Connect with us
kapil-sibal kapil-sibal

चुनाव

राष्ट्रपति पद को जातिवादी प्रतीकों से बचाना ज़रूरी है

आज यदि अम्बेडकर हमारे बीच होते तो वो इस पद के लिए आदर्श व्यक्ति होते। इसलिए नहीं कि वो दलित थे, बल्कि वो जातिवाद, कट्टरवाद और धर्मान्धता के धुर-विरोधी थे। यही वो संवैधानिक मूल्य हैं जिन्हें हमें बढ़ावा देना चाहिए।

Published

on

राजनीति में प्रतीक या निशान कुछ ख़ास तरह के बयान और मानसिकता को भी प्रदर्शित करते हैं। ये जोश भी भरते हैं तो कमज़ोर भी बनाते हैं। राजनीति के विपरीत, कारोबारी जगत में यही प्रतीक ‘ब्रॉन्ड’ बनकर अपनी गुणवत्ता को उभारते हैं। कई बार ‘ब्रॉन्ड’ से ही वस्तु की क्वालिटी और दाम का अहसास भी होता है। ग़रीबों के पास तो चुनने के लिए भी बहुत सीमित विकल्प होते हैं।

जब कोई पार्टी देश के सर्वोच्च पद के लिए अपना उम्मीदवार चुनती है, तो उसमें क्या ख़ासियत होनी चाहिए? सबसे पहले तो ऐसे उम्मीदवार में उन सारी बातों का प्रतिबिम्ब होना चाहिए जो हमारे देश की बुनियादी विशेषता है। मसलन, उसे उदार, समावेशी, सहिष्णु और सबको जोड़ने वाला व्यक्ति होना चाहिए। इसके बाद उसकी शख़्सियत ऐसी होनी चाहिए कि उसे देश के सुदूर इलाकों में ही नहीं बल्कि देश से बाहर भी लोग सम्मान से देखें।

दिखावेबाज़ी से मायूसियाँ पनपती हैं। आज यदि अम्बेडकर हमारे बीच होते तो वो इस पद के लिए आदर्श व्यक्ति होते। इसलिए नहीं कि वो दलित थे, बल्कि वो जातिवाद, कट्टरवाद और धर्मान्धता के धुर-विरोधी थे। यही वो संवैधानिक मूल्य हैं जिन्हें हमें बढ़ावा देना चाहिए। उन्होंने जाति-वर्ण आधारित उस सामाजिक ताने-बाने के ख़िलाफ़ विद्रोह करते हुए ही बौद्ध धर्म की ओर पलायन किया था, जो समाज में ग़ैर-बराबरी और असहिष्णुता को बढ़ावा देती है। उन्हें भी अपनी ज़िन्दगी में इसका ज़बरदस्त दंश झेलना पड़ा था।

मैं इस बात से चिन्तित हूँ कि राम नाथ कोविन्द की उम्मीदवारी को ऐसे पेश किया जा रहा है जैसे इससे दलितों की सशक्तिकरण होगा। ऐतिहासिक रूप से बीजेपी, दलित-विरोधी रही है। इसीलिए अब वो कोविन्द रूपी मुखौटे की बदौलत ख़ुद को दलितों का हमदर्द दिखाना चाहती है। अमित शाह का नक्सलबाड़ी और वाराणसी में दलितों के घर भोजन करना भी ऐसा ही दिखावा ही है। विपक्ष को इस मौक़े का फ़ायदा उठाकर बीजेपी को बेनक़ाब करना चाहिए।

विपक्ष को हाल की उन घटनाओं को आगे लाने चाहिए जिसमें दलितों को हिंसा का निशाना बनाया गया है। उत्तर प्रदेश और बिहार दोनों ही राज्यों में ऐसी घटनाएँ सबसे अधिक होती हैं। आँकड़े बताते हैं कि गुजरात में दलितों पर अत्याचार से जुड़े अपराधों की राज्य के कुल अपराधों में हिस्सेदारी 163 फ़ीसदी है। राजस्थान के कुल अपराधों में 65 फ़ीसदी तक दलित उत्पीड़न के मामले हैं। हमें बिहार के राज्यपाल राम नाथ कोविन्द से पूछना चाहिए कि बिहार में दलित उत्पीड़न की रोकथाम के लिहाज़ से उनकी क्या उपलब्धि है?

