खेल

आखिर किसके दबाव में हुआ हॉकी कोच का फैसला, अनुभवहीन मारिन बने कोच

indian-hockey-team
फाइल फोटो

भारतीय हॉकी में हैरान करने वाले फैसले ना हों ऐसा हो नहीं सकता.. नाटकीय अंदाज़ में पहले हॉकी कोच ओल्टमंस की विदाई हुई और फिर अचानक ही एक ऐसे विदेशी कोच को पुरुष टीम का कोच बना दिया गया जिसको सीनियर टीम की कोचिंग का अनुभव तक नहीं है…

 यही नहीं हॉकी टीम का कोच पद किसे सौंपा गया है कि इस देश के नए खेल मंत्री राज्यवर्धन राठौड़ ने ट्विटर के जरिए बताया- उनहोंने ट्वीट किया कि भारतीय पुरुष सीनियर हॉकी टीम के कोच शोर्ड मारिन होंगे… इसी के साथ हरेंद्र सिंह को महिला टीम का चीफ कोच बनाने का फैसला किया है.

मामला बेहद दिलचस्प और पेचीदा है..

कोच पद के लिए अप्लाई करने की आखिरी तारीख 15 सिंतबर थी लेकिन यहां किसी को अप्लाई करने का मौका तक नहीं दिया गया. हॉकी इंडिया के एक अधिकारी के मुताबिक सात सितंबर को मीटिंग के बाद तय किया गया कि फैसला अभी कर दिया जाए…

इसमें हैरानी वाली बात ये भी है कि हॉकी इंडिया के बजाए इस बार कोच चुने जाने की घोषणा खेल मंत्री ने की… उसके बाद खेल मंत्रालय से आधिकारिक तौर पर मेल के जरिए जानकारी दी गई… ऐसा आज तक पहले कभी नहीं हुआ कि हॉकी के कोच पर फैसले को लेकर या तो खेल मंत्री या फिर खेल मंत्रालय की तरफ से आधिकारिक घोषणा हुई हो…

 अब ये भी जान लीजिए कि कोच आखिर बनाया किसे गया है… भारतीय पुरुष हॉकी टीम की जिम्मेदारी शोर्ड मारिन को दी गई है.. ये एक ऐसे कोच हैं जिन्हों ने सीनियर पुरुष टीम की कोचिंग तक नहीं की… मारिन इससे पहले नीदरलैंड्स की अंडर-21 पुरुष टीम के कोच रहे चुके हैं…

उधर भारतीय जूनियर हॉकी वर्ल्ड कप दिलाने वाले हरेंद्र सिंह को महिला टीम की जिम्मेदारी सौंपी गई है. जिनके पास भी कभी महिला टीम को संभालने का अनुभव नहीं है..

यानी अब तक की प्रकिया में जो कुछ भी हुआ वो अचरज भरा ही है.. यानी एक बार फिर भारतीय हॉकी में हुआ सब कुछ हैरानी भरा  ही है लेकिन इस बार फर्क सिर्फ इतना है कि इस प्रकिया का तरीका बदला हुआ है…

wefornews bureau

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top