुई कोरोना पॉजिटिव

Mayawati
राजनीति3 weeks ago

मायावती शासन की अनियमितताओं पर शुरू होगी कार्रवाई

राजनीति6 days ago

किसान बिल पर हंगामे के चलते राज्यसभा के 8 सांसद निलंबित

Blood Pressure machine
लाइफस्टाइल4 weeks ago

हाई-ब्लड प्रेशर, हाइपरटेंशन में वायु प्रदूषण का योगदान : शोध

Sonia Gandhi and Rahul
ब्लॉग3 weeks ago

कांग्रेस की बीमारियां उन्हें क्यों सता रहीं जिन्होंने इसे वोट दिया ही नहीं?

Rhea-
मनोरंजन3 weeks ago

सुशांत केस : ड्रग्स मामले में रिया चक्रवर्ती को भेजा गया मुंबई जेल

former president pranab-mukjerjee
राष्ट्रीय4 weeks ago

भारत रत्न पूर्व राष्ट्रपति का 84 साल की उम्र में निधन

Rhea Chakraborty
मनोरंजन4 weeks ago

सुशांत मामला : रिया से आज फिर पूछताछ करेगी सीबीआई

खेल4 weeks ago

राष्ट्रीय खेल दिवस: खेल रत्न, अर्जुन अवॉर्ड, द्रोणाचार्य-ध्यानचंद पुरस्कार की पूरी लिस्ट

Supreme Court
राष्ट्रीय2 weeks ago

लोन मोरेटोरियम केस: SC ने कहा- आखिरी सुनवाई से पहले जवाब दाखिल करे सरकार

Suresh-Raina
खेल4 weeks ago

पूरे सीजन के लिए आईपीएल से बाहर हुए रैना

8 suspended Rajya Sabha MPs
राजनीति5 days ago

रात में भी संसद परिसर में डटे सस्पेंड किए गए विपक्षी सांसद, गाते रहे गाना

Ahmed Patel Rajya Sabha Online Education
राष्ट्रीय1 week ago

ऑनलाइन कक्षाओं के लिए गरीब छात्रों को सरकार दे वित्तीय मदद : अहमद पटेल

Sukhwinder-Singh-
मनोरंजन1 month ago

सुखविंदर की नई गीत, स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर देश को समर्पित

Modi Independence Speech
राष्ट्रीय1 month ago

Protected: 74वें स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी का भाषण, कहा अगले साल मनाएंगे महापर्व

राष्ट्रीय2 months ago

उत्तराखंड में ITBP कैम्‍प के पास भूस्‍खलन, देखें वीडियो

Kapil Sibal
राजनीति4 months ago

तेल से मिले लाभ को जनता में बांटे सरकार: कपिल सिब्बल

Vizag chemical unit
राष्ट्रीय5 months ago

आंध्र प्रदेश: पॉलिमर्स इंडस्ट्री में केमिकल गैस लीक, 8 की मौत

Delhi Police ASI
शहर5 months ago

दिल्ली पुलिस के कोरोना पॉजिटिव एएसआई के ठीक होकर लौटने पर भव्य स्वागत

WHO Tedros Adhanom Ghebreyesus
स्वास्थ्य5 months ago

WHO को दिए जाने वाले अनुदान पर रोक को लेकर टेडरोस ने अफसोस जताया

Sonia Gandhi Congress Prez
राजनीति6 months ago

PM Modi के संबोधन से पहले कोरोना संकट पर सोनिया गांधी का राष्ट्र को संदेश

Most Popular