Image result for गुजरात के उना में गोरक्षकों ने बर्बरता

गुजरात के उना में गोरक्षकों ने बर्बरता

गुजरात और मध्य प्रदेश में तो बीजेपी अरसे से सत्ता में है। लेकिन दलित उत्पीड़न के लिहाज़ से इनकी दशा सबसे ख़राब है। गुजरात के उना में गोरक्षकों ने बर्बरता के बावजूद प्रधानमंत्री की ख़ामोशी ये बताने के लिए काफ़ी है कि बीजेपी किस तरह से दलितों की हमदर्द होने का दिखावा करती है। मध्य प्रदेश के सिहोर में दबंगों ने दलितों की ज़मीन पर ज़बरन कब्ज़ा कर लिया तो 50 पीड़ित परिवारों ने इच्छा-मृत्यु की माँग की थी। किसी को पता है कि दोषियों के ख़िलाफ़ शिवराव सिंह चौहान ने क्या कार्रवाई की? हरियाणा के फ़रीदाबाद में 2015 में पुलिस की भारी तैनातगी के बावजूद दो दलित बालकों को मार डाला गया। इससे अधिक शर्मनाक और क्या होगा!

Image result for नागौर में मई 2016 में तीन दलितों को ट्रैक्टर से कुचलकर मार डाला गया

राजस्थान के नागौर में मई 2016 में तीन दलितों को टैक्टर से कुचलकर मार डाला गया। इसके जवाब में राजस्थान सरकार ने क्या कार्रवाई की? ‘मेरा जन्म ही मेरी ज़िन्दगी का सबसे बड़ा हादसा है’, ऐसा कहकर रोहित वेमुला ने जनवरी 2016 में आत्महत्या कर ली। ये वाक़या इस बात की गवाही देता है कि हमारे विश्वविद्यालयों में जातिवादी जहर ने किस क़दर सेंधमारी कर ली है। रोहित का क़सूर सिर्फ़ इतना था कि वो अम्बेडकर स्टूडेंट एसोसिएशन का सदस्य था, वो याक़ूब मेमन की फाँसी देने के ख़िलाफ़ था और उसने दिल्ली विश्वविद्यालय में डॉक्यूमेंट्री फ़िल्म ‘मुज़फ़्फ़रनगर बाक़ी है’ को दिखाये जाने से रोकने के लिए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की निन्दा की थी।

Image result for भीम सेना जंतर-मंतर

विद्यार्थी परिषद ने कथित तौर पर उससे हाथापायी की थी और उसकी गतिविधियों को देश-द्रोही बताते हुए केन्द्रीय मंत्री बंडारू दत्तात्रेय से शिकायत की थी। उन्होंने शिकायत को तत्कालीन मानव संसाधन मंत्री स्मृति इरानी के पास भेज दिया। फिर इन सभी को सन्तुष्ट करने के लिए हैदराबाद विश्वविद्यालय के कुलपति ने रोहित को न सिर्फ़ निलम्बित कर दिया बल्कि उसकी सात महीने की फेलोशिप को भी रोक दिया। अभी हाल ही में भीम सेना ने दिल्ली के जन्तर-मन्तर पर उत्तर प्रदेश के सहारनपुर ज़िले में ठाकुरों की ओर से दलितों पर किये गये अत्याचार के ख़िलाफ़ प्रदर्शन किया था। इसीलिए ऐसी असहिष्णुता और हिंसा को नज़रअन्दाज़ करने जब महज़ दिखावे के लिए किसी दलित को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया जाता है तो बीजेपी की नीयत पर सवाल उठना लाज़िमी है।

