Connect with us

ब्लॉग

गुजरात में साम्प्रदायिक कार्ड खेलने के लिए ही नरेन्द्र मोदी को याद आया औरंगज़ेब

Published

on

modi

आख़िरकार, नरेन्द्र मोदी ने काँग्रेस की तुलना औरंगज़ेब से कर ही दी। 4 दिसम्बर को मोदी ने गुजरात के धरमपुर की चुनावी रैली में कहा, ‘जहाँगीर की जगह जब शाहजहाँ आये, क्या तब इलेक्शन हुआ था? शाहजहाँ की जगह जब औरंगज़ेब आये, क्या तब कोई इलेक्शन हुआ था? बादशाह हैं, उनकी औलाद को ही सत्ता मिलेगी। ये औरंगज़ेब राज उनको मुबारक़!’ लगता है, बड़बोले मोदी ने अपना ये वाहियात बयान पहले से तैयार कर रखा था।

मोदी ने जिन वंशवादी मुस्लिम शासकों जहाँगीर और शाहजहाँ का नाम लिया, उनकी छवि इंसाफ़-पसन्द और कुशल-प्रशासक की रही है। वैसे तो ये गुण औरंगज़ेब में भी थे। लेकिन अपनी धार्मिक असहिष्णुता की नीति की वजह से इतिहास में औरंगज़ेब की छवि एक क्रूर शासक की बनी। ख़ासकर, इसलिए भी, क्योंकि उसके बाप-दादा-परदादा का इक़बाल उदार और समावेशी मुस्लिम शासकों का था। हिन्दुओं पर धार्मिक टैक्स ‘जजिया’ लगाकर औरंगज़ेब ने ख़ूब बदनामी बटोरी। सत्ता संघर्ष की ख़ातिर अपने पिता को क़ैद करने और भाईयों को मौत के घाट उतारने के लिए भी वो कुख़्यात रहा। हालाँकि, प्राचीन हिन्दू शासक अशोक महान ने भी अपने पिता जरासन्ध की हत्या करके सत्ता हथियाई थी, तो मध्यकाल में दर्जनों हिन्दू-मुसलिम राजवंशों में भी क़रीबी रिश्तेदारों ने बग़ावतबाज़ी की थी। लेकिन संघियों को हिन्दू अशोक की महत्वाकांक्षा जहाँ स्वाभाविक लगती है, वहीं औरंगज़ेब जैसे मुस्लिम शासकों के मामले में उसका रवैया बिल्कुल उल्टा रहा है। इतना ही नहीं, देश में असंख्य हिन्दू राजवंश भी रहे हैं, लेकिन वंशवाद को कोसने ने लिए मोदी ने इरादतन हिन्दू राजाओं का ज़िक्र नहीं करके, मुसलिम औरंगज़ेब की ही बात की। ये पूरी तरह से सियासी दाँव है। इसका मक़सद साम्प्रदायिक नफ़रत को फ़ैलाना है, ताकि गुजरात की बिगड़ी हवा में बीजेपी के लिए कुछ फ़ायदा बटोरा जा सके।

मुग़लिया इतिहास में औरंगज़ेब को रावण की तरह सबसे घटिया स्थान मिला। वो बात अलग है कि सीता रूपी नारी की इज़्ज़त से खेलने वाले करोड़ों लुच्चे-लफ़ंगे रूपी रावण आज भी हमें ग़ली-ग़ली में दिखते रहते हैं। लेकिन जनता को इनमें उस रावण का अक्स नहीं दिखायी देता, जिसका हरेक दशहरे पर तमाम पाखंडों के साथ दहन किया जाता है! वो रावण, विद्वान, शिवभक्त और ब्राह्मण था। सीता के प्रति उसके बर्ताव ने उसे बुराई का सबसे बड़ा प्रतीक बना दिया। उसी तरह, क्रूरता और असहिष्णुता का सर्वोच्च तमग़ा, औरंगज़ेब के ख़ाते में आया। रावण की तरह औरंगजेब की ख़ूबियाँ भी उसे कोई सम्मान नहीं दिला सकीं। मसलन, औरंगज़ेब बहुत साधारण जीवन जीता था। वो सरकारी ख़जाने की एक पाई का भी निजी इस्तेमाल नहीं करता था। अपनी निजी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए औरंगज़ेब छिपकर जालीदार टोपियाँ बनाता था। फिर उन टोपियों को भेष-बदलकर ज़ायरीनों को बेचता था। इससे होने वाली कमाई से ही वो अपना निजी ख़र्च चलाता था। यही नहीं, मुग़ल परम्परा से उलट औरंगज़ेब की ख़्वाहिश थी कि उसे खुले आकाश के नीचे ही दफ़नाया जाए और उसका कोई मक़बरा वगैरह नहीं बने। ऐसा ही हुआ भी।

उसी औरंगज़ेब की कट्टर मुसलमान वाली छवि को नरेन्द्र मोदी ने बहुत चतुराई से राहुल गाँधी और काँग्रेस पर चस्पाँ किया है। ऐसा करके वो काँग्रेस की कथित हिन्दू विरोधी और मुसलिम-परस्त छवि को हवा देना चाहते हैं। ताकि, ‘संघी ट्रोल’ तरह-तरह का जहर उगलकर उनके मंसूबों को पूरा करते रहें। गुजरात चुनाव को देखते हुए संघ-बीजेपी की यही सोच धार्मिक ध्रुवीकरण को उकसाने के लिए उपयोगी साबित हो सकती है। लेकिन किसी भी क़ीमत पर चुनावी जंग को जीतने के लक्ष्य की वजह से प्रधानमंत्री को इस बात का कोई अख़्तियार नहीं हो सकता कि वो अपने प्रतिद्वन्दी का चरित्रहनन करने के लिए किसी भी सीमा को पार कर जाएँ।

मोदी का बयान राजनीतिक शिष्टाचार के भी सर्वथा ख़िलाफ़ है। काँग्रेस पार्टी के गौरवशाली इतिहास पर वंशवाद की आड़ में ‘औरंगज़ेब-राज’ की कालिख़ पोतना भी उम्दा शील-स्वभाव का प्रतीक नहीं हो सकता। आने वाले दिनों में यही गन्दगी कई और रूपों में दिखायी देगी, क्योंकि जब प्रधानमंत्री अपने विरोधी के लिए अशिष्ट शब्दावली अपनाएँगे तो उनकी पार्टी के बाक़ी नेता तो उनसे भी चार क़दम आगे निकलने की कोशिश करेंगे। लिहाज़ा, आने वाले दिनों में और सिरफिरे तथा जहरीले बयान सुनने के लिए तैयार रहिए!

