Connect with us

स्वास्थ्य

असम में नई पीढ़ी को अपंग बना रहा जहरीला पानी

Published

on

Polluted Water

नई दिल्ली, 13 मई | पानी के मोल पर फिल्म ‘रोटी कपड़ा और मकान’ के लिए गीतकार संतोष आनंद ने बेहद खूबसूरत बोल लिखे थे – ‘पानी रे पानी तेरा रंग कैसा, भूखे की भूख और प्यास जैसा।’

लेकिन उपभोक्तावादी समाज के स्वार्थ ने अमृत समान पानी को इतना मैला कर दिया कि अब यह प्यास तो बुझा रहा है, लेकिन साथ में दे रहा है धीमी मौत।

जहरीले पानी की समस्या के कारण असम के केवल होजई में ही पिछले छह साल के भीतर पांच साल से कम आयु के एक हजार से अधिक बच्चे फ्लोरोसिस के कारण अपंग हो चुके हैं।

Image result for water pollution effects

WATER POLLUTION HUMAN IMPACT

असम पब्लिक हेल्थ इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट (पीएचईडी) के अधिकारियों के मुताबिक, फ्लोराइड से दूषित होने पर पानी जहरीला हो जाता है और यही बच्चों को अपंगता के दलदल में धकेल रहा है। असम के 11 जिलों में पानी में फ्लोरिन का स्तर तय सीमा (1 मिलीग्राम प्रति लीटर) से अधिक पाया गया है, जिस कारण अनुमानित तौर पर 3,56,000 लोग खतरे के उच्च बिंदु पर हैं। विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि अगर आपात कदम नहीं उठाए गए, तो इसके परिणाम भयावह होंगे।

Related image

असम के पीएचईडी विभाग के अतिरिक्त मुख्य अभियंता नजीबुद्दीन अहमद के मुताबिक, “होजई जिले में पिछले कुछ वर्षो के दौरान पांच साल से कम उम्र के एक हजार से अधिक बच्चे अपंग हो चुके हैं।”

होजई असम के सबसे बड़े शहर गुवाहाटी से 170 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में स्थित है।

भूजल के इस्तेमाल में बढ़ोतरी होने के साथ ही फ्लोराइड प्रदूषण का खतरा हालिया वर्षो में केवल होजई ही नहीं, बल्कि राज्य में हर जगह बढ़ा है।

Image result for fluoride pollution in india

अहमद ने कहा, “अगर अतीत की ओर रुख करें, तो लोग पेयजल के लिए सतह पर मौजूद जलस्रोतों पर निर्भर थे। लेकिन आज की तारीख में केवल 15 फीसदी आबादी सतह पर मौजूद जलाशयों पर निर्भर है, जबकि 85 फीसदी आबादी के लिए पेयजल का मुख्य स्रोत भूजल है। चूंकि जल स्तर घटता जा रहा है, इसलिए फ्लोराइड जैसे खनिजों की सांद्रता भूजल में बढ़ती जा रही है, जिससे पेयजल के फ्लोराइड से प्रदूषित होने का खतरा भी बढ़ गया है।”

स्थानीय गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) एन्वायरन्मेंट कंजर्वेशन सेंटर के सचिव धरानी सैकिया के मुताबिक, “फ्लोराइड जल में पाया जाने वाला स्वाभाविक खनिज है, लेकिन जलवायु में हो रहे परिवर्तन की वजह से इसकी मात्रा बढ़ती जा रही है।”

बारिश न होने के कारण पानी जमीन के अंदर नहीं जा पा रहा, जिससे भूजल स्तर गिरता जा रहा है। पेड़ों की अंधाधुंध कटाई ने समस्या को और विकराल कर दिया है।

सैकिया ने कहा, “बारिश भरपूर होती है, तो फ्लोराइड की मात्रा सामान्य रहती है, लेकिन बारिश कम होने की वजह से इसका स्तर बढ़ता है।”

पानी के जहर बनने का एक अन्य कारण बोरिंग के लिए जमीन की खुदाई है। खुदाई के दौरान चट्टानें टूटती हैं और वे भूजल में मिल जाती हैं। चूंकि ये चट्टानें खनिज से भरपूर होती हैं, इसलिए पानी में फ्लोराइड की मात्रा बढ़ना स्वाभाविक है।