रंगनाथ मिश्रा आयोग ने कहा था कि मुसलिम और ईसाई दलितों को भी अनुसूचित जाति में शामिल किया जाना चाहिए। इस पर ज़ोरदार ऐतराज़ जताते हुए 2010 में राम नाथ कोविन्द ने कथित तौर पर कहा था कि ‘इस्लाम और ईसाईयत तो देश में एलेन [यानी अन्य ग्रह के काल्पनिक प्राणी] की तरह हैं।’ यदि उन्होंने ऐसा बयान दिया था तो उन्हें अल्पसंख्यकों को ये भरोसा दिलाना चाहिए कि यदि वो चुनाव जीते तो देश के लोकतांत्रिक मूल्यों का संरक्षण करेंगे। यदि उन्होंने ऐसा कोई बयान नहीं दिया है, तो उन्हें इस आशय का स्पष्टीकरण देना चाहिए। अन्यथा, अल्पसंख्यकों में असुरक्षा का भावना घर कर जाएगी। सच तो ये है कि भारत में अन्य ग्रह के काल्पनिक प्राणी यानी एलेन तो वो लोग हैं जो संविधान की भावना के विपरीत हिंसा की संस्कृति को बढ़ावा देते हैं।

सच्चाई तो ये है कि हरेक 18 मिनट पर भारत में दलितों उत्पीड़न का एक मामला होता है, ऐसे मामलों में 6 फ़ीसदी से कम आरोपियों को ही सज़ा मिल पाती है। इन तथ्यों को देखते हुए राष्ट्रपति के कार्यालय पर ख़ासा दबाव रहेगा, ख़ासकर तब जब वहाँ कोई दलित आसीन हो। सभी जानते हैं कि जातिवादी कुरीतियों और दुराग्रहों में धँसे भारतीय समाज को रातों-रात सुधार पाना नामुमकिन है। मेरी उम्मीद है कि सरकार की भविष्य के ख़तरों पर नज़र अवश्य होगी। प्रधानमंत्री के लिए ये बड़ा मौक़ा है कि वो साबित करें कि उन्हें वाक़ई दलितों की परवाह है, उनसे हमदर्दी है। ताक़ि समाज में ये सन्देश जाए कि दलितों को निशाना बनाने वाले बख़्शे नहीं जाएँगे। गोरक्षकों के ख़िलाफ़ तो अत्यधिक सख़्ती से पेश आने की ज़रूरत है।

योगी आदित्यनाथ को हिदायत दी जानी चाहिए कि वो दलितों के घरों में जाने से पहले वहाँ साबुन-शैम्पू भिजवाने से बाज़ आये। इसी तरह, अपने आराम के लिए सोफ़ा-एसी वग़ैरह लगवाने की प्रवृत्ति भी बन्द होनी चाहिए। सरकार यदि वाक़ई दलितों की ख़ैरख़्वाह बनना चाहती है कि तो उसे सिविल सर्विसेज़ में दलितों के समुचित प्रतिनिधित्व को सुनिश्चित करना चाहिए और नौकरियों में आरक्षण की उनकी माँगों को पूरा करना चाहिए। लेकिन क्या मोदी सरकार ने ऐसा करके दिखाने का साहस है? दिखावेबाज़ी और सच्ची हमदर्दी, एक साथ नहीं चल सकते। कारोबार की दुनिया में जो ब्रॉन्ड अपनी छवि पर ख़रा नहीं उतरता है, वो नष्ट हो जाता है। हमें राष्ट्रपति के सर्वोच्च पद को किसी खोखली ब्रॉन्डिंग के हवाले करने से बचना चाहिए। देश के लिए ये बहुत ख़तरनाक़ साबित होगा।

kapil_sibal

By : Kapil Sibal

[अख़बार इंडियन एक्सप्रेस से साभार। लेखक एक वरिष्ठ काँग्रेस नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री हैं]

चुनाव

कर्नाटक चुनाव: बीजेपी ने जारी की 82 उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट

Published

on

bjp
फाइल फोटो

बीजेपी ने आगामी कर्नाटक चुनाव के लिए सोमवार को उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट जारी कर दी है। इस सूची में 82 उम्मीदवारों के नामों का ऐलान किया  गया है। बता दें कि कर्नाटक चुनाव के लिए राज्य में 12 मई को मतदान होंगे और 15 मई को नतीजे आने हैं।