संघियों को अपने विरोधियों के चरित्रहनन का चस्का इन्दिरा गाँधी के ज़माने में लगा। इन्दिरा का चरित्रहनन करने के लिए संघियों ने उन्हें वंशवादी कहना शुरू किया। हालाँकि, नेहरू और शास्त्री के ज़माने में काँग्रेस के अलग-अलग लोग अध्यक्ष बने। तब काँग्रेस का सांगठनिक ढाँचा तमाम क्षेत्रीय क्षत्रपों के इक़बाल से मिलकर बनता था। हालाँकि, आगामी पीढ़ियों में ये बदलता चला गया। ये भी जगज़ाहिर सच है कि महात्मा गाँधी, सरदार बल्लभभाई पटेल, भीम राव आम्बेडकर, लाल बहादुर शास्त्री, सुभाष चन्द्र बोस, राजेन्द्र प्रसाद वग़ैरह की तरह जवाहर लाल नेहरू ने भी अपने जीते-जी अपनी सन्तानों को पिता के नाम पर राजनीति चमकाने पर मौक़ा नहीं दिया। वो भी तब जबकि इन सभी नेताओं की सन्तानों ने भी आज़ादी की लड़ाई में बढ़चढ़कर हिस्सा लिया था।

नेहरू के ज़िन्दा रहते इन्दिरा सक्रिय राजनीति में आना चाहती थीं लेकिन नेहरू ने उन्हें टिकट नहीं पाने दिया। यही हाल सरदार पटेल की बेटी-बेटे का भी था। पटेल के निधन के बाद नेहरू ने उनकी सन्तानों को सांसद बनवाया। लाल बहादुर शास्त्री के आकस्मिक निधन के बाद, काँग्रेस के संगठन पर क़ाबिज़ कद्दावर नेताओं ने ‘गूंगी गुड़िया’ इन्दिरा गाँधी को प्रधानमंत्री बनवा दिया। लेकिन सरकार के काम में संगठन की दख़लंदाज़ी को लेकर इन्दिरा की अपने ही नेताओं से दूरी बनती गयी। ये कटुता इतनी बढ़ी कि 1969 में इन्दिरा को काँग्रेस से निकाल भी दिया गया।

1971 के चुनाव में इन्दिरा सबसे बड़ी नेता बनकर उभरीं। लेकिन 1977 में जनता पार्टी से मिली क़रारी शिकस्त के बाद एक बार फिर उनकी पार्टी ने उनसे दामन छुड़ा लिया। फिर 1980 में इन्दिरा गाँधी पुनर्जीवित होकर सत्ता में लौटीं। तब तक राजनीति में विचारधारा और वफ़ादारी कई करवटें ले चुकी थी। तब काँग्रेस ऐसी पार्टी बन गयी जिसकी इन्दिरा, सिर्फ़ आलाक़मान ही नहीं बल्कि सर्वे-सर्वा थीं। 1984 में इन्दिरा गाँधी की हत्या तक काँग्रेस ने तरह-तरह के परिवर्तन देखे। इसीलिए उनकी मृत्यु के वक़्त उनके इर्द-गिर्द रहने वाले वफ़ादारों ने राजीव गाँधी को उनका उत्तराधिकारी बना दिया।

इस वंशवादी उत्तराधिकार की सबसे बड़ी वजह ये थी कि इन्दिरा काल में ही भारतीय राजनीति को करिश्माई नेताओं के पीछे चलने की लत लग चुकी थी। इसीलिए वफ़ादारों ने राजीव को ऐसे नेता के रूप में स्थापित किया जिसमें नेहरू और इन्दिरा का असली अक्स हो। राजीव के काँग्रेस अध्यक्ष और प्रधानमंत्री बनते ही संघियों ने वंशवाद के पुराने ढोल को और ज़ोर-ज़ोर से पीटना शुरू कर दिया। वही सिलसिला आज तक बदस्तूर ज़ारी है। मज़े की बात ये है कि इन्दिरा-राजीव के दौर में ही बीजेपी और कम्युनिस्टों को छोड़ देश की हरेक छोटी-बड़ी पार्टी में वंशवादी प्रवृत्ति स्थापित हो चुकी थी। यही ढर्रा आज भी है।

वंशवाद को लेकर संघ-बीजेपी हमेशा मुखर रहे हैं। हालाँकि, भगवा ख़ानदान में भी बाप की विरासत को भुनाने की प्रथा अब अच्छी तरह से स्थापित हो चुकी है। तकनीकी रूप से इसमें कोई बुराई नहीं है। भारतीय जनमानस ने भी वंशवाद को कभी ख़राब नहीं माना। बशर्ते, वंशवादी वारिसों में जनसमर्थन पाने का माद्दा हो। आज़ादी के बाद से अब तक हज़ारों मंत्रियों ने अपनी औलादों को राजनीति में आगे बढ़ाने की कोशिश की। लेकिन कामयाबी सिर्फ़ मुट्ठी भर नेताओं की औलादों के ही हाथ लगी। जनता ने हर नेता के बेटे-बेटी को पसन्द नहीं किया। बहुत सारी नेता-संतति धूल-धूसरित हो गयी और आगे भी होती रहेगी।

लोकतंत्र में माँ-बाप की वजह से किसी की पहचान बनना तो आसान है, लेकिन उसे भी चुनाव और जनता की कसौटी पर ख़रा तो उतरना ही होगा। अभी राहुल गाँधी, काँग्रेस अध्यक्ष बने। लेकिन उनका दबदबा अनन्तकाल तक नहीं रह सकता। राहुल भी तब तक ही सहूलियत से शीर्ष पर रह पाएँगे, जब तक उनमें अपने उम्मीदवारों को जिताने की क्षमता दिखायी देती रहेगी। राजीव और सोनिया को भी ऐसी ही अग्निपरीक्षा से गुज़रना पड़ा था। राहुल भी इससे बच नहीं सकते। हाँ, इतना ज़रूर है कि गाँधी परिवार के वारिसों को नरसिम्हा राव और सीता राम केसरी जैसे परिवार के बाहर के नेताओं के मुक़ाबले कहीं ज़्यादा मौके मिलते रहेंगे! इसे वंशवाद की वजह से हासिल विशेषाधिकार की तरह देखा जा सकता है। लेकिन यदि काँग्रेसी, राहुल गाँधी को अपना नेता मानने को तैयार हैं, तो इसके लिए बीजेपी के पेट में दर्द क्यों होना चाहिए? अरे संधियों, जैसे तुम्हें अपना संघ-परिवार पसन्द है, वैसे ही काँग्रेसियों को उनका गाँधी-परिवार प्रिय है! तो फिर परिवारवाद के नाम पर विधवा-विलाप क्यों?

दरअसल, बीजेपी चाहे जितना ढोल पीटे कि उसने ‘काँग्रेस मुक्त भारत’ बना दिया है। लेकिन संघ-बीजेपी को भी अच्छी तरह से पता है कि वो काँग्रेसियों की तरह सबको साथ लेकर राज करने का कौशल नहीं रखते। उन्हें अपने अस्तित्व के लिए साम्प्रदायिक उन्माद का सहारा लेना ही पड़ेगा। यदि साम्प्रदायिकता की भट्ठी नहीं धधकेगी तो बीजेपी का वज़ूद ही ख़तरे में पड़ जाएगा। इन्दिरा, राजीव और सोनिया काल के कटु अनुभवों से बीजेपी बख़ूबी जानती है कि देश में सिर्फ़ काँग्रेस और गाँधी परिवार में उसके वर्चस्व को ख़त्म करने का दमख़म है। क्योंकि काँग्रेस चाहे जितनी कमज़ोर दिखती हो, देश भर में इसकी जड़ें सबसे गहरी हैं। इसीलिए चरित्रहनन रूपी संघियों की चिर-परिचित तोप का मुँह फ़िलहाल राहुल गाँधी की तरफ़ है। इसीलिए उन्हें ‘पप्पू’ बनाकर वैसे ही पेश किया जाता है, जैसे सोनिया गाँधी को विदेशी और राजीव को अनाड़ी बनाकर पेश किया गया था। इसी साज़िश  के तहत, मनमोहन सिंह जैसे दक्ष नेता को भी कभी गूँगा, तो कभी दस जनपथ का तनख़्यया, तो कभी रबर स्टैम्प, तो कभी मुखौटा और कभी ‘नमूना’ कहा जाता है।