सैकिया ने कहा, “गुवाहाटी में पहले 150-200 फुट की गहराई में पानी निकल आता था, लेकिन शहर में कुकुरमुत्तों की तरह फ्लैट व हाउसिंग सोसायटी बनने के कारण पानी की खपत बढ़ गई। नतीजतन भूजल स्तर 250-300 फुट नीचे चला गया।”

असम में पानी के जहरीले होने के कारण का पता लगाने वाले पीएचईडी विभाग के पूर्व मुख्य अभियंता ए.बी. पॉल ने कहा कि उन्होंने दुर्घटनावश इसकी खोज की थी। साल 1999 में वे कार्बी आंगलोंग (फ्लोरोसिस से राज्य के सर्वाधिक प्रभावित जिलों में एक) जिले के तेकेलागुइन गांव के आधिकारिक दौरे पर गए थे, जिस दौरान उन्होंने एक लड़की देखी, जिसके दांतों की संरचना अजीब और धब्बेदार थी।

Image result for fluoride pollution in india

उन्होंने कहा, “कई लोगों ने डेंटल तथा स्केलेटल फ्लोरोरिस के लक्षण दिखाए। जांच करने पर मैंने पानी में फ्लोराइड का स्तर 5-23 मिलीग्राम प्रति लीटर पाया, जबकि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक, इसका स्तर एक मिलीग्राम प्रति लीटर होना चाहिए।”

सैकिया ने कहा, “एक अनौपचारिक सर्वेक्षण के मुताबिक, होजई जिले के 285 गांवों में 50,000 बच्चे फ्लोरोसिस (डेंटल या स्केलेटल) से प्रभावित हैं। नागांव तथा होजई में कुल 485 गांव फ्लोराइड प्रदूषण का शिकार है।”

इससे निपटने के प्रयासों के तहत पीएचईडी ने सीमा से अधिक फ्लोराइड वाले जल स्रोतों (जैसे ट्यूबवेल) को लाल रंग से चिन्हित किया है, ताकि लोग उस पानी का इस्तेमाल पेयजल या खाना बनाने के लिए न करें।

जल की जांच के लिए चार जिलों -कार्बी आंगलोंग, नागांव, होजई और कामरूप में प्रयोगशालाओं को उन्नत किया गया है। साथ ही कार्बी आंगलोंग, नागांव तथा कामरूप जिलों में सुरक्षित पेयजल के लिए रिंग वेल का निर्माण किया गया है और इनकी संख्या बढ़ाई जा रही है।

नागांव जिले के 11 ग्राम पंचायतों को ट्यूब वेल के लिए कोष का आवंटन किया था, जिन्हें अब रिंग वेल का निर्माण करने के लिए कहा गया है।

Image result for fluoride pollution in india

सैकिया होजई के खासकर आकाशीगंगा ग्राम पंचायत में बीमारी के इलाज के लिए खुद दवाएं बांट रहे हैं।

उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि इस समस्या का सबसे बेहतरीन समाधान प्रकृति की ओर लौटना है।”

(आंकड़ा आधारित, गैर परोपकारी, लोकहित पत्रकारिता मंच, इंडियास्पेंड के साथ एक व्यवस्था के तहत)

by : अजरा परवीन रहमान

–आईएएनएस

With the increase in the use of groundwater, the danger of fluoride pollution has not only increased in recent years, but also increased everywhere in the state.

स्वास्थ्य

गर्मियों में स्वस्थ रहने के लिए डाइट में शामिल करें टमाटर, जुकिनी, दही

Published

on

Tamatoes-

रसदार फल, सब्जियां और दही जैसे स्वस्थ खाद्य पदार्थ खाने से आप डिहाइड्रेशन, त्वचा की संवेदनशीलता,और साथ ही साथ विटामिन और खनिज की कमी जैसी गर्मियों की बीमारियों से दूर रह सकते हैं।

आत्मांतन वेलनेस सेंटर के वेलनेस डायरेक्टर मनोज कुट्टेरी और फिट्रिशन-न्यूट्रिशन फॉर लाइफ के संस्थापक और निदेशक राहिला हसन ने गर्मियों को मात देकर मौसम का आनंद लेने के कुछ उपाय बताए हैं?