WeForNews

Continue Reading

चुनाव

बिहार : नीतीश और सुशील मोदी सहित 7 प्रत्याशियों ने किया नामांकन

Published

on

Bihar

बिहार विधान परिषद की 11 सीटों के लिए अबतक 11 प्रत्याशियों ने नामांकन दाखिल किया है। नामांकन की अंतिम तिथि सोमवार को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, मंत्री मंगल पांडेय सहित कुल सात प्रत्याशियों ने अपने-अपने नामांकन दाखिल किए।

बिहार विधान परिषद में रिक्त होने वाली 11 सीटों के लिए अबतक 11 प्रत्याशियों ने ही पर्चे दाखिल किए हैं। ऐसी स्थिति में मतदान की संभावना कम है।

बिहार में सत्तारूढ़ भाजपा की ओर से सोमवार को सुशील कुमार मोदी, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय और पूर्व केंद्रीय मंत्री संजय पासवान ने नामांकन दाखिल किया, जबकि जद (यू) की ओर से पार्टी अध्यक्ष और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, रामेश्वर महतो, खालिद अनवर ने पर्चा दाखिल किया है। कांग्रेस की ओर से एकमात्र सीट के लिए प्रेमचंद्र मिश्रा ने नामांकन का पर्चा भरा।

राजद की ओर से पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी, राजद के प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे और मोहसिन कादिर तथा संतोष सुमन (पूर्व मुख्यमंत्री और हम के अध्यक्ष जीतन राम मांझी के पुत्र) ने पहले ही नामांकन का पर्चा दाखिल कर दिया है।

विधान परिषद के 10 सदस्यों का कार्यकाल छह मई को समाप्त होने के बाद ये सीटें खाली होंगी, जबकि नरेंद्र सिंह को छह जनवरी, 2016 को अयोग्य करार दिए जाने से एक सीट खाली हुई है।

नामांकन का पर्चा दाखिल करने की सोमवार को अंतिम तिथि है, जबकि मतदान की स्थिति में 26 अप्रैल को मतदान होना है। अभी तक की स्थिति के मुताबिक चुनाव की नौबत नहीं आएगी। इस प्रकार सभी उम्मीदवारों की निर्विरोध जीत लगभग तय मानी जा रही है।

WeForNews

Continue Reading

चुनाव

कर्नाटक: कांग्रेस ने जारी की 218 उम्मीदवारों की सूची

Published

on

Congress
फाइल फोटो

कर्नाटक में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए कांग्रेस ने 218 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी कर दी है। मुख्यमंत्री सिद्धारमैया चामुंडेश्वरी सीट से चुनाव लड़ेंगे। उनके बेटे यतींद्र को वरुणा विधानसभा सीट से टिकट मिला है।

 

 

 

 

इसके अलावा मल्लिकार्जुन खडगे के बेटे और मौजूदा विधायक प्रियांक खडगे को चैतपुर सीट से टिकट दिया गया है। कर्नाटक में 224 विधानसभा सीटें हैं और कांग्रेस ने पांच सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नाम का ऐलान नहीं किया है। एक सीट पर एंग्लो-इंडियन उम्मीदवार का मनोनयन किया जाएगा।

कांग्रेस ने जिन सीटों पर उम्मीदवारों का ऐलान नहीं किया है, उनमें सिंगडी, नागथन, मेलूकोटे, कित्तूर, रायचूर और शांतिनगर सीटें शामिल हैं। बता दें कि 224 विधानसभा सीटों वाले इस राज्य में 12 मई को वोटिंग हैं। नतीजे 15 मई को आएंगे।

WeForNews

Continue Reading
Advertisement
malika-rajput
राजनीति16 mins ago

इज्‍जत का खतरा बता अभिनेत्री ने छोड़ी बीजेपी

sanjay partil
राजनीति18 mins ago

कर्नाटक चुनाव: बीजेपी नेता के जहरीले बोल- राम मंदिर चाहिए तो भाजपा और बाबरी मस्जिद तो कांग्रेस को दें वोट