संघियों की ओर से ढोल पीटा जाता है कि नरेन्द्र मोदी की कोई औलाद नहीं है तो वो किसके लिए भ्रष्टाचार करेंगे। यह दुर्भावनापूर्ण दुष्प्रचार है। मनमोहन सिंह, दस साल प्रधानमंत्री रहे। क्या कभी उन पर अपना घर भर लेने का लाँछन लगा? उनकी सरकार पर असंख्य आरोप लगे। लेकिन कितने साबित हुए? कितनों आरोपियों को, 42 महीने से सत्ता पर क़ाबिज़ मोदी सरकार ने सलाखों के पीछे पहुँचाया? यदि मोदी ऐसा नहीं कर सके, तो क्यों? कहीं ऐसा तो नहीं कि वो झूठे आरोपों को ही हवा देकर अपना सियासी उल्लू सीधा करते रहने में ही अपनी भलाई समझ रहे हैं!

लोकतंत्र के लिए ये बेहद दुर्भाग्यपूर्ण दशा है कि चुनाव के नतीज़ों को जाँच-मुकदमा और कोर्ट-कचहरी के विकल्प की तरह पेश किया जाता है। हरेक पार्टी ऐसा करती है। इसीलिए नेताओं से जुड़े आपराधिक मामलों को बिल्कुल अलग ढंग से देखना ज़रूरी है। दुर्भाग्यवश, मोदी सरकार ने भी इस लिहाज़ से बयानबाज़ी के सिवाय और कुछ नहीं किया। मज़े की बात ये भी है कि जिन लोगों ने काँग्रेसियों पर भ्रष्टाचार के असंख्य आरोप लगाये, आज वो भी आरोपों के कठघरे में ही खड़े हैं। जय अमित शाह, शौर्य डोभाल, अभिषेक सिंह (रमन सिंह का बेटा) जैसे दर्जनों भगवा नेताओं और उनकी सन्तानों पर गम्भीर आरोप हैं। कीर्ति आज़ाद ने अरूण जेटली पर कोई मामूली आरोप नहीं लगाया था। नितिन गडकरी, राजनाथ सिंह, सुषमा स्वराज, पीयूष गोयल जैसे तमाम नेताओं पर भी गम्भीर आरोप हैं। लेकिन यदि जाँच नहीं होगी, लोकपाल नहीं बनेगा तो सभी सत्यवादी बनकर ही मौज़ करेंगे। इसीलिए कोई नहीं जानता कि सरकार में बैठे ‘कलाकारों’ की जाँच कब होगी, कैसे होगी और उसका अंज़ाम क्या निकलेगा?  भ्रष्टाचार और वंशवादी डीएनए का दबदबा भगवा ख़ानदान में भी कोई कम नहीं है। तमाम बड़े नेताओं की औलादें बाप की हैसियत की वजह से मज़े लूट रही हैं। शीशे के घर में बैठकर औरों पर पत्थर फेंकना संघ-बीजेपी का पैदाइशी शग़ल रहा है!

Blog

लोकतंत्र से बची है भारत की राजनीतिक अस्मिता

Published

on

democracy

भारत में विरोध और किसी न किसी हिस्से में लगातार दंगे-फसाद के बावजूद देश की एक राजनीतिक सत्ता क्यों बरकरार है? एक शब्द में उत्तर है, लोकतंत्र।

भारत में लोकतंत्र का प्रयोग अप्रतिम रहा है। यह न सिर्फ निर्वाचक वर्ग के आकार और राजनीतिक दलों की संख्या को लेकर है, बल्कि यह उपयोगी बन गया है और इसका भारतीयकरण हो चुका है। संसदीय लोकतंत्र का वेस्टमिन्स्टर मॉडल रायसीना मॉडल में परिवर्तित हो गया है। चुनाव प्रक्रिया व वोट बैंकों के जरिये सुधार लाकर सामाजिक समता का लक्ष्य का हासिल किया गया न कि प्रत्यक्ष व एकपक्षीय शासनात्मक कार्रवाई की गई, जोकि इतिहास में आमतौर पर देखने को मिलता है। मिसाल के तौर पर तुकी के राष्ट्रपति कमाल अतातुर्क ने अपने कार्यकाल में तुर्की में सुधार लाया था।

प्राचीन भारत में लोकतंत्र के अस्तित्व का कोई प्रमाण नहीं है। आज के उत्तर प्रदेश और बिहार के कुछ हिस्सों में उस समय गणतंत्र थे। उन राज्यों में कोई राजा नहीं, बल्कि शासक हुआ करते थे, जोकि एक प्रकार का कुलीनतंत्र था। वहां सारी जनता शासकों को नहीं चुनती थी।

वाकई वर्गीकृत सामाजिक व्यवस्था में शासकों के चुनाव का समान अधिकार का विचार अनोखा होगा। वे राजतंत्र के बजाय कुलीन तंत्र और लोकतंत्र के बजाय गणतंत्र थे। पचायतों में भी, चाहे वह किसी जाति की पंचायत हो या फिर गांव की, वृद्ध एवं ज्यादा शक्तिशाली आदमी पंच होते थे। आज हम वैसा ही खाप पंचायतों में देखते हैं। खाप पंचायतें एक जाति के बुजुर्गो व श्रेष्ठ लोगों की कमेटियां हैं जो उस जाति के सदस्यों के अच्छे व्यवहार के दस्तूर तय करती हैं। लोकतंत्र गंणतंत्रवाद से बिल्कुल अलग है। ग्रेट ब्रिटेन गणतंत्र होने के बावजूद एक लोकतंत्र है।

संविधानसभा के सदस्यों का सबसे विलक्षण कार्य सर्वजनीन वयस्क मताधिकार प्रदान करने का फैसला था। सदस्य खुद भी एक निर्वाचक मंडल के जरिये चुने गए थे, जो बहुत ज्यादा प्रतिबंधित था। सर्वजनीन वयस्क मताधिकार के विरुद्ध कई दलीलें दी गईं।

उदारण के तौर पर निरक्षरता, क्योंकि स्वतंत्रता के समय भारत में महज 12 फीसदी लोग ही साक्षर थे। वर्तमान में देश की साक्षरता दर 75 फीसदी है। इसके अलावा 1947 तक पूरी दुनिया में कुछ ही देशों ने महिलाओं को वोट देने का अधिकार दिया था। यूके में 1928 में महिलाओं को पूरा मताधिकार प्रदान किया गया था, जबकि फ्रांस में 1946 में दिया गया। भारत ने शीघ्र ही महिलाओं को मताधिकार प्रदान किया, जबकि इससे पहले उनके पास कोई तजुर्बा नहीं था।

उच्च या निम्न जाति, सवर्ण और दलित, आदिवासी देश के सभी नागरिकों को वयस्क होने पर मताधिकार प्रदान किया गया। रामराज्य की पुरानपंथी कल्पना में कभी ऐसी समानता को स्वीकृति नहीं दी गई होगी। यह एक बड़ा समतावादी कदम था।

