Connect with us

स्वास्थ्य

देश में 34 फीसद लोग नहीं करते पर्याप्त व्यायाम

Published

on

exercise-
File Photo

देश में लगभग 34 प्रतिशत लोग (24.7 प्रतिशत पुरुष और 43.9 प्रतिशत महिलाएं) स्वस्थ रहने के लिए पर्याप्त व्यायाम नहीं करते हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की हाल में आई एक रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है। रिपोर्ट के मुताबिक, वैश्विक स्तर पर 1.4 अरब से अधिक वयस्कों को पर्याप्त शारीरिक गतिविधि न करने से बीमारियों का खतरा है। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि 2001 से शारीरिक गतिविधि के वैश्विक स्तर में कोई सुधार नहीं है।

व्यायाम की कमी से समय के साथ हृदय रोग, टाइप 2 मधुमेह, डिमेंशिया और कैंसर जैसी समस्याओं का खतरा बढ़ सकता है। यह अस्वास्थ्यकर भोजन पैटर्न और बीमारियों के पारिवारिक इतिहास के साथ-साथ स्थिति को और भी बढ़ा सकता है।

हार्ट केयर फाउंडेशन (एचसीएफआई) के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा, ज्यादातर समय बैठे रहने की जीवनशैली के स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ते हैं। जिन लोगों के पास डेस्क की नौकरियां हैं, वे कुर्सियों पर बैठे हुए अपना अधिकांश कामकाजी समय गुजारते हैं। यह उनकी मजबूरी है, लेकिन वे नियमित व्यायाम से इसके नकारात्मक प्रभावों को कम कर सकते हैं।”

उन्होंने कहा, “इस साल के शुरू में प्रकाशित एक अध्ययन में अमेरिकी जर्नल ऑफ एपिडेमियोलॉजी में दिखाया गया है कि व्यायाम की कमी मानव शरीर को सेलुलर स्तर तक सीधे प्रभावित करती है। बुजुर्ग महिलाएं जो कम शारीरिक गतिविधि वाले दिन में 10 घंटे से अधिक समय तक बैठती हैं, उनमें ऐसी कोशिकाएं होती हैं जो आठ साल पहले ही जैविक रूप से वृद्ध होती जाती हैं।”

डॉ. अग्रवाल ने बताया, “परिवार में छोटे और क्रमिक परिवर्तन किए जा सकते हैं, ताकि कोई भी बिना व्यायाम के न रहे। वयस्कों की पहल से स्वस्थ जीवनशैली के लिए युवाओं के सामने भी उदाहरण स्थापित होगा। ऐसे परिवर्तन लोगों को वजन कम करने और बेहतर खाने के विकल्प बनाने में भी मदद कर सकते हैं।

यह उन लोगों के लिए सत्य है जो इस स्थिति के अनुवांशिक संवेदनशीलता वाले हैं।”

डॉ. अग्रवाल के कुछ सुझाव :

-आहार में साबुत अनाज, फल और सब्जियों को शामिल करें।

-रेशेदार भोजन यह सुनिश्चित करेगा कि आप लंबे समय तक पेट भरा महसूस करें

-जितना संभव हो सके प्रोसेस्ड और रिफाइंड भोजन से बचें। बहुत अधिक शराब वजन बढ़ाने के लिए जिम्मेदार है

-शराब आपके रक्तचाप और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को बढ़ा सकती है। पुरुषों को दो पैग प्रतिदिन और महिलाओं को एक पैग तक सीमित रहना चाहिए।

-धूम्रपान करने वालों को मधुमेह होने की दोगुनी आशंका रहती है, इसलिए इस आदत को छोड़ें।

–आईएएनएस

स्वास्थ्य

बच्चों में बढ़ रहा है डायबिटीज खतरा…

Published

on

Diabetes-
File Photo

बच्चों में बढ़ता मोटापा आज चिंता का विषय बन चुका गया है। जो कई बीमारियों का कारण बनता जा रहा है।