rajkumar__rao_
मनोरंजन37 mins ago

‘ओमेर्टा’ को मिला ‘ए’ प्रमाणपत्र, फिल्म की रिलीज टली

mini swizerland
लाइफस्टाइल48 mins ago

भारत का मिनी स्विट्जरलैंड है कौसानी

Rakesh-Roshan
मनोरंजन53 mins ago

राकेश रोशन को मिलेगा लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड

amitabh bachchan
मनोरंजन1 hour ago

कठुआ मामले के बारे में सोचना भी डरावना : अमिताम बच्चन

surjewala
राष्ट्रीय1 hour ago

जज लोया मौत मामले में कांग्रेस ने उठाए सवाल, की निष्‍पक्ष जांच की मांग

Manish Sisodia
शहर2 hours ago

मनीष सिसोदिया ने उपराज्यपाल को बताया ‘तानाशाह’

SC WEBSITE
राष्ट्रीय2 hours ago

सुप्रीम कोर्ट की वेबसाइट जज लोया केस में फैसला आने के कुछ देर बाद हैक!

faggan-singh-kulaste-
राजनीति2 hours ago

अध्यक्ष नहीं बनने से नाराज बीजेपी सांसद ने विधानसभा चुनाव लड़ने का किया ऐलान

reservation
राष्ट्रीय1 week ago

ओडिशा में ‘भारत बंद’ का आंशिक असर

idbi bank
राष्ट्रीय3 weeks ago

बैंक घोटालों की आई बाढ़, अब आईडीबीआई बैंक को लगा 772 करोड़ का चूना

sonia gandhi
ब्लॉग4 weeks ago

सोनिया कर पाएंगी गैर भाजपाई धड़ों को एकजुट?

Gautam Bambawale
ब्लॉग4 weeks ago

चीन के यथास्थिति में बदलाव से एक और डोकलाम संभव : भारतीय राजदूत

Skin care-
लाइफस्टाइल3 weeks ago

बदलते मौसम में इस तरह बरकरार रखें त्वचा का सौंदर्य…

लाइफस्टाइल3 weeks ago

जानिए, कौन सा रंग आपके जीवन में डालता है क्या प्रभाव…

लाइफस्टाइल3 weeks ago

अच्छे अंकों के लिए देर रात नहीं करें पढ़ाई

parliament
चुनाव4 weeks ago

राज्यसभा चुनाव: यूपी में बीजेपी को 9 और सपा को मिली 1 सीट, अन्य राज्यों में रहा ये हाल…

car
शहर4 weeks ago

तमिलनाडु: बीजेपी दफ्तर के सामने जिला सचिव की कार पर पेट्रोल बम से हमला

sensex
व्यापार2 weeks ago

शेयर बाजार में तेजी, सेंसेक्स 115 अंक ऊपर

neha kkar-
मनोरंजन1 day ago

नेहा कक्कड़ ने बॉयफ्रेंड हिमांश कोहली को बनाया ‘हमसफर’, देखें वीडियो

Modi
राष्ट्रीय5 days ago

PM मोदी ने आदिवासी महिला को पहनाई चप्पल

-alia-bhat
मनोरंजन1 week ago

आलिया भट्ट की फिल्म ‘Raazi’ का ट्रेलर रिलीज

Delhi
शहर1 week ago

दिल्ली-एनसीआर में हुई बारिश, मौसम हुआ सुहाना

राजनीति2 weeks ago

गुजरात: प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एक शख्स ने रामदास अठावले पर फेंका काला कपड़ा

शहर2 weeks ago

बिना इंजन 15 किमी तक दौड़ती रही अहदाबाद-पुरी एक्सप्रेस, बाल-बाल बचे यात्री

Steve Smith
खेल3 weeks ago

बॉल टैंपरिंग मामला: रोते हुए स्मिथ ने मांगी माफी

gulam nabi azad
राष्ट्रीय3 weeks ago

विदाई भाषण में आजाद ने नरेश अग्रवाल पर ली चुटकी, कहा- वो ऐसे सूरज हैं, जो इधर डूबे उधर निकले

राष्ट्रीय4 weeks ago

3D एनीमेशन के जरिए मोदी सिखाएंगे योग, देखेंं वीडियो

car
शहर4 weeks ago

तमिलनाडु: बीजेपी दफ्तर के सामने जिला सचिव की कार पर पेट्रोल बम से हमला

Most Popular