पूर्ण वयस्क मताधिकार के साथ लोकतंत्र को तरजीह देना कोई एक हादसा नहीं था। आधिकारिक सुधारों में मताधिकार को प्रतिबंधित रखा गया था। लेकिन 1921 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का अध्यक्ष बनने के बाद महात्मा गांधी ने इस पार्टी को विशिष्ट वर्गो की पार्टी से बदलकर जनसामान्य की पार्टी बना दी थी। उनके संचालन में कांग्रेस ने स्थानीय स्तर पर पार्टी के सभी सदस्यों को उच्च पदों पर अपने प्रतिनिधि चुनने के लिए वोट डालने का अधिकार प्रदान किया था। कांग्रेस ने अपने सदस्यों से को चार आना यानी 24 पैसे की सदस्यता शुल्क लेकर उन्हें वयस्क मताधिकार प्रदान किया था। जाहिर है कि जब कांग्रेस सत्ता में आई तो यह (वयस्क मताधिकार) सबको प्रदान किया गया।

दूसरा कारक भी था, जिसे स्वतंत्रता आंदोलन के इतिहास में कम महत्व दिया गया। यह राजनीतिक दलों के नेताओं अनुभव था, जो उन्होंने आधिकारिक विधानमंडलों में हिस्सा लेने से प्राप्त किया था। उनमें गोपाल कृष्ण गोखले, सर श्रीनिवास शास्त्री, चित्तरंजन दास, मोतीलाल नेहरू, तेज बहादुर सप्रू और विट्ठलभाई पटेल जैसे अनुभवी व संसदीय मामलों में दक्ष व्यक्ति थे।

निर्वाचक वर्ग छोटे थे और चयनित भारतीय लोगों के पास कम शक्ति थी। एजेंडा कार्यकारिणी के नियंत्रण में होता था (जो स्वतंत्र भारत में अभी भी बरकरार है)। लेकिन संसदीय कार्य में हिस्से लेने वाले नेताओं ने विधेयक बनाने, पास करने, बजट पर बहस करने जैसे और भी कई प्रकार की जानकारी हासिल की थी। स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान 1921 में संवैधानिक व आंदोलनकारी पक्षों के बीच अल्पकालिक बिखराब हुआ था, जब गांधी ने अहसयोग का आह्वान किया और 1937 में कांग्रेस ने विधानमंडल में हिस्सा लिया था।

उस दौरान कांग्रेस नेता सी. आर. दास और मोतीलाल नेहरू ने स्वराज पार्टी का गठन करने के बाद निर्वाचन में हिस्सा लिया था। दरअसल, स्वतंत्रता प्राप्त के समय अनेक नेता संसदीय मामलों में अनुभवी हो गए थे। जैसे हर बिलास सारडा ने अधिनियम पार करवाकर समाजिक सुधार का लक्ष्य हासिल किया था। सारडा विधेयक केंद्रीय विधानसभा में 1927 में प्रस्तुत किया गया था और उसे 1929 में पास किया गया, जिसके माध्यम से बाल विवाह पर रोक लगाई गई। भारत ब्रिटिश संसदीय लोकतंत्र को अपनाने के लिए तैयार था।

(लेखक प्रख्यात बुद्धिजीवी, अर्थशास्त्र के प्रोफेसर और 1971 से ब्रिटिश लेबर पार्टी के सदस्य हैं। पेंगुइन रैंडम हाउस इंडिया की अनुमति से देसाई की पुस्तक ‘द रायसीना मॉडल’ का अंश)

Continue Reading

ब्लॉग

भारतीय राजनीति की सबसे बड़ी समस्या: तुम करो तो रासलीला, हम करें तो कैरेक्टर ढीला!

Published

on

Modi Aiyer

जिन लोगों ने भारत को आज़ाद करवाने के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर कर दिया, उन्होंने सपने में भी नहीं सोचा होगा कि आज़ादी के महज 70 साल बाद ही उनके वंशजों की राजनीति का सबसे बड़ा सूक्ति वाक्य होगा, ‘तुम करो तो रासलीला, हम करें तो कैरेक्टर ढीला!’ इसे ही शायर अकबर इलाहाबादी (1846-1921) ने कहा कि ‘वो क़त्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होती, हम आह भी भरते हैं तो हो जाते हैं बदनाम!’ दरअसल, भारतीय राजनीति अब बात का बतंगड़ बनाने की सारे सीमाएँ तोड़ चुकी है।

प्रधानमंत्री को ‘नीच’ कहा गया, लेकिन उन्होंने उसे ‘नीच कुल’ बना दिया। मणि शंकर अय्यर के बयान से मोदी इतनी बुरी तरह आहत हुए कि वो गुजरात की जनता के आगे वैसे ही सुबकते हुए अपनी चोट दिखाने लगे जैसे कोई छोटा बच्चे रोते हुए अपने भाई-बहनों या संगी-साथी से झगड़े की शिकायतें परिवार के बड़ों से करता है! इसकी पृष्ठभूमि वो झुझलाहट है जो मोदी को गुजरात के चुनावी माहौल में झेलनी पड़ रही है। इसीलिए चुनावी रैली में मोदी कहते हैं कि ‘श्रीमान मणिशंकर अय्यर ने आज कहा कि मोदी नीच है। मोदी नीच जाति का है। क्या यही भारत की महान परम्परा है? ये गुजरात का अपमान है। मुझे तो मौत का सौदागर तक कहा जा चुका है। गुजरात की सन्तानें इस तरह की भाषा का तब जवाब दे देगी, जब चुनाव के दौरान कमल का बटन दबेगा। मुझे भले ही नीच कहा है। लेकिन आप लोग अपनी गरिमा मत छोड़िएगा।’

मोदी का ये बयान एक-पक्षीय है। उनकी पार्टी का प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा, जहाँ उन्हीं के नक्शे-क़दम पर चलते हुए टीवी कैमरे के सामने भावुकता के आँसू बहाता नज़र आता है, वहीं इसी शख़्स को काँग्रेस और राहुल गाँधी को ‘बाबर भक्त’ और ‘ख़िलज़ी के रिश्तेदार’ कहते शर्म नहीं आयी। अभी-अभी गुजरात में ही राहुल को ढोंगी हिन्दू, नकली जनेऊधारी कहने वालों को क्या नरेन्द्र मोदी ने लताड़ लगायी? मोदी ये करते कैसे! वो तो ख़ुद अव्वल दर्जे के बड़बोले हैं। उन्होंने राहुल के शिव-भक्त होने पर चटकारें लीं। काँग्रेस के संगठन चुनाव और राहुल गाँधी के नामांकन को ‘औरंगज़ेब राज’ कहा। ये मोदी ही थे जिन्होंने शशि थरूर की पत्नी को 50 करोड़ की गर्लफ्रेंड कहा था।

अभी-अभी केन्द्रीय खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने काँग्रेस पार्टी को ‘ईस्ट इंडिया कम्पनी’ कह डाला। इससे पहले सोनिया गाँधी को विदेशी, इटालियन जैसी कितनी ही बातें संघियों ने बोली। सुषमा स्वराज ने भी 2004 में अपना सिर मुड़ाने की धमकी दी थी। अभी-अभी अमित शाह ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को ‘नमूना’ कहा। उन्हें देहाती औरत, मौनी बाबा, नपुसंक, साला, नामर्द वग़ैरह कितने ही विशेषणों से यही संघी नवाज़ चुके हैं। अमित शाह ने ही महात्मा गाँधी के लिए ‘चतुर बनिया’ जैसे बाज़ारू शब्दों का इस्तेमाल किया। तब भगवा ख़ानदान के बुज़ुर्गों और संस्कारी लोगों ने अपने चेले-चपाटियों को भाषायी संयम के उपदेश क्यों नहीं दिये? सच्चाई ये है कि संघियों के गन्दे बोल ने भारतीय राजनीति से सौहार्द ख़त्म कर दिया।