-टमाटर : टमाटर एंटीऑक्सिडेंट्स और विटामिन सी से भरपूर होते हैं, उनमें लाइकोपीन जैसे फायदेमंद फाइटोकेमिकल्स भी होते हैं, जो पुरानी बीमारियों, विशेष रूप से कैंसर को ठीक करने में मदद करते हैं।

Image result for टमाटर

जुकिनी : जुकिनी में पेक्टिन नामक फाइबर होता है, जो दिल को स्वस्थ रखता है और कोलेस्ट्रॉल को कम करता है।

Image result for जुकिनी

तरबूज : यह आपको ठंडा और हाइड्रेटेड रखता है। पानी की भरपूर मात्रा के कारण इससे पेट भरा लगता है। साथ ही तरबूज में लाइकोपीन भी होता है, जो त्वचा की कोशिकाओं को सूर्य की क्षति से बचाता है।

Image result for तरबूज

संतरा : संतरा पोटेशियम से भरपूर होता है। यह पोषक तत्व गर्मियों में महत्वपूर्ण है। इसमें लगभग 80 प्रतिशत पानी होता है और यह मांसपेशियों की ऐंठन दूर करता है।

Image result for संतरा

दही : प्रोटीन से भरपूर दही गर्मियों में सेहत के लिहाज से काफी फायदा पहुंचाता है। इसमें मौजूद प्रोटीन आपकी भूख को शांत रखता है, जिससे आप नमकीन और उच्च कैलोरी से भरपूर स्नैक्स खाने से बचे रहते हैं। इससे आपके पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने के लिए मददगार बैक्टीरिया प्रोबियोटिक भी मिलते हैं।

Image result for दही

नींबू के साथ पुदीने का पानी : नींबू की दो बूंदों के साथ एक गिलास छना हुआ पुदीने का पानी अद्भुत काम करता है। यह लिवर की सफाई करता है और आपके मेटाबॉलिजम को मजबूत बनाता है।

Image result for नींबू

–आईएएनएस

Continue Reading

स्वास्थ्य

बार-बार उपवास से मधुमेह का खतरा

Published

on

-diabetes
File Photo

अगर आप अपने वजन को कम करने के लिए एक के बाद दो या तीन दिन के अंतराल पर उपवास कर रहे हैं, तो इससे मधुमेह का खतरा पैदा हो सकता है।

शोधकर्ताओं ने पाया है कि वजन घटाने के लिए हर दूसरे दिन उपवास करना चीनी विनियमन हार्मोन-इंसुलिन–के क्रियान्वयन को नुकसान पहुंचाता है, जिससे मधुमेह होने का खतरा बढ़ सकता है। इस शोध के निष्कर्ष को बार्सिलोना में ईसीई 2018 में इंडोक्राइनोलॉजी की वार्षिक बैठक प्रस्तुत किया गया।

इसमें सुझाव दिया गया कि उपवास आधारित आहाज दीर्घकालिक स्वास्थ्य जोखिमों से जुड़ा हो सकता है। ऐसे में वजन घटाने के कार्यक्रम के शुरुआत से पहले सावधानीपूर्वक विचार करना चाहिए। टाइप-2 मधुमेह एक बढ़ती वैश्विक महामारी है और यह अक्सर असंतुलित आहार व बैठने वाली जीवनशैली से जुड़ा है और इस तरह से यह मोटापे से जुड़ी हुई है।

ब्राजील के साओ पाउलो विश्वविद्यालय की शोध की लेखक अना बोनासा ने कहा, “यह पहला शोध है जो दिखाता है कि वजन घटाने के बावजूद रुक-रुक कर उपवास रहने वाले आहार से वास्तव में अग्नाशय को क्षति पहुंचती है और इससे सामान्य रूप से स्वस्थ व्यक्तियों में इंसुलिन के कार्य पर असर पड़ता है। इससे मधुमेह या स्वास्थ्य की गंभीर समस्याएं पैदा हो सकती हैं।”

–आईएएनएस

Continue Reading

स्वास्थ्य

निपाह वायरस से बचने के लिए अपनाएं ये उपाय

Published

on

nipah vish
केरल में नीपा वायरस तेजी से फैल रहा है। (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर )

केरल में फैले निपाह वायरस (एनआईवी) ने लोगों के बीच डर का माहौल बना दिया है। राज्य सरकार भले ही हालात पर काबू पाने का बखान कर रही है, लेकिन सवाल खुद को इस संक्रमण से बचाने का है।