कई कारणों से बच्चे आज मोटापे का शिकार बन रहे हैं जैसे लगातार टीवी देखना, इंटरनेट, गेमिंग डिवाइसेज पर समय बिताना, खेलकूद की कमी, जंक फूड का सेवन और निष्क्रिय जीवनशैली।  मोटापे का एक घातक परिणाम डायबिटीज के रूप में सामने आता है और डायबिटीज का बुरा असर शरीर के हर अंग पर पड़ता है।

पिछले साल किए गए एक सर्वेक्षण में पाया गया है कि दिल्ली में लगभग 35 फीसदी किशोरों का वजन सामान्य से अधिक है या वे मोटापे से ग्रस्त हैं।आजकल बच्चे खेल-कूद के बजाए इन्डोर गतिविधियों में ज्यादा समय बिताते हैं। ऐसे में मोटापे का शिकार हो जाते हैं और इसका एक घातक परिणाम डायबिटीज के रूप में सामने आता है और डायबिटीज का बुरा असर शरीर के हर अंग पर पड़ता है।”

डायबिटीज नवजात शिशुओं को भी प्रभावित कर सकता है और ज्यादातर लोग इसके बारे में नहीं जानते हैं। नियोनेटल डायबिटीज बच्चों में छह माह की उम्र से पहले भी हो सकता है।”एक अनुमान के अनुसार अकेले दिल्ली में 32 लाख बच्चे डायबिटीज से पीड़ित हैं।

ज्यादातर मामलों में ये बच्चे मोटापे का शिकार होते हैं या इनका वजन सामान्य से अधिक होता है। अध्ययन के अनुसार, बच्चों में मोटापा टाईप 2 डायबिटीज का कारण बन सकता है। लेकिन समय पर निदान के द्वारा रोग के लक्षणों को नियन्त्रण में रखा जा सकता है और प्री डायबिटीज को डायबिटीज में बदलने से रोका जा सकता है।

डायबिटीज का मुख्य कारण असेहतमंद जीवनशैली है और अच्छी आदतों द्वारा इस पर नियन्त्रण पाया जा सकता है। सबसे पहले अपने वजन पर नियन्त्रण रखें। ब्लड शुगर को नियन्त्रण में रखने के लिए बीएमआई सही होना बहुत जरूरी है। इसके लिए काबोर्हाइड्रेट का सेवन सीमित मात्रा में करें।

फाईबर और प्रोटीन से युक्त आहार लें। हरी सब्जियों, फलों, फलियों और साबुत अनाज का सेवन करें।”अगर परिवार में डायबिटीज का इतिहास है तो आपको नियमित रूप से अपने ब्लड शुगर की जांच करवानी चाहिए। अपने ब्लड प्रेशर, कॉलेस्ट्रॉल, ट्राई ग्लीसराईड पर नियन्त्रण रखें। डायबिटीज दिल की बीमारियों का कारण भी बन सकता है। इसलिए ब्लड प्रेशर और कॉलेस्ट्रॉल को नियन्त्रित रखना बहुत जरूरी है।

WeForNews

Continue Reading

स्वास्थ्य

रोजाना 3-4 कप कॉफी मधुमेह में मददगार

Published

on

coffee
File Photo

रोजाना तीन-चार कप काफी पीने से मधुमेह टाइप-2 का खतरा 25 फीसदी कम हो सकता है। यह सुझाव एक शोध के नतीजों के आधार पर दिया गया है।

मधुमेह टाइप-2 के मामलों में काफी पीने का असर पुरुष और महिला दोनों में पाया गया है। शोध में कैफीन रहित काफी पीने से भी उसी प्रकार का प्रतिरक्षी प्रभाव पाया गया।स्वीडन के कारोलिंस्का इंस्टीट्यूट के एसोसिएट प्रोफेसर मैट्टियस काल्स्ट्रोम ने कहा कि महज कैफीन नहीं, बल्कि हाइड्रॉक्सीसिनेमिक एसिड्स के कारण यह असर होता है। ‘