ऐसा भी नहीं है कि बीजेपी के छुटभैय्ये नेताओं के अंटशंट बयान को काँग्रेसी नेताओं की ओर से प्रतिक्रियात्मक जबाव नहीं मिला। गुजरात दंगों पर जिस तरह से लीपापोती की गयी उसे देखते हुए नरेन्द्र मोदी को ‘मौत का सौदागर’ कहा गया। 2014 के चुनाव से पहले मणिशंकर अय्यर ने कहा था कि ‘मोदी चुनाव नहीं जीतने वाले। अलबत्ता, वो चाहें तो यहाँ काँग्रेस के अधिवेशन में आकर चाय ज़रूर बेच सकते हैं।’ इस बयान को तोड़मरोड़कर मोदी ने ख़ुद को ‘चायवाला’ बना लिया। अभी गुजरात की रैली में ही मोदी ने मणिशंकर अय्यर के हमले का जबाव देते हुए कहा कि ‘उनमें मुग़लों के संस्कार हैं। इसलिए वह इस तरह की बातें करते हैं। देश के पीएम के लिए ऐसे शब्द सिर्फ़ ऐसा ही व्यक्ति कह सकता है, जिसके संस्कारों में खोट हो।’ यहाँ मोदी ने अय्यर के संस्कारों पर हमला किया वो तो ठीक है, लेकिन उन्हें मुग़लों के संस्कार वाला बताने की क्या ज़रूरत थी?

यहाँ ये भी समझना बहुत ज़रूरी है कि आख़िर मणिशंकर अय्यर ने ऐसा क्या कहा था कि उन्हें राहुल गाँधी के दख़ल के बाद माफ़ी भी माँगनी पड़ी  और 75 साल की उम्र में पार्टी से निलम्बित होने की सज़ा भी मिली। अय्यर ने कहा था कि ‘मोदी को गाँधी परिवार के बारे में उस वक़्त ऐसी गन्दी बातें करने की क्या ज़रूरत थी जब दिल्ली में आम्बेडकर की याद में एक बड़े भवन का शुभारम्भ हो रहा है। इससे तो मुझे लगता है कि ये (मोदी) बहुत नीच किस्म का आदमी है। इसमें कोई सभ्यता नहीं है। ऐसे मौके पर ऐसी गन्दी राजनीति की क्या आवश्यकता है?’ यहाँ ये जानना भी दिलचस्प है कि ‘नीच’ स्वभाव को ज़ाहिर करने के लिए शब्दकोष में दर्जनों समानार्थी शब्द हैं। अँग्रेज़ी में तो इसके लिए कम से कम 74 शब्द हैं, जिन्हें इस लेख में अन्त में दिया भी गया है।

इससे पहले समारोह में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जवाहर लाल नेहरू पर भीमराव आम्बेडकर के साथ पक्षपात करने और उनकी भूमिका को कम करके दिखाने का आरोप मढ़े थे। उससे पहले मोदी ने सरदार पटेल और सुभाष चन्द्र बोस जैसे काँग्रेस के बड़े नेताओं को लेकर भी ख़ूब झूठी बातें की हैं। सच तो ये भी है कि संघ-बीजेपी के नेताओं की एक स्थायी नीति रही है ‘विरोधियों का चरित्रहनन’ करने की। बीजेपी के कुछ नेताओं ख़ासकर साक्षी महाराज, गिरिराज सिंह और विनय कटियार जैसे लोगों की तो पहचान की सिर्फ़ बिगड़े बोलों की वजह से है। संघ-बीजेपी के लिए सैकड़ों लोगों को बाक़ायदा ग़ालियाँ और अपशब्द लिखने के लिए भर्ती किया गया है। इनका काम ही है ‘विरोधियों का चरित्रहनन करना’ और उसे सोशल मीडिया पर फैलाना।

समाज में भी अब ऐसा नहीं रहा कि आप किसी को अपशब्द बोलेंगे और उससे प्रतिक्रिया नहीं मिलेगी। कभी ‘ग़ाली’ का जबाव ‘बड़ी ग़ाली’ बनता है, तो कभी ग़ाली-गलौज़ की वजह से ही मारपीट की नौबत आ जाती है। लगातार लोगों के दिमाग़ में जहर भरने से एक उन्मादी फ़ौज तैयार हो जाती है, जो ज़रा सा इशारा मिलने ही साम्प्रदायिक दंगों को जन्म देती है। ज़रूरत पड़ने पर इसी उन्मादी मानसिकता से वो कारसेवक पैदा होते हैं, जो कुछ ही घंटों में बाबरी मस्जिद को नेस्तनाबूद कर देते हैं। यही मानसिकता कुछ लोगों को आतंकवाद की ओर भी ले जाती है। लगातार लोगों के दिमाग़ में ज़हर भरने के नतीज़े वैसे ही भयावह होते हैं, जैसा हमने अभी-अभी मेवाड़ के राजसमन्द ज़िले में मेवाड़ी युवक शम्भू लाला रेगर की बर्बरता के रूप में देखा है, जिसने माल्दा के 50 वर्षीय मज़बूर अफ़राज़ुल को पीट-पीटते मार जाने के बाद उस पर पेट्रोल डालकर आग लगा दी। इसीलिए राजनीति के इतने छिछोरे स्तर तक गिर जाने को यदि आप हँसी-मज़ाक या लतीफ़ेबाज़ी समझकर नज़रअन्दाज़ करना चाहते हैं, तो याद रखिए कि लोकतंत्र के लिए अमर्यादित शब्द बेहद घातक साबित हो रहे हैं। क्योंकि यदि जहरीली बयानबाज़ियाँ बन्द नहीं हुईं तो वो दिन भी दूर नहीं जब हम अपने नेताओं को एक-दूसरे के ख़ून का प्यासा बनकर हाथों में नंगी तलवार लिये घूमता देखेंगे। यदि किसी को ये लगता है कि बयान-वीरों को सुधारने का काम उनकी पार्टियाँ ही कर लेंगी तो वो मुग़ालते में है। यदि ये मुमकिन होता तो राजनीति के अपराधीकरण पर भी नकेल कस ली जाती। नेताओं को सुधारने का काम जनता को ही करना होगा। चाहे इसमें वक़्त जो भी लगे। जनता को अनर्गल बयान देने वालों से नफ़रत करना सीखना होगा। चुनाव में उन्हें हराना होगा।

Hindi to English with Synonyms

– नीच

[neech]