हार्ट केयर फाउंडनेशन (एचसीएफआई) के अध्यक्ष डॉ. के. के. अग्रवाल ने निपाह वायरस के प्रकोप के बारे में कहा, “इस बीमारी के फैलने के साथ ही हमें एक और लड़ाई के लिए तैयार रहना है। यह एक प्रकार के चमगादड़ से फैलती है। संक्रमित जीवों के साथ सीधे संपर्क से बचने के अलावा, जमीन पर गिरे फलों का उपभोग करने से बचना जरूरी है।

यह स्थिति इसलिए भी मुश्किल हो जाती है, क्योंकि इस बीमारी के लिए अभी कोई टीका या दवा बाजार में उपलब्ध नहीं है।”उन्होंने कहा, “इसके इलाज का एकमात्र तरीका कुछ सहायक दवाइयां और पैलिएटिव केयर है। वायरस की इनक्यूबेशन अवधि 5 से 14 दिनों तक होती है, जिसके बाद इसके लक्षण दिखाई देने लगते हैं।

सामान्य लक्षणों में बुखार, सिर दर्द, बेहोशी और मतली शामिल होती है। कुछ मामलों में, व्यक्ति को गले में कुछ फंसने का अनुभव, पेट दर्द, उल्टी, थकान और निगाह का धुंधलापन महसूस हो सकता है।” डॉ. अग्रवाल ने बताया, “लक्षण शुरू होने के दो दिन बाद पीड़ित के कोमा में जाने की संभावना बढ़ जाती है।

वहीं इंसेफेलाइटिस के संक्रमण की भी संभावना रहती है, जो मस्तिष्क को प्रभावित करता है।” वायरस से बचाव के लक्षणों पर उन्होंने कहा, “सुनिश्चित करें कि आप जो खाना खा रहे हैं वह किसी चमगादड़ या उसके मल से दूषित नहीं हुआ हो। चमगादड़ के कुतरे हुए फल न खाए। पाम के पेड़ के पास खुले कंटेनर में बनी टोडी शराब पीने से बचें।

बीमारी से पीड़ित किसी भी व्यक्ति से संपर्क न करें। यदि मिलना ही पड़े तो बाद में साबुन से अपने हाथों को अच्छी तरह से धो लें।” डॉ. अग्रवाल ने कहा, “आमतौर पर शौचालय में इस्तेमाल होने वाली चीजें, जैसे बाल्टी और मग को खास तौर पर साफ रखें।

निपाह बुखार से मरने वाले किसी भी व्यक्ति के मृत शरीर को ले जाते समय चेहरे को ढंकना महत्वपूर्ण है। मृत व्यक्ति को गले लगाने से बचें और उसके अंतिम संस्कार से पहले शरीर को स्नान करते समय सावधानी बरतें।” उन्होंने कहा कि जब इंसानों में इसका संक्रमण होता है, तो इसमें एसिम्प्टोमैटिक इन्फेक्शन से लेकर तीव्र रेस्पिरेटरी सिंड्रोम और घातक एन्सेफलाइटिस तक का क्लिनिकल प्रजेंटेशन सामने आता है।

एनआईवी की पहचान पहली बार 1998 में मलेशिया के कैम्पंग सुंगई निपाह में एक बीमारी फैलने के दौरान हुई थी। यह चमगादड़ों से फैलता है और इससे जानवर और इंसान दोनों ही प्रभावित होते हैं।

–आईएएनएस

Continue Reading
Advertisement
congress
राजनीति8 mins ago

मध्‍यप्रदेश-राजस्‍थान में बीजेपी को झटका, कांग्रेस बना सकती है सरकार: सर्वे

congress
Uncategorized49 mins ago

तूतीकोरिन: कांग्रेस का मोदी पर निशाना, कहा- मुखर और प्रखर पीएम चुप क्यों हैं?