हाइड्रॉक्सीसिनेमिक एसिड्स में मुख्य रूप से क्लोरोजेनिक एसिड, ट्राजोनेलिन, कैफेस्टॉल, कॉवियोल और कैफिक एसिड होते हैं।शोध के नतीजे यूरोपीय एसोसिएशन फॉर स्टडी ऑफ डायबिटीज के 2018 में जर्मनी में आयोजित सालाना सम्मेलन में प्रस्तुत किए गए। शोधार्थी दल ने कुल 111,85,210 प्रतिभागियों को शामिल किया और 30 संभावित अध्ययनों की समीक्षा की।

–आईएएनएस

Continue Reading

स्वास्थ्य

इन्सुलिन की कमी से बच्चों में भी मधुमेह का खतरा

Published

on

मधुमेह 0-14 वर्ष के बच्चों में भी हो जाती है जब उनका शरीर किसी भी कारण से आवश्यकतानुसार इन्सुलिन नहीं बना पाता। जो शक्कर उनके शरीर को ऊर्जा प्रदान करने का काम करती, वही शक्कर उनके रक्त में जाकर एक भयंकर बीमारी का रूप ले लेती है, जिसका इलाज जल्द से जल्द होना चाहिए।

न्यूट्री एक्टीवीनिया की संस्थापक अवनी कौल ने कहा कि यह बीमारी बच्चों में क्यों होती है इसका कारण अभी पता नहीं चला है, हालांकि बीमारी से लड़ने की क्षमता जब कम हो जाती है को कई बीमारियां हमला करती हैं। ऐसे ही शरीर में मधुमेह जैसी बीमारियों का वास होता है। यदि परिवार के बड़े लोग मधुमेह से ग्रसित होते हैं, तब भी बच्चों को यह बीमारी हो सकती है क्योकि यह वंशानुगत भी होती है।

उन्होंने कहा कि जब बच्चों को जरूरत से ज्यादा भूख अथवा प्यास लगे, धुंधला दिखने लगे, वजन बिना कारण कम होने लगे अथवा थकान अधिक लगने लगे, उस समय सर्तक हा जाना चाहिए। उनकी तुरन्त जांच करवानी चाहिए ताकि अगर वे मधुमेह से ग्रसित हों तो जल्दी ही उनका इलाज शुरू किया जा सके।

अवनी ने कहा कि बीमार व्यक्ति चाहे बच्चा हो अथवा बड़ा, उसके लिए रक्त में शक्कर की मात्रा पर नियंत्रण रखना अनिवार्य है। यह वह पौष्टिक आहार खाकर एवं नियमित रूप से व्यायाम करके नियन्त्रित कर सकता है। कभी कभी इन्सुलिन की आवश्यकता भी पड़ सकती है। रक्त में शक्कर की मात्रा पर नजर रखना चाहिए ताकि उसमें उतार-चढ़ाव की जानकारी तुरन्त मिल सके।
इन्सुलिन की कमी से सांस तेज चलने लगती है, त्वचा एवं मुंह सूखने लगता है, सांस से बदबू आने लगती है, उल्टी आने का अंदेशा रहता है एवं पेट में दर्द हो सकता है। यह स्थिति जानलेवा भी हो सकती है।