1. lowly: नीच, नम्र, अधीन, नीचा, अधम

2. wretched: नीच, अतिदुखी, घृणायोग्य, निकम्मा, अधम

3. low: निम्न, नीच, हल्का, सामान्य

4. cowardly: कायर, नीच

5. craven: डरपोक, नीच, उत्साहहीन

6. degenerate: भ्रष्ट, कुलाचार, अपकृष्ट, अधम, नीच

7. demiss: आत्‍म-समर्पणशील, नीच, अघम, पतित

8. execrable: घृणित, गर्हणीय, नीच, अधम

9. hang dog: कमीना, नीच, अधम

10. humble: नीच, क्षुद्र, अल्पमति, विनयशील

11. low clown: दीनहीन, नीच, कमीना

12. mingy: नीच, कमीना

13. pleb: नीच, घटिया व्यक्ति, निम्‍न वर्ग का व्‍यक्ति

14. proletarian: साधारण, नीच

15. sorry: नीच, दुःखी, शोकार्त, अधम

16. slavish: कमीना, दासवत, दास सम्बन्धी, नीच, परिश्रमी

17. sneak: नीच, अधम मनुष्य, मुखबिर, चुगलखोर

18. lousy: घटिया, गंदा, नीच, घिनावना, बीभत्स से भरपूर

– नीच

adjective

1. vile: नीच, घिनौना, नीचतापूर्ण, पाजी

2. despicable: नीच, घिनौना, कुत्सित, नफ़रत पैदा करनेवाला, तिरस्कार-योग्य

3. dishonorable: नीच, लज्जाजनक, अपमानपूर्ण, बेइज़्ज़त

4. ignoble: नीच, अकुलीन, अप्रतिष्ठित

5. sneaky: डरपोक, नीच, चापलूस, पाजी, ख़ुशामदी

6. sordid: घिनौना, नीच, पतित

7. moldy: खोटा, फफूंदी लगा हुआ, पुराने ढंग का, नीच, बुरा, पुराने फ़ैशन का

8. reprobate: नीच, पाजी, नीचतापूर्ण

9. poky: सँकरा, नीच, तंग, तुच्छ, गंदा, कम

10. miscreant: नीच, भ्रष्ट, पाजी

11. fiendish: पैशाचिक, नीच, दुष्ट

12. shabby: जर्जर, नीच, दरिद्र, कंजूस, मलीन, अन्यायी

13. mean: नीच, मध्य, तुच्छ, बीच का, मंझला, अधम

14. pitchy: नीच, रालयुक्त, राल का, रालदार, चिपचिपा, लसदार

15. sneaking: चापलूस, छिपा हुआ, नीच, पाजी, गुप्त

16. base: आधारभूत, बुनियादी, नीच, खोटा, क्षुद्र

17. villainous: शरारतपूर्ण, नीच, दुर्जनोचित, घिनौना, बुरा

18. ribald: नीच, अशिष्ट

19. dirty: गंदा, मैला, मलिन, नीच, मैली, गंदला

20. pitiful: दयापूर्ण, रहमदिल, कृपालु, दयालू, नीच, पाजी

21. ghoulish: घृणास्पद, घिनौना, शैतान का, दुष्ट, नीच, पिशाच का

22. dastardly: कायर, नीच, नीचतापूर्ण, डरपोक

23. scabby: खुजलीवाला, नीच, खुजली का, पपड़ीदार, रूखा

24. nasty: बुरा, दुष्ट, नीच, घिनौना, घृणास्पद

25. hangdog: नीच, पाजी, नीचतापूर्ण

26. picayune: छोटा, निकम्मा, नीच, पाजी, तुच्छ

27. unblooded: नीचा, नीच, अशुद्ध, अधम, ख़राब

28. scurvy: रूसीदार, पाजी, अशिष्ट, बेअदब, रक्तस्राव रोग का, नीच

29. nefarious: कुटिल, बेईमान, नीच, खोटा

30. abject: अधम, नीच

31. meanspirited: कंजूस, पाजी, लोभी, नीच, नीचतापूर्ण

32. scummy: झागदार, फेनिल, नीच, पाजी

33. paltry: तुच्छ, क्षुद्र, निकम्मा, नीच

34. shocking: भयानक, घिनौना, दिल दहलानेवाला, घृणाजनक, बीभत्स, नीच

35. unroyal: नीच

36. plebeian: लौकिक, असभ्य, नीच, अशिष्ट, सामान्य मनुष्य-संबंधी

37. bass: नीच

38. scoundrelly: नीच, अधम, पाजी, दुष्ट

39. undeveloped: अविकसित, पिछड़ा हुआ, अधकचरा, अनुन्नत, नीच

40. doggerel: खोटा, भद्दा, बेजोड़, असंगत, बेहूदा, नीच

41. rotting: पाजी, नीच, नीचतापूर्ण

42. stingy: कंजूस, नीच, मक्खीचूस, डंक मारनेवाला

43. third-rate: ख़राब, बुरा, नीच

44. dishonourable: नीच, लज्जाजनक, अपमानपूर्ण, बेइज़्ज़त

45. mouldy: खोटा, फफूंदी लगा हुआ, पुराने ढंग का, नीच, बुरा, पुराने फ़ैशन का

46. noun – नीच

47. reprobate: नीच, बदमाश, पाजी, कापुस्र्ष

48. miscreant: नीच, बदमाश, कापुस्र्ष, पाषंडी, नीच मनुष्य, विधर्मी

49. scoundrel: बदमाश, लुच्चा, दुष्ट, नीच, लफ़ंगा, दुरात्मा

50. rascal: दुष्ट, पापी, नीच, धूर्त व्यक्ति

51. rotter: बदमाश, कापुस्र्ष, पाजी, नीच

52. dog: कुत्ता, नीच, शूर, पाजी, बदमाश, लौंडा

53. pimp: दलाल, कुटना, भड़ुआ, पाजी, नीच, बदमाश

54. sycophant: चापलूस, अति अनुरोधी, चुगलखोर, नीच

55. groveller: अधम, नीच

Continue Reading

ओपिनियन

साफ़ दिख रहा है कि गुजरात की बयार देख बदहवास हो गये हैं मोदी…!

असली हिन्दू और नकली हिन्दू, हिन्दू या ग़ैर-हिन्दू जैसी फ़िज़ूल की बातों में लोगों को उलझाया जाता है। झूठ फैलाया जाता है कि सरदार पटेल और सुभाष चन्द्र बोस से नेहरू की ठनी रहती थी। इन्हें पता ही नहीं है कि उस दौर के नेताओं में मतभेदों के बावजूद साथ चलने, एक-दूसरे का आदर करने तथा सही मायने में देश को आगे रखने का बेजोड़ संस्कार था। इन्हीं संस्कारों की वजह से काँग्रेस पार्टी दशकों तक जनता की चहेती बनी रही।

Published

on

Narendra Modi

पिछले कई चुनावों की तरह गुजरात में भी नरेन्द्र मोदी ताबड़तोड़ रैलियाँ कर रहे हैं। हालाँकि, ज़मीनी स्तर पर उन्होंने साफ़ दिख रहा है कि नोटबन्दी, जीएसटी, बेरोज़गारी और महँगाई जैसी अर्थतंत्र को चौपट कर देने वाली उनकी नीतियों की वजह से उनके गृह राज्य में बीजेपी के प्रति हवा बहुत ख़िलाफ़ हो चुकी है। मोदी और उनके सहयोगी नेताओं की विशाल चांडाल-चौकड़ी भी इस हवा का रुख़ नहीं मोड़ पा रही है। इसीलिए मोदी के भाषणों में बदहवासी और खिसियाहट न सिर्फ़ साफ़ नज़र आती है। बल्कि ये इस क़दर बढ़ चुकी है जैसे गुजरात में 22 साल से काँग्रेस ही सत्ता में हो और बीजेपी उसे उखाड़ फेंकने के लिए प्राण-प्रण से जुटी है।