sanjay-jha-modi
राजनीति1 hour ago

कांग्रेस प्रवक्‍ता ने अपनी डिग्र‍ियां सार्वजनिक कर मोदी को दिया चैलेंज

PM Modi
राष्ट्रीय1 hour ago

मोदी सरकार के अच्छे दिन: बेरोजगारी में बांग्लादेश से भी पिछड़ा है भारत

Paresh-Rawal
राजनीति3 hours ago

पेट्रोल के दाम से जुड़ा पोस्‍टर किया शेयर तो परेश रावल को सोशल मीडिया ने सुनाई खरी-खोटी

sensex
व्यापार3 hours ago

सेंसेक्स में 318 अंकों की तेजी

patient
शहर3 hours ago

यूपी में डॉक्टर का दलित मरीज को छूने से इनकार, स्ट्रेचर से दिया धक्का

North Korea nuclear site
अंतरराष्ट्रीय3 hours ago

उत्तर कोरिया ने परमाणु परीक्षण सुरंगों को ‘उड़ाया’

almonds-walnuts-
व्यापार3 hours ago

गेहूं, बादाम व अखरोट पर बढ़ा आयात शुल्क

heat-wave_
शहर3 hours ago

दिल्‍ली समेत इन इलाकों के लिए लू का रेड अलर्ट

yashwant sinha
राष्ट्रीय1 week ago

कर्नाटक के नाटक से आहत यशवन्त सिन्हा, राष्ट्रपति भवन के बाहर धरने पर बैठे

ujjwala-Scheam
ज़रा हटके4 weeks ago

उज्जवला योजना : सिलेंडर मिला, गैस भरवाने के पैसे नहीं

HD Deve Gowda
राजनीति2 weeks ago

देवगौड़ा के गठबंधन वाले बयान से कांग्रेस को फायदा

Kamal Nath Sciendia
ब्लॉग4 weeks ago

मप्र कांग्रेस में अनुभवी और युवा का समन्वय

mohammad shami
खेल3 weeks ago

पुलिस-वकील के साथ शमी के घर पहुंचीं हसीन जहां

Ahmed-Patel
चुनाव2 weeks ago

कांग्रेस कर्नाटक में 115-120 सीटें जीतेगी : अहमद पटेल

Supreme_Court_of_India
ब्लॉग4 weeks ago

ज़रा देखिए तो कि न्यायपालिका के पतन की दुहाई कौन दे रहा है!

methi-
लाइफस्टाइल4 weeks ago

झड़ते बालों के लिए इस्‍तेमाल कीजिए ये घरेलू नुस्‍खा…

narendra modi wave in india
ब्लॉग1 week ago

मोदी-लहर का कच्चा चिट्ठा

Deputy CM Kavinder Gupta
ओपिनियन3 weeks ago

मोदी राज की सबसे ग़ैर-मामूली घटना है ‘रेपिस्ट समर्थक मंत्री बनो’ योजना…!

राष्ट्रीय3 days ago

दिल्ली से विशाखापट्टनम जा रही आंध्र प्रदेश एक्‍सप्रेस के 4 कोच में लगी आग

thug_ranjha
मनोरंजन3 days ago

‘ठग रांझा’ दुनियाभर में सबसे अधिक देखा गया भारतीय वीडियो

yashwant sinha
राष्ट्रीय1 week ago

कर्नाटक के नाटक से आहत यशवन्त सिन्हा, राष्ट्रपति भवन के बाहर धरने पर बैठे

kapil sibal
राजनीति2 weeks ago

कर्नाटक चुनाव: बीजेपी प्रत्‍याशी श्रीमुलु की उम्‍मीदवारी रद्द करने की कांग्रेस ने EC से की मांग

sanjay singh
राजनीति3 weeks ago

जिन्ना और श्यामा प्रसाद के ज़रिये संजय सिंह का बीजेपी पर करारा हमला

Sona Mohapatra
मनोरंजन3 weeks ago

सोना महापात्रा को छोटे कपड़ों में सूफी गाना गाने पर मिली धमकी

veere se wedding-
मनोरंजन4 weeks ago

करीना की फिल्म ‘वीरे दी वेडिंग’ का ट्रेलर लॉन्च

air india
शहर1 month ago

एयर इंडिया के प्लेन में उड़ान के दौरान गिरी खिड़की

gayle
खेल1 month ago

आईपीएल-11: गेल के शतक से पंजाब ने दर्ज की तीसरी जीत

neha kkar-
मनोरंजन1 month ago

नेहा कक्कड़ ने बॉयफ्रेंड हिमांश कोहली को बनाया ‘हमसफर’, देखें वीडियो

Most Popular