–आईएएनएस

Continue Reading
Advertisement
rahul gandhi
राजनीति9 hours ago

राफेल पर राहुल ने मोदी को घेरा

Manju Verma
राष्ट्रीय10 hours ago

पूर्व मंत्री मंजू वर्मा जेडीयू से निलंबित

sabarimala temple
राष्ट्रीय11 hours ago

विजयन ने सबरीमाला विवाद के लिए बीजेपी को ठहराया जिम्मेदार

Ali Fazal,-
मनोरंजन11 hours ago

अली फजल ने शेयर किया सक्सेस मंत्रा…

sensex-min
व्यापार11 hours ago

शेयर बाजारों में तेजी, सेंसेक्स 119 अंक ऊपर

Salman khan
मनोरंजन11 hours ago

सलमान की फिल्म ‘भारत’ का फर्स्ट लुक जारी

Ankiv Baisoya
राष्ट्रीय11 hours ago

फर्जी डिग्री केस में DUSU अध्यक्ष अंकिव बसोया ABVP से निलंबित

hima daas-
खेल11 hours ago

हिमा दास बनीं यूनीसेफ की युवा एंबेसडर

kumarswamy
राष्ट्रीय11 hours ago

कर्नाटक सरकार बनाएगी मां कावेरी की 125 फीट ऊंची प्रतिमा

delhi high court
राष्ट्रीय12 hours ago

दिल्ली हाई कोर्ट का हेराल्ड हाउस पर यथास्थिति बनाए रखने का आदेश

jeans
लाइफस्टाइल4 weeks ago

जानिए जीन्स का इतिहास, इसमें छुपे एक-एक राज…

mahesh bhatt
ब्लॉग4 weeks ago

‘मी टू मूवमेंट’ का एकजुट होकर समर्थन करना चाहिए : महेश भट्ट

unemployment in India
ब्लॉग4 weeks ago

नई नौकरियां नहीं पैदा हुई, देश में बढ़ी बेरोजगारी दर

jan-dhan-bank-
ब्लॉग4 weeks ago

‘आयुष्मान योजना काफी नहीं, लोगों को मिले स्वास्थ्य का अधिकार’

Sleep
लाइफस्टाइल3 weeks ago

सुबह बिस्तर से उठने का मन नहीं करता, तो हो सकती है ये बीमारी

Whatsapp-
टेक1 week ago

वॉट्सऐप में जुड़ा नया फीचर, कर सकेंगे प्राइवेट रिप्लाई

yoga1
अंतरराष्ट्रीय3 weeks ago

‘चीन में किशोरावस्था से लोग करते हैं योग’

Manoj Nath Myar Madhuli Wana
मनोरंजन5 days ago

लेटेस्ट कुमाऊनी गीत ‘म्यर मधुली वाना’ रिलीज

लाइफस्टाइल4 weeks ago

करवा चौथ के दिन ऐसे निखारें अपनी त्वचा…

zeera-
लाइफस्टाइल4 weeks ago

जीरे का पानी पीने से तेजी से कम होता है वजन…

kailash new
मनोरंजन2 days ago

कैलाश सत्यार्थी पर बनी डॉक्यूमेंट्री का ट्रेलर जारी

SHIVRAJ
राजनीति3 days ago

वोट मांगने गई शिवराज की पत्नी को महिला ने सुनाई खरी खोटी…देखें वीडियो

kedatnath-
मनोरंजन3 days ago

सुशांत की फिल्म ‘केदारनाथ’ का ट्रेलर रिलीज

Manoj Nath Myar Madhuli Wana
मनोरंजन5 days ago

लेटेस्ट कुमाऊनी गीत ‘म्यर मधुली वाना’ रिलीज

शहर2 weeks ago

गुजरात के गांधीनगर सचिवालय में तेंदुआ घुसने से मचा हड़कंप

राजनीति2 weeks ago

दो से ज्यादा बच्चे पैदा करे उसे न हो मतदान का अधिकार: रामदेव

Rajniknat-
मनोरंजन2 weeks ago

अक्षय और रजनीकांत की फिल्म ‘2.0’ का ट्रेलर रिलीज

Patna
शहर2 weeks ago

पटना में महिला पुलिसकर्मी की मौत पर फूटा गुस्सा

kapil sibal
राजनीति2 weeks ago

कोर्ट फैसला करेगा कि अयोध्‍या केस की सुनवाई कब हो: सिब्‍बल

शहर2 weeks ago

लंदन में दिवाली से पहले यूं जश्न मनाती दिखीं महिलाएं

Most Popular