जगज़ाहिर रहा कि मोदी, देश के ऐसे अनोखे नेता हैं जिन्हें सवालों से अज़ीब-ओ-ग़रीब किस्म की एलर्ज़ी है। उन्हें दूसरों से सवाल पूछने में तो ख़ूब मज़ा आता है कि लेकिन दूसरों के सवालों का जबाव देना उन्हें कतई गँवारा नहीं। मोदी को गौरक्षा, बीफ़, दलित उत्पीड़न जैसे बेहद शर्मनाक और देश को झकझोर रहे मुद्दों पर त्वरित प्रतिक्रिया देना भी पसन्द नहीं है। भले ही देश उनसे अति-संवेदनशील रवैये की अपेक्षा रखता हो। इसीलिए, दिन-रात भाषण देने वाले, काँग्रेस से असंख्य सवाल पूछने के अभ्यस्त नरेन्द्र मोदी ने प्रधानमंत्री बनने के बाद कभी पत्रकारों के सवालों का सामना नहीं किया। इसके अलावा, संघ परिवार के संस्कारों के मुताबिक़, मोदी को भी अपने विरोधियों का झूठा चरित्रहनन करने में बहुत मज़ा आता है।

गुजरात की बयार को देख मोदी अब बेहद गुस्से में नॹर आते हैं। बौखलाहट, खिसियाहट, बदहवासी, बेचैनी को अब वो छिपा नहीं पा रहे। उनकी तकलीफ़ में काँग्रेस रोज़ाना नये-नये सवाल पूछकर आग में घी डाल रही है। इससे मोदी बुरी तरह से तिलमिला गये हैं। काँग्रेस ने उनसे पूछ लिया कि 2012 में उन्होंने ग़रीबों को 50 लाख नये घर बनाकर देने का वादा किया था, लेकिन पाँच साल में भी सिर्फ़ 4.72 लाख घर ही क्यों बन पाये? क्या ये गुजरात मॉडल की हक़ीक़त नहीं है! मोदी की दिक्कत ये भी है कि अब कौन उनकी ओर से गुजरातियों को बताएगा कि ‘अच्छे दिन’ और हर खाते में 15-15 लाख रुपये की तरह 50 लाख घरों को बनाने का वादा भी एक जुमला ही था! और, जनता को तो ये देखकर ही निहाल हो जाना चाहिए कि गुजरात के बेटे ने ग़रीबों के लिए 4.72 लाख घर बनवाए! 70 साल में यदि ऐसा हुआ होता तो उनके पास करने के लिए कुछ बचता ही नहीं!

दरअसल, #मोदीजी_बदहवास हो गये हैं! उन्हें समझ में आ गया है कि गुजरात का व्यापारी समाज उनके खोटे जीएसटी की वजह से बेहद ख़फ़ा है। इसीलिए वो जनता को बरगलाने के लिए बेहद मूर्खतापूर्ण दलीलें भी गढ़ लेते हैं। वो कहते हैं, ‘नमक और कार पर एक जैसा GST कैसे हो सकता है?’ ताज़्ज़ुब की बात तो ये है कि बिल्ली के गले में घंटी कौन बाँधे की तर्ज़ पर मोदी को ये कौन समझाये कि 18 रुपये प्रति किलो बिकने वाले साधारण नमक पर 18% जीएसटी होगा 3.24 रुपये। जबकि 5 करोड़ रुपये की कार पर यही टैक्स 90 लाख रुपये का होगा। लिहाज़ा, दोनों की तुलना करना ही सर्वथा बेमानी है! लेकिन मोदी यही नहीं रुके। उन्होंने जीएसटी की दर को एक समान 18% रखने की बात करने वालों को ‘ग्रांड स्टुपिड थॉट’ यानी ‘महामूर्खतापूर्ण विचार’ तक कह दिया। अब मोदी जी ये तो बताने से रहे कि क्या सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविन्द सुब्रमण्यम और उन तमाम अर्थशास्त्रियों का ये नज़रिया ‘महामूर्खतापूर्ण विचार’ कहा जा सकता है क्योंकि वो जीएसटी को अधिकतम 18 फ़ीसदी रखने की पैरोकारी करते रहे हैं?

#मोदीजी_बदहवास हो गये हैं! क्योंकि वो कहते हैं, ‘लोग जानते हैं कि काँग्रेस ने गुजरात के बेटों सरदार पटेल और मोरारजी के साथ कैसा व्यवहार किया था? उसी सोच की वजह से अब कथित तौर पर मोदी भी काँग्रेस के निशाने पर है।’ मज़े की बात ये है कि मोदी को अब ये कैसे याद रह सकता है कि भगवा ख़ानदान ने अपने ही बड़े नेताओं जैसे बलराज मधोक, लाल कृष्ण आडवाणी, गोविन्दाचार्य, यशवन्त सिन्हा, अरूण शौरी, नवजोत सिंह सिद्धू, कीर्ति आज़ाद, केशुभाई पटेल, शंकर सिंह वाघेला, सुरेश मेहता, आनन्दीबेन पटेल और शत्रुघ्न सिन्हा के साथ कैसा व्यवहार किया है, ये किससे छिपा है!

#मोदीजी_बदहवास हो गये हैं! तभी तो वो सोमनाथ मन्दिर में राहुल गाँधी के जाने से तिलमिला गये। कहने लगे, ‘आज जिन लोगों को सोमनाथ याद आ रहे हैं, इनसे एक बार पूछिए कि तुम्हें इतिहास पता है? तुम्हारे परनाना, तुम्हारे पिताजी के नाना, तुम्हारी दादी माँ के पिताजी, जो तब देश के पहले प्रधानमंत्री थे, जब सरदार पटेल सोमनाथ का उद्धार करा रहे थे। तब उनकी भौहें तन गयीं थीं। तब सरदार पटेल ने भारत के राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद को उद्घाटन के लिए सोमनाथ आने का न्योता दिया था। तब तुम्हारे परनाना पंडित जवाहर लाल नेहरू ने डॉ. राजेन्द्र प्रसाद को पत्र लिखकर सोमनाथ मन्दिर के कार्यक्रम में जाने पर नाराज़गी व्यक्त की थी।’

सोमनाथ मन्दिर से जुड़ा ये प्रसंग तो सही है। लेकिन मोदी ने इसका निहायत भ्रष्ट ब्यौरा दिया है। 2 मार्च 1951 को नेहरू ने राजेन्द्र प्रसाद को भेजे अपने ख़त में लिखा है कि जनता के चन्दे से हुए सोमनाथ मन्दिर के जीर्णोद्धार के लिए पटेल या राष्ट्रपति को सरकारी तौर पर अपनी मौज़ूदगी से परहेज़ करना चाहिए। वर्ना, इस दुष्प्रचार का जोख़िम पैदा होगा कि शीर्ष पदों पर बैठे नेता ही संविधान के उन धर्मनिरपेक्ष मूल्यों का आदर नहीं कर रहे, जो धर्म और धार्मिक आस्थाओं को निहायत निजी चीज़ समझने की पैरवी करता है। दिलचस्प ये भी है कि नेहरू को तब जिन बातों का शक़ था, आज बिल्कुल वही काम नरेन्द्र मोदी और उनका संघ परिवार कर रहा है!

भगवा ख़ानदान हमेशा से ख़ुद को हिन्दुओं का इकलौता ख़ैरख़्वाह दिखाना चाहता है। इसीलिए गुजरात के प्रसिद्ध मन्दिरों में जाने पर राहुल गाँधी की खिल्ली उड़ाई जाती है। इसे नाटक बताया जाता है। असली हिन्दू और नकली हिन्दू, हिन्दू या ग़ैर-हिन्दू जैसी फ़िज़ूल की बातों में लोगों को उलझाया जाता है। झूठ फैलाया जाता है कि सरदार पटेल और सुभाष चन्द्र बोस से नेहरू की ठनी रहती थी। इन्हें पता ही नहीं है कि उस दौर के नेताओं में मतभेदों के बावजूद साथ चलने, एक-दूसरे का आदर करने तथा सही मायने में देश को आगे रखने का बेजोड़ संस्कार था। इन्हीं संस्कारों की वजह से काँग्रेस पार्टी दशकों तक जनता की चहेती बनी रही। उस दौर के नेता छिटपुट मतभेद के बावजूद एक-दूसरे के गुणों का बहुत आदर करते थे। तभी तो सुभाष चन्द्र बोस ने आज़ादी मिलने से काफ़ी पहले महात्मा गाँधी से कह दिया था कि आज़ाद हिन्दुस्तान का पहला प्रधानमंत्री बनने की सर्वोच्च क्षमता जवाहर लाला नेहरू में ही है!

सचमुच, #मोदीजी_बदहवास हो गये हैं! इसीलिए वो सच्चाई को ऐसे तोड़-मरोड़ पेश करते हैं, जिसे विरोधियों का चरित्रहनन किया जा सके। गुजरातियों को मोदी बरगला रहे हैं कि इन्दिरा गाँधी उनके राज्य को इस क़दर नापसन्द करती थीं कि 1979 में वो जब मोरबी शहर में पहुँची तो उन्होंने मुँह पर रूमाल रख लिया था। मोदी ने इस मिसाल को जैसे पेश किया वो निहायत शर्मनाक और गरिमा-रहित है। क्योंकि सच्चाई ये है कि मच्छू डैम टूटने (1979) के वक़्त मोरबी में बहुत बदबू फैली हुई थी। क्योंकि हज़ारों इंसान और पशु हादसे में मारे गये थे। चारों ओर लाशें सड़ रही थीं। महामारी का ख़तरा था। तब सरकार ने राहत और बचाव के काम में सभी लोगों के लिए मुँह पर रूमाल बाँधकर रखना अनिवार्य कर दिया था। इसी वजह से तब स्वयंसेवकों को भी मुँह पर रूमाल बाँधना पड़ा था। दिलचस्प ये भी है कि ख़ुद नरेन्द्र मोदी भी तब गुजरात में ही थे और एक स्वयंसेवक थे।

Continue Reading
Advertisement
Election Himachal
चुनाव39 mins ago

हिमाचल चुनाव : कई सीटों पर कांटे की टक्कर के बाद जीते नेता

satti dhumal
चुनाव1 hour ago

हिमाचल चुनाव : भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष व मुख्यमंत्री उम्मीदवार हारे

Himachal Pradesh Assembly Election
चुनाव2 hours ago

हिमाचल चुनाव : 2 निर्दलियों ने भाजपा उम्मीदवारों को हराया

Mamata Banerjee
राजनीति2 hours ago

गुजरात की जीत भाजपा की ‘नैतिक हार’ : ममता

Banarasi saree
व्यापार2 hours ago

बनारसी साड़ी व कालीन उद्योग पर जीएसटी का कहर

PM Modi
राजनीति2 hours ago

गुजरात चुनाव में जीत के बाद मोदी ने दिया नारा, ‘जीतेगा भाई जीतेगा विकास ही जीतेगा’

arun-yadav
चुनाव3 hours ago

जनादेश स्वीकार्य, मगर मोदी का तिलिस्म टूटा : कांग्रेस

gujrat election
राजनीति3 hours ago

मोदी के गृहनगर में बीजेपी को मिली हार

sanjay raut
राजनीति3 hours ago

गुजरात चुनाव में बीजेपी की जीत पर शिवसेना ने कसा तंज, कहा पार्टी की अपेक्षा के मुकाबले जीत नहीं

rahul-gandhi
राजनीति4 hours ago

कांग्रेस की सबसे बड़ी ताकत उसकी शालीनता और साहस है: राहुल गांधी

श्रीनगर
अंतरराष्ट्रीय2 weeks ago

श्रीनगर में अमेरिका के विरोध में प्रदर्शनों के मद्देनजर आंशिक प्रतिबंध

redlipstick
लाइफस्टाइल3 days ago

चाहिए स्‍मार्ट लुक तो ट्राई करें ये लिपशेड…

pr
लाइफस्टाइल3 days ago

इस अंडरग्राउंड शहर में उठाएं जिंदगी का लुत्फ

makeup
लाइफस्टाइल4 weeks ago

सर्दियों में यूं करें मेकअप

लाइफस्टाइल4 weeks ago

पुरानी साड़ी का ऐसे करें दोबारा इस्तेमाल

Kapil Sibal
ओपिनियन3 weeks ago

दमनकारी विचारधारा के ज़रिये आस्था के नाम पर भय फैलाना बेहद ख़तरनाक है

modi-narendra-gujarat
ब्लॉग3 weeks ago

गुजरात में दिख रहे संघियों के दोमुँही बातों का इतिहास भी बेहद शर्मनाक रहा है!

Narendra Modi
ब्लॉग2 weeks ago

ज़िम्मेदारी लेने के नाम पर भी देश को बेवकूफ़ ही बना रहे हैं नरेन्द्र मोदी…!

india vs srilanka1
खेल2 weeks ago

दिल्‍ली टेस्‍ट ड्रा, भारत ने जीती 1-0 से सीरीज

Narendra Modi
ओपिनियन2 weeks ago

साफ़ दिख रहा है कि गुजरात की बयार देख बदहवास हो गये हैं मोदी…!

मनोरंजन3 days ago

अक्षय की फिल्म पैडमैन का ट्रेलर रिलीज

jammu and kashmir snowfall
राष्ट्रीय6 days ago

बारिश और बर्फबारी के बाद जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग बंद

saif-ali-khan
मनोरंजन2 weeks ago

सैफ की फिल्म ‘कालाकांडी’ का ट्रेलर रिलीज

bharuch rally
चुनाव2 weeks ago

पीएम की रैली में खाली पड़ी रहीं कुर्सियां!

kirron kher
शहर3 weeks ago

चंडीगढ़ रेप केस पर सांसद किरण खेर का बेतुका बयान, देखें वीडियो

sibal3
राजनीति3 weeks ago

असली हिन्‍दू नहीं हैं पीएम मोदी, उन्‍होंने सिर्फ हिन्‍दुत्‍व को अपनाया: कपिल सिब्‍बल

West Bengal
शहर3 weeks ago

कोलकाता के कारखाने में आग, कोई हताहत नहीं

NASA Super sonic parachute
टेक4 weeks ago

देखें मंगल 2020 मिशन के लिए नासा का पहला सफल पैराशूट परीक्षण

fukry
मनोरंजन4 weeks ago

‘फुकरे रिटर्न्स’ का दूसरा गाना रिलीज

Jammu Kashmir
शहर1 month ago

जम्मू कश्मीर: पीर पंजाल में भारी बर्फबारी, कई रास्ते बाधित

Most Popular